Greater Noida Latest News

आई.टी.एस. इंजीनियरिंग कॉलेज में महिलाओं और महिलाओं की सुरक्षा के मुद्दें पर अतिथि व्याख ्यान का आयोजन

आई.टी.एस. इंजीनियरिंग कॉलेज, ग्रेटर नोएडा में 22 अक्टूबर 2016 को आंतरिक शिकायत समिति (आई.सी.सी.) द्वारा एक अतिथि व्याख्यान का आयोजन किया गया जिसमें मुख्य अतिथि के रूप में डा0 ज्योत्सना चटर्जी, निदेषक – जोइंट महिलाओं कार्यक्रम द्वारा (श्रवपदज ॅवउमदष्े ब्वउउपेपवद) ’’महिलाओं और महिलाओं की सुरक्षा के मुद्दें के लिए पुरूषों की भागीदारी’’ (च्ंतजदमतेपच वि ॅवउमद ंदक डमद जव बनतइ टपवसमदबम ंहंपदेज ॅवउमद पद ैवबपमजल) पर व्यख्यान किया। इस कार्यक्रम का शुभारंभ संस्थान निदेशक, डा0 विनीत कंसल एवं कार्यक्रम की प्रमुख् अतिथि डा0 ज्योत्सना चटर्जी के द्वारा दीप प्रज्जवलित कर के किया गया।

इस कार्यक्र में निम्नलिखित समस्याओं पर चर्चा की गई जैसे औरतों के सामाजिक, राजनैतिक और सांस्कृतिक बचाव का उत्तरदायित्व केवल महिलाओं का ही नहीं, अपितु समान रूप से इनके विकास के लिए पुरूषों को भी अपने कर्तव्य का निर्वाहन करना चाहिए तभी महिलाओं की स्थिति सुधर सकती है एवं अगर समाज में नारी का समान रूप से सम्मान होगा, तभी राष्ट्र और समाज की समृद्धि सम्भव होगी। नारियें को केवल शाब्दिक रूप से सम्मान देने की बात बहुत की जाती है, परन्तु नर केन्द्रिक सत्ता महिलाओं को सही हक और उचित सम्मान दिलाने में आडे़ं आ जाती है। जब तक मनुष्य की मानसिकता में परिवर्तन नहीं होगा, तब तक केवल संवैधानिक रूप से नारियों के सम्मान होने की बात होती रहेगी।
आये दिन ऐसी खबरे सामने आती रही है कि नारियों का व्यापक रूप से शोषण किया जा रह है। उनके परिश्रम की तुलना में कम मजदूरी, प्रलोभन देकर स्त्री का शोषण किया जाता रहा है। दहेज एवं अन्य ऐसी बहुत सी समस्याओं का समाज में बोल-बाला है। यह हमारे समाज के लिए एक अभिशाप है, इसका निवारण तभी हो सकता है, जब नवयुवक समाज में व्यापक रूप से आन्दोलन कर इन समस्याओं को जड़ से समाप्त करने का प्रयास करेंगे।
अंत में आई.सी.सी. के अध्यक्ष, डा0 रश्मि गुप्ता, ने मुख्य अतिथि को स्मृति चिन्ह देकर आभार प्रकट करते हुए कार्यक्रम का समापन किया।

सावित्री बाई फूले बालिका इंटर कॉलेज में व र्कशॉप का आयोजन हुआ

आज ग्रेटर नॉएडा के कासना में स्थित सावित्री बाई फूले बालिका इंटर कॉलेज में शिक्षको के लिए वर्कशॉप का आयोजन किया गया। इस कार्यक्रम का संचालन श्रीमती वीणा भसीन ने किया। वीणा भसीन ने बताया की हमने 40 वर्षो से शिक्षक कार्यशालाओं का आयोजन करते आ चुके है । इस कार्यालय का विषय था एवेल्युशन एंड एसेसमेंट। और साथ ही बताया की इस वर्कशॉप में 15 स्कूलों की शिक्षिकों ने भाग लिया। सावित्री बाई फूले बालिका इंटर कॉलेज की प्रधानाचार्या श्री मति रीमाडे ने बताया की कार्यशाला के द्वारा छात्राओ में लिसनिंग स्पीकिंग का विकाश कराना भी अति आवश्यक है। छात्राओ को सही से मूल्यांकन कराना था।

आई.टी.एस. इंजीनियरिंग कॉलेज, में ’’इन्टरने ट ऑफ थिंगस’’ विषय पर अतिथि व्याख्यान का आयोजन

आज ग्रेटर नॉएडा के नॉलेज पार्क में स्थित आई.टी.एस. इंजीनियरिंग कॉलेज, में ’’इन्टरनेट ऑफ थिंगस’’ विषय पर अतिथि व्याख्यान का आयोजन किया गया ।21 अक्टूबर, 2016 को आई.टी.एस. इंजीनियरिंग कॉलेज के कम्प्यूटर साइंस विभाग ने ’’इन्टरनेट ऑफ थिंगस’’ विषय पर श्री कौशल कुमार द्वारा अतिथि व्याख्यान का आयोजन किया। कार्यक्रम का उद्घाटन माननीय अतिथि श्री कौशल कुमार का स्वागत डा. आशीष गुप्ता, अध्यक्ष, कम्प्यूटर साइंस एवं इनफारमेशन टेक्नोलॉजी विभाग ने गुलदस्ता प्रस्तुति के साथ किया। इसके उपरांत श्री देवेश गर्ग, सहायक प्रो0 – कम्प्यूटर साइंस विभाग ने श्री कुमार के बारे संक्षेप में जानकारी देते हुए बताया कि वह टेक्नॉलॉजिस्ट, प्रख्यात वक्ता एवं प्रशिक्षक हैं। श्री कुमार वर्तमान में ई.इनफोचिपस लि0 में तकनिकी प्रबंधक के रूप में कार्यरत है।इसके उपरांत माननीय अतिथि श्री कुमार ने अपना व्याख्यान में ’’इन्टरनेट ऑफ थिंगस’’ के बारे में विस्तार पूर्वक बताया। इसके उपरांत श्री कुमार ने विभिन्न आई.टी. के क्षेत्रों के बारे में विस्तार से बताया। श्री कुमार ने आई.टी. उद्योग में नौकरी पाने के लिए आई.टी. और गैर आई.टी. कौशल के बारे में छात्रों को सविस्तार बताया। उन्होंने विभिन्न कैरियर विकल्पों एवं नई प्रौद्यिगिकियों के बारे में बताया एवं उद्योंगों की जरूरत के अनुसार विभिन्न नवीन एवं कौशल सीखने की जरूरत पर बल दिया एवं अपने अनुभवों को सांझा करते हुए विद्यार्थियों को प्रेरित किया। इस व्याख्यान में संस्थान के विभिन्न विभागों के बी.टेक तृतिय एवं चतुर्थ वर्ष के विद्यार्थियों ने भाग लिया एवं प्रश्नों द्वारा अपनी जिज्ञासाओं का समाधान प्राप्त किया। अंत में कम्प्यूटर साइंस विभाग की सहायक प्रोफेसर, देवेस गर्ग ने श्री कौशल कुमार का आभार प्रकट किया एवं डा. आशीष गुप्ता, अध्यक्ष, कम्प्यूटर साइंस विभग ने समृति चिन्ह भेंट करते हुए कार्यक्रम का समापन किया।

गलगोटिया यूनिवर्सिटी में फ्रेशर पार्टी क ा हुआ आयोजन

आज ग्रेटर नॉएडा के गलगोटिया विश्वविद्यालय में सिनियर छात्रों के द्वारा प्रथम वर्ष के छात्रों के लिए फ्रेशर पार्टी आयोजित की गयी। जिसमें प्रतियोगिताओं के साथ डीजे नाईट का भी आयोजन किया गया। डीजे नाईट में आए सुपर सोनिक के डीजे रे, पेपर क्वीन, और अन्य ने अपनी अपनी धुनो व रिमिक्ष पर छात्रों को झूमने पर मजबूर कर दिया। पार्टी में मिस्टर फ्रेशर मयंक वर्मा तथा मिस0 फ्रेशर तान्या वर्मा को चुना गया। प्रतियोगिता जीतने के लिए डाँस, गायन, परिधान, एवं सामान्य ज्ञान जैसे चरणो से गुजरते हुए पास करना था। अंतिम चरण में पहुंचे बारह प्रतिभागीयों में से जजों ने विजेता को चुना।कार्यक्रम को लेकर छात्रों में उत्साह दिखाई दिया। रेनू लूथर प्रो0 वी0 सी0 गलगोटिया विश्वविद्यालय ने सभी छात्रों से कहा कि मनोरंजन के साथ, साथ शिक्षा में भी महनत की जरूरत है। आप सभी हर क्षेत्र में अच्छा करें और विश्वविद्यालय के साथ, साथ माता, पिता का नाम भी रोशन करें। विन्नी खन्ना माथूर डीन ऑफ स्टूडैंट अफेयर गलगोटियाज व शेखर, अभिषेक, अकांक्षा, आदि उपस्थित रहे।

डीपीएस स्कूल में सौगाते संस्कृति मेले का आयोजन

आज ग्रेटर नॉएडा में स्थित डीपीएस पब्लिक स्कूल में सौगाते संस्कृति मेले का आयोजन किया गया। मेले का मुख्य उद्देश्य विद्यार्थियों को अपने देश की संस्कृति से परिचित करना था ।कार्यक्रम में भारत के पूर्वोत्तर राज्यों की संस्कृति पर आधारित प्रदर्शनीए रैंप शोए मेले आदि का भी आयोजन किया गया। कार्यक्रम की तैयारी 2500 बच्चों ने अध्यापक.अध्यापिकाओं के साथ मिलकर की और श्इंडियन पवेलियनश् में प्रदर्शनीए स्टॉल आदि में अपने द्वारा बनाई चीज़ों को प्रदर्शित किया। इस अवसर पर बच्चों ने वर्लीए मधुबनीए रिलीफ़ए टाइ एंड डाइए पेपर मैसे आदि कलाओं से कलात्मक वस्तुएँ तथा चॉकलेट आदि बनाईं और उन्हें चैरिटी हेतु पैसे जुटाने के उद्देश्य से बिक्री के लिए रखा। कार्यक्रम में अंतर्विद्यालयी प्रतियोगिताओं का भी आयोजन किया गया जिसमें दिल्ली.एनसीआर के दस स्कूलों के लगभग 120 बच्चों ने भाग लिया। इस अवसर पर एक रंगारंग कार्यक्रम का भी आयोजन किया गया जिसमें उत्तर. पूर्वी राज्यों की अनुसूचित जन.जातियों पर आधारित रैंप शोए श्रीराम. केवट संवादए चेष्टा शिक्षा केंद्र के बच्चों की नृत्य एवं इंडो.जर्मन बच्चों की डाँडिया आदि प्रस्तुतियों ने उपस्थित दर्शकों को मंत्रमुग्ध कर दिया। कार्यक्रम में श्हम हैं निराले आदि प्रतियोगिताएँ भी आकर्षण का केंद्र रहीं। कार्यक्रम का उद्घाटन ज़िलाधिकारी श्री एनपीसिंह ने किया साथ ही ग्रेटर नोएडा के चेयरमैन प्रो बीपी खंडेलवाल एवं अन्य गणमान्य अतिथियों ने दीप प्रज्वलित करके किया।
अपने संबोधन में ज़िलाधिकारी श्री एनपी सिंह ने कहा कि अपनी संस्कृति के विषय में जिस समाज को ज्ञान नहीं होता वह समाज अपनी प्रगति के मार्ग को अवरुद्ध कर लेता है और ऐसे समाज की स्थिति जड़ कटे पेड़ के समान हो जाती है। उन्होंने यह भी कहा कि हमारी संस्कृति अंधविश्वास पर आधारित न होकर वैज्ञानिक तथ्यों पर आधारित है। इसके लिए उन्होंने नटराज की मूर्ति को सृष्टि में निर्माण ध्वंस व गतिशीलता का प्रतीक सिद्ध किया।उन्होंने कहा कि आज के बच्चों को अपनी संस्कृति की विशेषताओं से परिचित करवाना आवश्यक है। उन्होंने बच्चों के अंदर सांस्कृतिक जागरूकता व चेतना जगाने के लिए ऐसे कार्यक्रमों के आयोजन के लिए विद्यालय परिवार की प्रशंसा की।
डीपीएस ग्रेटर नोएडा के चेयरमैन प्रो बी पी खंडेलवाल ने कहा कि ऐसे सांस्कृतिक आयोजन भारतीय संस्कृति के प्रतिबिंबन का सुलभ अवसर प्रदान करते हैं।
अपने संबोधन में विद्यालय प्रधानाचार्या श्रीमती रेणु चतुर्वेदी ने कहा कि हमारी संस्कृति का आदर्श ष्वसुधैव कुटुम्बकमष है। ऐसे कार्यक्रमों से देश के भावी कर्णधारों के मन में अपने देश की महान संस्कृति के प्रति प्रेम की भावना जागती है। विविधताओं से भरी संस्कृति से लगाव उन्हें राष्ट्रीयता से ओतप्रोत करके आदर्श नागरिक बनाने में सहायक हो सकता है।
इस अवसर पर श्री आदित्य घिल्डियालए श्री कैलाश भाटीए श्री अशोक दरयानीए श्रीमती कीर्ति दरयानीए मुख्याध्यापक श्री नरेंद्र सिंह ए श्री डीण्एसण् यादव ए मुख्याध्यापिका मंजू वर्माए सामाजिक विज्ञान विभागाध्यक्षा श्रीमती माधुरी गुप्ता एवं अन्य अध्यापक. अध्यापिकाएँ उपस्थित थे।

आई.टी.एस. इंजीनियरिंग कॉलेज में रक्तदान शि विर का आयोजन

आई.टी.एस. इंजीनियरिंग कॉलेज, ग्रेटर नोएडा के सहयोग से रोटरी साहिबाबाद ब्लड बैंक द्वारा रक्तदान शिविर का आयोजन किया।दिनांक 21 अक्टूबर 2016 को आई.टी.एस. इंजीनियरिंग कॉलेज, ग्रेटर नोएडा में रोटरी साहिबाबाद ब्लड बैंक ने रक्तदान शिविर का आयोजन किया।
मुख्य अतिथि श्री कुमार विनीत, ए.डी.एम. (ई), गोत्मबुद्ध नगर एवं श्री राकेश शर्मा, वी.पी.-एच.आर. ने रक्तदान शिवर का उदघाटन रिबन काट कर किया। रक्त दान शिविर का आयोजन लाइब्रेरी केंन्द्रीय स्थान पर किया गया जिसमें डा. विनीत कंसल, निदेशक, आई.टी.एस. इंजीनियरिंग कॉलेज, ग्रेटर नोएडा, डा0 संजय यादव, डीन स्टूडेन्टस वैल्फेयर, विभागों के प्रमुख, अध्यपाकगण एवं विभिन्न विभागों के 250 से अधिक छात्रों ने रक्तदान किया। रक्तदान करके हम जीवन बचा सकते है क्योंकि खून धर्म, रंग रूप कुछ नहीं जानता, रक्त का योगदान करना अपने आप में बहुत बडा योगदान है। यह बहुत बड़ी बात है यदि कोई व्यक्ति जरूरत मंद को खून दे। अपने परिजनों रिस्तेदारों को रक्त देना तो मामुली है पर किसी एसे व्यक्ति को रक्त डोनेट करना जिसे हम नहीं जानते हो अलग ही अनुभव प्रदान करता है। श्री कुमार विनीत जी ने बताया की हम दूसरों की जिंदगी के बारे में सोचें व रक्त दान करें। इस कैम्प से छात्रों ने अपने नैतिक जिम्मेदारी समझते हुए बडे उत्साह से रक्त दान किया। इसके उपरांत सभी डोनर्स को प्रशंसा प्रमाणपत्र, रिफ्ररेसमेन्ट एवं रक्तदान करने का समृति चिन्ह रोटरी नोएडा ब्लड बैंक की ओर से दिये गये। अंत में रक्तदान शिविर के संयोजक श्री अभीषेक शिवहरे (वक्ता, सी.एस.ई. विभाग) ने सभी सहभागियों को बड़ी संख्या में भाग लेने के लिए धन्यवाद किया।

डीपीएस स्कूल में सौगाते संस्कृति मेले का आयोजन

आज ग्रेटर नॉएडा में स्थित डीपीएस पब्लिक स्कूल में सौगाते संस्कृति मेले का आयोजन किया गया। मेले का मुख्य उद्देश्य विद्यार्थियों को अपने देश की संस्कृति से परिचित करना था ।कार्यक्रम में भारत के पूर्वोत्तर राज्यों की संस्कृति पर आधारित प्रदर्शनीए रैंप शोए मेले आदि का भी आयोजन किया गया। कार्यक्रम की तैयारी 2500 बच्चों ने अध्यापक.अध्यापिकाओं के साथ मिलकर की और श्इंडियन पवेलियनश् में प्रदर्शनीए स्टॉल आदि में अपने द्वारा बनाई चीज़ों को प्रदर्शित किया। इस अवसर पर बच्चों ने वर्लीए मधुबनीए रिलीफ़ए टाइ एंड डाइए पेपर मैसे आदि कलाओं से कलात्मक वस्तुएँ तथा चॉकलेट आदि बनाईं और उन्हें चैरिटी हेतु पैसे जुटाने के उद्देश्य से बिक्री के लिए रखा। कार्यक्रम में अंतर्विद्यालयी प्रतियोगिताओं का भी आयोजन किया गया जिसमें दिल्ली.एनसीआर के दस स्कूलों के लगभग 120 बच्चों ने भाग लिया। इस अवसर पर एक रंगारंग कार्यक्रम का भी आयोजन किया गया जिसमें उत्तर. पूर्वी राज्यों की अनुसूचित जन.जातियों पर आधारित रैंप शोए श्रीराम. केवट संवादए चेष्टा शिक्षा केंद्र के बच्चों की नृत्य एवं इंडो.जर्मन बच्चों की डाँडिया आदि प्रस्तुतियों ने उपस्थित दर्शकों को मंत्रमुग्ध कर दिया। कार्यक्रम में श्हम हैं निराले आदि प्रतियोगिताएँ भी आकर्षण का केंद्र रहीं। कार्यक्रम का उद्घाटन ज़िलाधिकारी श्री एनपीसिंह ने किया साथ ही ग्रेटर नोएडा के चेयरमैन प्रो बीपी खंडेलवाल एवं अन्य गणमान्य अतिथियों ने दीप प्रज्वलित करके किया।
अपने संबोधन में ज़िलाधिकारी श्री एनपी सिंह ने कहा कि अपनी संस्कृति के विषय में जिस समाज को ज्ञान नहीं होता वह समाज अपनी प्रगति के मार्ग को अवरुद्ध कर लेता है और ऐसे समाज की स्थिति जड़ कटे पेड़ के समान हो जाती है। उन्होंने यह भी कहा कि हमारी संस्कृति अंधविश्वास पर आधारित न होकर वैज्ञानिक तथ्यों पर आधारित है। इसके लिए उन्होंने नटराज की मूर्ति को सृष्टि में निर्माण ध्वंस व गतिशीलता का प्रतीक सिद्ध किया।उन्होंने कहा कि आज के बच्चों को अपनी संस्कृति की विशेषताओं से परिचित करवाना आवश्यक है। उन्होंने बच्चों के अंदर सांस्कृतिक जागरूकता व चेतना जगाने के लिए ऐसे कार्यक्रमों के आयोजन के लिए विद्यालय परिवार की प्रशंसा की।
डीपीएस ग्रेटर नोएडा के चेयरमैन प्रो बी पी खंडेलवाल ने कहा कि ऐसे सांस्कृतिक आयोजन भारतीय संस्कृति के प्रतिबिंबन का सुलभ अवसर प्रदान करते हैं।
अपने संबोधन में विद्यालय प्रधानाचार्या श्रीमती रेणु चतुर्वेदी ने कहा कि हमारी संस्कृति का आदर्श ष्वसुधैव कुटुम्बकमष है। ऐसे कार्यक्रमों से देश के भावी कर्णधारों के मन में अपने देश की महान संस्कृति के प्रति प्रेम की भावना जागती है। विविधताओं से भरी संस्कृति से लगाव उन्हें राष्ट्रीयता से ओतप्रोत करके आदर्श नागरिक बनाने में सहायक हो सकता है।
इस अवसर पर श्री आदित्य घिल्डियालए श्री कैलाश भाटीए श्री अशोक दरयानीए श्रीमती कीर्ति दरयानीए मुख्याध्यापक श्री नरेंद्र सिंह ए श्री डीण्एसण् यादव ए मुख्याध्यापिका मंजू वर्माए सामाजिक विज्ञान विभागाध्यक्षा श्रीमती माधुरी गुप्ता एवं अन्य अध्यापक. अध्यापिकाएँ उपस्थित थे।

जी.एल. बजाज संस्थान परिसर में प्रवक्ताओं क े लिये सेमिनार का आयोजन

आज जी.एल. बजाज संस्थान परिसर में प्रवक्ताओं के लिये सेमिनार का आयोजन किया गया सेमिनार का विषय ‘‘आउट कम बेस्ड लर्निंग’’ था। सेमिनार में मुख्य वक्ता के रुप में बोलते हुये अर्चना तोषर ने कहा कि हमारी शैक्षिक पद्विति का मुख्य उद्देश्य छात्रों का निर्माण, बौद्विक विकास, भावनात्मक विकास तथा रोजगार परक शिक्षक देना है। उन्होने कहा कि अगर हम अपनी संस्कृति में देखें तो भारतीय शिक्षा पद्वति ने हमेशा इसी सिद्वांत पर जोर दिया है। उन्होनें कहा कि जो हमारी संस्कृति में हमेशा से था आज हम ही उसे भूल रहें है। किन्तु अगर हम अमेरिका, मलेशिया, फ्रांस आदि विकसित देशो को देखें तो हम पायेंगे कि विकसित देश आज रोजगार परक शिक्षा के साथ चरित्र निर्माण, भावनात्मक विकास तथा मुल्य परक शिक्षा पर जोर दे रहे है। उन्होने कहा कि खास कर वह सभी संस्थान जो टेकनिकल शिक्षा दे रहें है, उनके लिये यह अति आवश्यक है कि वह छात्रों के भावनात्मक विकास पर भी ध्यान दे। उन्होने कहा कि भावनात्मक विकास के बिना परिवार, समाज, देश तथा दुनिया में कभी भी खुशहाली नही आ सकती। उन्होने कहा की परमपरागत शिक्षा टीचर सेन्ट्रिक है जबकि आउट कम वेस्ड शिक्षा का सेन्टर छात्र है। परमपरागत शिक्षा में टीचर बताता है तथा छात्र याद करते है। जबकि आउट कम बेस्ड शिक्षा स्किल डेवलोपमेंन्ट पर जोर देती है। उन्होनें कहा कि आउट कम वेस्ड लर्निंग में टीचर छात्रों को सकारात्मक आलोचना के लिए प्रोत्साहित करता है। क्रीटिकल थिकिंग, रिजनिंग, रिफलेक्सन एण्ड एक्शन, आउट कम बेस्ड लर्निंग का आधार है। उन्होनें कहा कि यह छात्रों के विकास के लिए जरुरी है कि हम छात्रों के उन्दर इस मूल्यों का विकास करें। उन्होनें कहा कि प्रोफेसनल कॉलेजो में शिक्षक को फेसिलिटर की भूमिका निभानी चाहिये तथा छात्रों को आगे बढने में मदद करनी चाहिये। अर्चना तोषर अभी कॉलेज ऑफ इंजीनियरिंग, ऑर्गनाइजेशन में इलेक्ट्रीकल इंजीनीयरिंग विभाग की विभागाध्यक्ष है। कार्यक्रम की शुरुआत दीपक प्रज्वलित करके की गयी तथा संस्थान के चेयरमेन श्री पंकज अग्रवाल ने मुख्य वक्ता का स्वागत किया। संस्थान के निदेशक डॉ राजीव अग्रवाल ने धन्यवाद ज्ञापित किया। यह सेमिनार इलेक्ट्रीकल इंजीनीयरिंग विभाग द्वारा आयोजित किया गया। इलेक्ट्रीकल इंजीनीयरिंग विभाग के डीन डॉ एन.के. शर्मा का विशेष योगदान रहा।