आरटीआई की संभावनाएं एवं चुनौतियां विषय पर विचार गोष्ठी का आयोजन, डॉ योगेंद्र नारायण ने गोपनीयता कानून को आरटीआई में बताया सबसे बड़ा रोड़ा!

(27/03/2018)
ग्रेटर नोएडा : अंग्रेजों के जमाने के गोपनीयता कानून को समाप्त कर देना चाहिए। आरटीआई कार्यकर्ता जिनकी हत्याा हो रही है, उस पर गंभीरता से विचारकर उनको सुरक्षा मुहैया करानी चाहिए ताकि लोग निर्भय होकर आरटीआई के तहत सूचना प्राप्त कर सकें। ये बातें राज्य सभा के पूर्व महासचिव डॉ योगेन्द्रह नारायण ने नॉलेज पार्क 3 स्थित आईआईएमटी कॉलेज में ‘’सूचना का अधिकार-संभावनाए एवं चुनौतियां’’ विषय पर आयोजित संगोष्ठी में कही। आगे उन्होंंने कहा कि आरटीआई अभी सिर्फ शहरों तक सीमित होकर रह गया है, इसलिये ग्रामीण क्षेत्रों के लोगों को जागरुक करने के लिए सार्थक पहल करने की आवश्यीकता है। इसके पहले आईआईएमटी कॉलेज समूह के प्रबंध निदेशक मयंक अग्रवाल ने अतिथियों का स्वागत किया।

पदमश्री एवं वरिष्ठि संपादक डॉ अलोक मेहता ने कहा कि आरटीआई जानकारी प्राप्तव करने का बहुत अच्छा औजार है। लेकिन इसका दुरूपयोग नहीं होना चाहिए। आरटीआई के तहत अगर कोइ गलत जानकारी मिल रही है तो पत्रकार की जिम्मेादारी है कि खबर प्रकाशित करने से पहले उसकी सत्यलता की जांच कर ले। उन्होंदने कहा कि आरटीआई के माध्य म से सत्ताज हासिल कर दिल्ली् के मुख्यममंत्री बनने वाले अरिवंद केजरीवाल की ही सरकार मे पारर्दशिता नहीं है।
पूर्वमंत्री एवं भाजपा के प्रदेश उपाध्यिक्ष नवाब सिंह नागर ने कार्यक्रम की अध्यवक्षता की। उन्होंाने कहा कि आरटीआई आमजन के हित में बहुत सशक्त और उपयोगी कानून है, वक्ताीओं ने जो सवाल उठायें है वो बहुत जायज हैं। मैं उनकी मांग को सरकार तक प्रेषित करने और उसका समाधान कराने की कोशिश करूंगा ।

आईआईएमटी कॉलेज समूह के प्रबंध निदेशक मयंक अग्रवाल ने कहा कि आरटीआई ने आम लोगों को मजबूत और जागरूक बनाने में बहुत बड़ी भूमिका निभाई। आरटीआई जनता को सरकार से जुड़े सभी बातों को जानने का अधिकार देता है। उन्होंलने आये हुए अतिथियों का छात्रों के मार्गदर्शन करने के लिये धन्यवाद किया ।
आईआईएमटी कॉलेज ऑफ मैनेजमेंट के निदेशक डॉ राहुल गोयल ने आये हुए सभी अतिथियों का आभार व्यकक्तत किया एवं सभी छात्र-छात्राओं कों आरटीआई का सकारात्म क दिशा में उपयोग करने की सलाह दी।
पत्रकारिता एवं जनसंचार विभाग के डीन प्रो अनिल निगम ने आरटीआई की चुनौतियों के बारे में विस्तानर से बताया और विषय प्रवर्तन करते हुए अतिथियों के समक्ष सवाल रखे।

Leave a Reply