Greater Noida Latest News

Fog in NCR DELHI – DETAILED NEWS

Fog update :Once again, shallow fog enveloped most parts of Delhi-NCR with some areas observing clear conditions.

However, the visibility at the Palam Airport dropped down to a mere 50 metres at around 5:30 am. The conditions remained the same till 6:30 am. However, there was a slight improvement with the visibility being 100 metres at 7:00 am.

While most stations in Noida recorded shallow fog, Gurgaon, Ghaziabad and Faridabad observed clear sky conditions.

Other stations that recorded shallow fog include Udyog Bhawan, Yamuna Bank, Rajiv Chowk, Janak Puri East, and Dwarka.

Other areas of Delhi-NCR including Saket, Nagloi, Model Town, AIIMS, Jasola, Karol Bagh and Kashmere Gate recorded no fog.

However, temperatures have taken a dip and residents of Delhi observing the much awaited winter chill.

THOUGHT OF THE DAY BY UDIT GOYAL

> A Satisfied Life is better than a Successful Life..Because our Success is measured by others but our Satisfaction is measured by our own Heart & mind.
> संतुष्ट जीवन सफल जीवन से ज्यादा बेहतर होता है,
> क्योंकि हमारी सफलता का आकलन दूसरों के द्वारा किया जाता है मगर हम कितने संतुष्ट है इसका आकलन खुद हमारा दिल और दिमाग करता है।
> 😊💐🙏🏻सुप्रभात आपका दिन मंगलमय हो🙏🏻💐😊
> आपका उदित गोयल

SUPERHIT MOTIVATIONAL DIALOGOUES FROM 3 IDIOTS, CHAK DE ‘ INDIA , MARY KOM

> फिल्मों के 10 एेसे ही संवाद. ये आपको कहीं हिम्मत नहीं हारने देंगे और सफलता पाने का जज्बा हमेशा जगाए रखेंगे .
>
> 1. 3 Idiots:
> कामयाबी के पीछे मत भागो, काबिल बनो , कामयाबी तुम्हारे पीछे झक मार कर आएगी.
>
> 2. Dhoom 3:
> जो काम दुनिया को नामुमकिन लगे, वही मौका होता है करतब दिखाने का.
>
> 3. Badmaash Company:
> बड़े से बड़ा बिजनेस पैसे से नहीं, एक बड़े आइडिया से बड़ा होता है.
>
> 4. Yeh Jawaani Hai Deewani:
> मैं उठना चाहता हूं, दौड़ना चाहता हूं, गिरना भी चाहता हूं….बस रुकना नहीं चाहता .
>
> 5. Sarkar:
> नजदीकी फायदा देखने से पहले दूर का नुकसान सोचना चाहिए.
>
> 6. Namastey London:
> जब तक हार नहीं होती ना….तब तक आदमी जीता हुआ रहता है.
>
> 7. Chak De! India:
> वार करना है तो सामने वाले के गोल पर नहीं, सामने वाले के दिमाग पर करो..गोल खुद ब खुद हो जाएगा.
>
> 8. Mary Kom:
> कभी किसी को इतना भी मत डराओ कि डर ही खत्म हो जाए.
>
> 9. Jannat:
> जो हारता है, वही तो जीतने का मतलब जानता है.
>
> 10.Happy New Year:
> दुनिया में दो तरह के लोग होते हैं विनर और लूजर…लेकिन जिंदगी हर लूजर को एक मौका जरूर देती है जिसमें वह विनर बन सकता है..
>
> Stay motivated….😃

SUPERHIT MOTIVATIONAL DIALOGOUES FROM 3 IDIOTS, CHAK DE ‘ INDIA , MARY KOM

> फिल्मों के 10 एेसे ही संवाद. ये आपको कहीं हिम्मत नहीं हारने देंगे और सफलता पाने का जज्बा हमेशा जगाए रखेंगे .
>
> 1. 3 Idiots:
> कामयाबी के पीछे मत भागो, काबिल बनो , कामयाबी तुम्हारे पीछे झक मार कर आएगी.
>
> 2. Dhoom 3:
> जो काम दुनिया को नामुमकिन लगे, वही मौका होता है करतब दिखाने का.
>
> 3. Badmaash Company:
> बड़े से बड़ा बिजनेस पैसे से नहीं, एक बड़े आइडिया से बड़ा होता है.
>
> 4. Yeh Jawaani Hai Deewani:
> मैं उठना चाहता हूं, दौड़ना चाहता हूं, गिरना भी चाहता हूं….बस रुकना नहीं चाहता .
>
> 5. Sarkar:
> नजदीकी फायदा देखने से पहले दूर का नुकसान सोचना चाहिए.
>
> 6. Namastey London:
> जब तक हार नहीं होती ना….तब तक आदमी जीता हुआ रहता है.
>
> 7. Chak De! India:
> वार करना है तो सामने वाले के गोल पर नहीं, सामने वाले के दिमाग पर करो..गोल खुद ब खुद हो जाएगा.
>
> 8. Mary Kom:
> कभी किसी को इतना भी मत डराओ कि डर ही खत्म हो जाए.
>
> 9. Jannat:
> जो हारता है, वही तो जीतने का मतलब जानता है.
>
> 10.Happy New Year:
> दुनिया में दो तरह के लोग होते हैं विनर और लूजर…लेकिन जिंदगी हर लूजर को एक मौका जरूर देती है जिसमें वह विनर बन सकता है..
>
> Stay motivated….😃

Ompal Sharma Photo journalist passed away

फोटो जर्नलिस्ट ओमपाल शर्मा का निधन :

नोएडा।गौतमबुद्धनगर के सीनियर फोटो जर्नलिस्dट ओमपाल शर्मा का आज लंबे उपचार के बाद दिल्ली के दीनदयाल उपाध्याय अस्पताल में निधन हो गया। बीते साल दो दिसंबर की रात को आॅफिस से घर जाते समय सेक्टर-107 के पास उनका एक्सीडेन्ट हो गया था। उन्हें सर में गंभीर चोटे आयी थी। उन्हें प्राथमिक उपचार के लिए नोएडा के कैलाश अस्पताल में भर्ती कराया गया जहां से उनकी बिगड़ती हालत को देखते हुए दिल्ली के पंडित दीनदयाल अस्पताल में भर्ती कराया गया। घटना के समय से ही उनकी बिगड़ती हालत के मद्देनजर उन्हें वेटिलेटर पर रखा गया था। उनके करीबी मित्र श्री ललित मिश्रा ने बताया कल दोपहर मंगलवार को उनका अंतिम संस्कार उनके पैतृक गांव लौहसिंहानी बल्लभगढ़ में किया जाएगा।

हंसमुख व मिलनसार ओमपाल शर्मा के अचानक निधन ने उनके साथियों व सहकर्मियों को गहरा अघात पहुंचाया है। नोएडा के पत्रकारों व फोटो जर्नलिस्टो तथा प्रबुद्ध लोगों ने ओमपाल शर्मा के उपचार के लिए कदम भी बढ़ाये। जिलाधिकारी एनपी सिंह ने यूपी के मुख्यमंत्री से उपचार के लिए सहायता राशि देने का अनुरोध किया। सीएम ने भी उपचार के लिए फंड दिया। डाॅक्टरों, पत्रकारों व अफसरों की रात-दिन की भाग-दौड़ व प्रार्थना के बावजूद भी श्री शर्मा को बचाया नहीं जा सका। उनके दुःखद मौत की सूचना से समाचार जगत में शोक की लहर फैल गयी है। श्री शर्मा ने प्रेस फोटो ग्राफी की शुरूआत चेतना मंच से की थी। वह वर्ष 2000 से वर्ष 2008 तक चेतना मंच के साथ जुड़े रहे। इसके बाद उन्होंने दैनिक हिन्दुस्तान, नई दुनिया व नेशनल दुनिया नामक समाचार पत्रों में काम किया। वह मौजूदा समय में नेशनल दुनिया में कार्यरत थे। हमेशा खुश रहने वाले ओमपाल शर्मा पत्रकारिता जगत व समाज में एक अलग पहचान रखते थे। समाज का हर वर्ग उन्हें अपना समझता था।

Ompal Sharma Photo journalist passed away

फोटो जर्नलिस्ट ओमपाल शर्मा का निधन :

नोएडा।गौतमबुद्धनगर के सीनियर फोटो जर्नलिस्dट ओमपाल शर्मा का आज लंबे उपचार के बाद दिल्ली के दीनदयाल उपाध्याय अस्पताल में निधन हो गया। बीते साल दो दिसंबर की रात को आॅफिस से घर जाते समय सेक्टर-107 के पास उनका एक्सीडेन्ट हो गया था। उन्हें सर में गंभीर चोटे आयी थी। उन्हें प्राथमिक उपचार के लिए नोएडा के कैलाश अस्पताल में भर्ती कराया गया जहां से उनकी बिगड़ती हालत को देखते हुए दिल्ली के पंडित दीनदयाल अस्पताल में भर्ती कराया गया। घटना के समय से ही उनकी बिगड़ती हालत के मद्देनजर उन्हें वेटिलेटर पर रखा गया था। उनके करीबी मित्र श्री ललित मिश्रा ने बताया कल दोपहर मंगलवार को उनका अंतिम संस्कार उनके पैतृक गांव लौहसिंहानी बल्लभगढ़ में किया जाएगा।

हंसमुख व मिलनसार ओमपाल शर्मा के अचानक निधन ने उनके साथियों व सहकर्मियों को गहरा अघात पहुंचाया है। नोएडा के पत्रकारों व फोटो जर्नलिस्टो तथा प्रबुद्ध लोगों ने ओमपाल शर्मा के उपचार के लिए कदम भी बढ़ाये। जिलाधिकारी एनपी सिंह ने यूपी के मुख्यमंत्री से उपचार के लिए सहायता राशि देने का अनुरोध किया। सीएम ने भी उपचार के लिए फंड दिया। डाॅक्टरों, पत्रकारों व अफसरों की रात-दिन की भाग-दौड़ व प्रार्थना के बावजूद भी श्री शर्मा को बचाया नहीं जा सका। उनके दुःखद मौत की सूचना से समाचार जगत में शोक की लहर फैल गयी है। श्री शर्मा ने प्रेस फोटो ग्राफी की शुरूआत चेतना मंच से की थी। वह वर्ष 2000 से वर्ष 2008 तक चेतना मंच के साथ जुड़े रहे। इसके बाद उन्होंने दैनिक हिन्दुस्तान, नई दुनिया व नेशनल दुनिया नामक समाचार पत्रों में काम किया। वह मौजूदा समय में नेशनल दुनिया में कार्यरत थे। हमेशा खुश रहने वाले ओमपाल शर्मा पत्रकारिता जगत व समाज में एक अलग पहचान रखते थे। समाज का हर वर्ग उन्हें अपना समझता था।