जनपद दीवानी एव फौजदारी बार एसोसिएशन नोएडा ने मनाई विजय सिंह पथिक जयंती

आज जनपद दीवानी एव फौजदारी बार एसोसिएशन नोएडा दुवरा महान क्रांतिकारी विजय सिंह पथिक की जयंती एव चंद्रशेखर आजाद की पुण्यतिथि मनाई गयी।
जिसमे बार के अध्य्क्ष राजीव तोंगड एव कार्यकरिणी के साथ बाकी सभी अधिवक्तागण भी मौजूद रहे जिसपर *पूर्व सचिव डी. राहुल चौधरी एडवोकेट ने बताया कि विजय सिंह पथिक उर्फ़ भूप सिंह गुर्जर का जन्म 27 फ़रवरी 1882, एव भारत के एक प्रमुख स्वतंत्रता सेनानी थे। उन्हें राष्ट्रीय पथिक के नाम से भी जाना जाता है। उनका जन्म बुलन्दशहर जिले के ग्राम गुठावली कलाँ के एक गुर्जर परिवार में हुआ था। उनके दादा इन्द्र सिंह बुलन्दशहर स्थित मालागढ़ रियासत के दीवान थे जिन्होंने 1857 के प्रथम स्वतन्त्रता संग्राम में अंग्रेजों से लड़ते हुए वीरगति प्राप्त की थी।

पथिक जी के पिता हमीर सिंह गुर्जर को क्रान्ति में भाग लेने के आरोप में सरकार ने गिरफ्तार किया था। पथिक जी पर उनकी माँ कमल कुमारी और परिवार की क्रान्तिकारी व देशभक्ति से परिपूर्ण पृष्ठभूमि का बहुत गहरा असर पड़ा। युवावस्था में ही उनका सम्पर्क रास बिहारी बोस और शचीन्द्र नाथ सान्याल आदि क्रान्तिकारियों से हो गया था।1915 के लाहौर षड्यन्त्र के बाद उन्होंने अपना असली नाम भूपसिंह गुर्जर से बदल कर विजयसिंह पथिक रख लिया था। मृत्यु पर्यन्त उन्हें इसी नाम से लोग जानते रहे। मोहनदास करमचंद गांधी के सत्याग्रह आन्दोलन से बहुत पहले उन्होंने बिजौलिया किसान आंदोलन के नाम से किसानों में स्वतंत्रता के प्रति अलख जगाने का काम किया था।

Leave a Reply