बीटा सेक्टर एक शहर के पुराने सेक्टरों में शुमार है। कहने को तो 12 पार्क हैं। लेकिन अधिकतर पार्क कूड़ेदान में तब्दील हो चुके हैं। सेक्टर का एक पार्क वन विभाग ने गोद लिया है। वन विभाग द्वारा गोद लिए पार्क की हालत सबसे ज्यादा खस्ताहाल है। पार्क में कूड़े की वजह से उठने वाली बदबू आसपास के घरों में रहने वाले लोगों को भी परेशान करती है। सेक्टर के लोगों का आरोप है कि इस पार्क में पिछले कई वर्षों से कोई काम नहीं किया गया है। सेक्टरवासियों ने इसकी शिकायत कई बार प्राधिकरण अधिकारियों से भी की है। लेकिन अधिकारी नहीं चेते। अधिकारियों की अनदेखी की वजह से पार्क मौजूदा समय में कूड़ा घर में तब्दील हो गया है।

सेक्टरवासियों का कहना है कि यहां अराजक तत्वों का जमावड़ा रहता है। मौजूदा समय में पार्क में आवारा पशुओं के साथ कुत्ते, बंदर आदि जानवरों का बसेरा बन गया है। जिसकी वजह से यहां बच्चे असुरक्षित है। वन विभाग के साथ अधिकारियों को इस ओर ध्यान देना चाहिए। पार्क की स्थिति खस्ताहाल है। पार्क दिनों-दिन कूड़ेदान में तब्दील होते जा रहे हैं। यहां न हरी घास बची है और न ही बैठने के लिए बेंच। काफी परेशानी होती है। प्राधिकरण अधिकारियों से कई बार कहा गया है कि पार्क में काम कराया जाए, लेकिन कोई पहल नहीं की जाती है।