राजतिलक की करो तैयारी,,,,, भगवाधारी आया है ।
सत्य सनातन वैदिक धर्म का,,,, एक पुजारी आया है ।

हथियार हाथ में जब पकड़ा तो आप शिवाजी शान लगे ।
गोरखपुर में जब गरजे तो,,,,, भारत की पहचान लगे ।

राजपूताना साफा बांधा,,,,,,,,, पृथ्वीराज चौहान लगे ।
जब कन्या के पैर छुए तो,,,, संस्कार की खान लगे ।

गौ माता को चारा डाला, लगते कृष्ण कन्हाई से ।
भाषण तुमने किया शुरू तो लगे अटल परछाई से ।

शतरंज सियासी जब जीता तो विश्वनाथ आनंद लगे ।
जब तुमने भगवा पहना तो,,,, स्वयं विवेकानंद लगे ।

हे देवभूमि के लाल तुमहे पाकर गर्वित परिवेश हुआ ।
कुर्सी भी हरसायी है,,,,,,और धन्य हमारा देश हुआ ।

भगवधारी सब मंचों पर,,,,,,,,, सदा दिखाई देता हूँ ।
मैं कलमपुत्र एक अदना बालक तुम्हें बधाई देता हूँ ।

सत्ता बड़ी नशीली है,, तुम झूल ना जाना योगी जी ।
कर्तव्य सदा सब याद रहे तुम भूल ना जाना योगी जी ।

गौ की गर्दन पर चलती,,, वो पैनी छुरी भी याद रहे ।
रामलला जंहा खेले है ,,,, वो अवधपुरी भी याद रहे ।

अवैधनाथ जो संत हमारे,,, उनकी साख भी याद रहे ।
निर्दोष बहन जो मुस्लिम है,, वो तीन तलाक भी याद रहे ।

ना फैले उन्माद धर्म का,,,,, ना मजहबी अखाड़ा हो ।
नही मुज्जफरनगर चाहिए,,, नाही कोई बिसाडा हो ।

हर मंदिर से रोज़ सुबह,,, आरती जय जगदीश चले ।
अगर भावना हो आहत तो लप्पड़ उसके शीश चले ।

जो खोया सम्मान हमारा,,, उसे दिला दो योगी जी ।
श्रीराम जैसा यू. पी. में ,,, राज चला दो योगी जी ।

—कवि अमित शर्मा (गाँव सैनी-ग्रेटर नोएडा)
9818516189
9891516189
(कृपया नाम हटाने का पाप ना करे)