Tag Archive: #GBU

गौतम बुद्ध विश्वविद्यालय बना बोलीवुड निर्माताओं की पसंद, परिसर में चल रही फिल्म की शूटिंग

ग्रेटर नोएडा स्थित गौतम बुद्ध विश्वविद्यालय एक विशाल क्षेत्र में फैला हुआ संस्थान है । विश्वविद्यालय परिसर काफी हरा भरा है, और एक विशाल क्षेत्रफल में फैली हुई है। यहाँ की विशाल इमारतें जो बौद्ध वास्तुकला का एक अदभुत नमूनाे पेश करता है। साथ ही विश्वविद्यालय को एक विशिष्ट पहचान देती हैं। ये अनोखापन ही विश्वविद्यालय को एक अलग पहचान देता है। जीबीयू की ये अनोखी पहचान बॉलीवुड के फिल्म निर्माताओं को फिल्म शूटिंग के लिए ग्रेटर नोएडा में गौतम बुद्ध विश्वविद्यालय को चुनने के लिए आकर्षित कर रहे हैं।
बॉलीवुड हिंदी फिल्म छपाक की शूटिंग गौतम बुद्ध विश्वविद्यालय में चल रही है। छपाक मेघना गुलजार द्वारा निर्देशित, एक आगामी हिंदी फिल्म है। इसमें दीपिका पादुकोण और विक्रांत मैसी मुख्य कलाकार हैं, और यह एसिड अटैक सर्वाइवर लक्ष्मी अग्रवाल के जीवन पर आधारित है।
इस फिल्म का कुछ हिस्सा गौतम बुद्ध विश्विद्यालय के परिसर में शूट किया गया है। यह फिल्म अगले वर्ष रिलीज़ होने वाली है। फिल्म की शूटिंग पिछले दो दिनों से विश्वविद्यालय परिसर चल रही है। खास कर प्रशासनिक भवन के आस-पास के इलाके में ही शूटिंग हो रही है। पिछले कुछ वर्षों से विश्वविद्यालय में काफी फिल्मों की शूटिंग होती आ रही है। बेबी, किल-दिल, परमाणु जैसी फिल्मों की शूटिंग पहले यहाँ हो चुकी है ।

जीबीयू में हर वर्ष भारतीय सांस्कृतिक विरासत कार्यक्रम किए जाएंगे आयोजित

Greater Noida (30/03/19) : गौतम बुद्ध विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो भगवती प्रकाश के दिशा-निर्देश मे यह निर्णय लिया है कि विश्वविद्यालय हर वर्ष भारतीय सांस्कृतिक विरासत कार्यक्रम के तहत भारतीय परम्परा एवं संस्कृति से छात्रों को रुबरू करने के उद्देश्य से कार्यक्रम बडे हर्ष एवं उल्लास और बिना किसी भेदभाव के मनाया जाएगा।
भारतीय सांस्कृतिक विरासत कार्यक्रम को छात्रों के बीच एक श्रृंखला के रूप में हर वर्ष आयोजन किया जाएगा। इस श्रृंखला में आज का कार्यक्रम एक मील का पत्थर साबित होगा। काफी विचार विमर्श एवं मंथन के पश्चात इस वर्ष का विषय-वस्तु ‘उतर पूर्व भारत की सांस्कृतिक विरासत को छात्रों के बीच परोसने का निर्णय लिया गया है। इसके लिए आयोजकों ने दिल्ली और उसके आसपास के विश्वविद्यालयों को समपर्क किया गया एवं उनसे अनुरोध किया गया कि वो अपने अपने विश्वविद्यालय में शिक्षा ग्रहण कर रहे उतर पूर्व भारत के छात्रों को इस कार्यक्रम रूपी  उत्सव में शामिल होने के लिए प्रोत्साहित करें । इस अवसर पर दिल्ली एवं नॉलेज पार्क के कई शिक्षण संस्थानों के छात्रों ने हिस्सा लिया।
गौतम बुद्ध विश्वविद्यालय इस कार्यक्रम के माध्यम से हिमालय और उत्तर-पूर्व भारतीय राज्यों में सांस्कृतिक परंपराओं से छात्रों को हिमालय की सांस्कृतिक विरासत को बढ़ावा देना, संरक्षित करने एवं उससे रूबरू होने का मौका मिला।
 उत्तर प्रदेश के मुख्य सूचना आयुक्त सुभाष चंद्र सिंह, उद्घाटन सत्र के मुख्य अतिथि रहे। मुख्य अतिथि ने उतर पूर्व भारतीय सांस्कृतिक विरासत को इस तरह से छात्रों के बीच परोसने की सराहना करते हुए कहा कि इससे छात्रों को परिचित होने अवसर ही नहीं मिला अपितु एक दूसरे को अच्छी तरह से समझने का भी अवसर मिला । यह एक बहुत ही मनोरंजक कार्यक्रम रहा। इस कार्यक्रम मेंविश्वविद्यालय़ी के छात्रों एवं शिक्षकों तथा कर्मचारियो ने बडी संख्या सहभागिता की।
उत्तर पूर्व भारत  में 7 सन्निहित राज्य अरुणाचल प्रदेश, असम, मेघालय, मणिपुर, मिजोरम, नागालैंड और त्रिपुरा शामिल हैं, इसलिए इसे भारत के सेवन सिस्टर स्टेट्स के रूप में भी जाना जाता है।
कुलपति प्रो भगवती प्रकाश शर्मा ने कहा कि भारत में विशाल प्राकृतिक संसाधनों और विभिन्न लोगों और संस्कृतियों की एक मिश्रण देखने को मिलता है।
उतर पूर्व भारतीय भु-भाग एक ऐसा जगह है जहाँ प्राचीन भारतीय सांस्कृतिक विरासत को आज भी वहाँ के लोगों के जीवन शैली में देखी जा सकती है।
भारत का यह भाग अपनी विशिष्ट संस्कृति और पारंपरिक जीवन शैली के लिए जाना जाता है। उत्तर पूर्व क्षेत्र हिंदू, ईसाई, मुस्लिम और बौद्ध धर्म की मिश्रित संस्कृति प्रदान करता है, बौद्ध सांस्कृतिक एक महत्वपूर्ण स्थान है और अन्य धर्मों की तुलना में बड़ी संख्या में जातीय समूह हैं। इन राज्यों के प्रत्येक आदिवासी समूह की अपनी अनूठी आदिवासी संस्कृति, आदिवासी लोक नृत्य और भोजन और शिल्प हैं।
कुलपति प्रो भगवती प्रकाश शर्मा ने यह घोषणा की कि कोई भी उतर पूर्व के छात्र चाहे वो किसी भी विश्वविद्यालय के छात्र हो वो हमारे विश्वविद्यालय में किसी भी प्रकार की मदद के लिए आमंत्रित है।

गौतम बुद्ध विश्वविद्यालय व राष्ट्रीय इलेक्ट्रॉनिकी एवं सूचना प्रौद्योगिकी संस्थान के बीच हुआ समझौता

गौतम बुद्ध विश्वविद्यालय व राष्ट्रीय इलेक्ट्रॉनिकी एवं सूचना प्रौद्योगिकी संस्थान के बीच हुआ समझौता
सूचना प्रौद्योगिकी व आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस सहित विविध डिजिटल टेक्नोलॉजी के क्षेत्र में प्रोफेशनल डेवलपमेंट, संयुक्त अनुसंधान एवं अन्य क्षेत्रों में पारस्परिक सहयोग के लिए गौतम बुद्ध विश्वविद्यालय एवं राष्ट्रीय इलेक्ट्रॉनिकी एवं सूचना प्रौद्योगिकी संस्थान (NIELIT) के बीच समझौता किया गया।
समझौते की शर्तों के अधीन गौतम बुद्ध विश्वविद्यालय में आधुनिक सूचना प्रौद्योगिकी के विभिन्न पाठ्यक्रमों के लिए एफ डी पी एवं छात्रों के प्रशिक्षण हेतू NIELIT सभी प्रकार की उन्नत सुविधाएं विश्वविद्यालय को प्रदान करेगा।
इस समझौते के फलस्वरूप देश की कई ख्यातनाम कंपनियों से भी विश्विद्यालय को टेक्निकल सपोर्ट प्राप्त होगा। विश्विद्यालय आगामी सत्र से आर्टिफिशियल इंटेलीजेंस, बिग डेटा एनालिटिक्स, मशीन लर्निंग, ब्लॉक चैन व डेटा साइंस जैसे कई महत्वपूर्ण पाठ्यक्रम शुरू कर रहा है। ये पाठ्यक्रम गौतम बुद्ध विश्वविद्यालय के छात्रों को ऐसे नवीनतम विषयों में तकनीकी दक्षता प्रदान करेंगे व छात्रो की रोजगारपरकता को बढ़ाएंगे।
इस मौके पर गौतम बुद्ध विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो० भगवती प्रकाश शर्मा व NIELIT के महानिदेशक डॉ जयदीप कुमार मिश्रा ने अपने विचार साझा किए।

जीबीयू की इकाई के द्वारा विशेष साप्ताहिक शिविर का आयोजन

जीबीयू की इकाई के द्वारा विशेष साप्ताहिक शिविर का आयोजन
ग्रेटर नोएडा के कासना स्थित गौतम बुद्ध विश्वविद्यालय के अंतर्गत राष्ट्रीय सेवा योजना की इकाई  प्रथम के विशेष साप्ताहिक शिविर का आयोजन 9 से 15 मार्च तक गाँव जगनपुर  में आयोजन किया जा रहा है। जिसमें स्वयंसेवकों द्वारा गांव जगनपुर में घर-घर जाकर मुख्यतः  बीस  बिंदुओं पर आधारित तथा परिवार प्रति परिवार का मूलभूत सर्वेक्षण किया गया।
जिसमें भारत सरकार के द्वारा चल रही योजनाओं का विवरण जैसे जन धन योजना, बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ, प्रधानमंत्री उज्जवल योजना, स्वच्छ भारत अभियान, सुकन्या समृद्धि योजना ,अटल पेंशन योजना, आयुष्मान भारत योजना, किसान समृद्धि योजना, सोर्स ऑफ वाटर ,सोर्स ऑफ एनर्जी एंड पावर, लैंडहोल्डिंग इंफॉर्मेशन ,एग्रीकल्चर प्रोड्यूस मेजर प्रॉब्लम्स इन विलेज सम्मिलित है।
एनएसएस के स्वयंसेवकों द्वारा सरकारी प्राथमिक विद्यालय जगनपुर में छात्रों को बेसिक मैथमेटिक्स, साइंस ,इंग्लिश के साथ साथ जनरल नॉलेज की जानकारी दी गई। यह विशेष शिविर का आयोजन राष्ट्रीय सेवा योजना के कोऑर्डिनेटर डॉक्टर सुशील कुमार डॉ भावना  जोशी व यश शर्मा के मार्गदर्शन में एनएसएस के स्वयंसेवकों द्वारा आयोजन किया जा रहा है।

गौतमबुद्ध यूनिवर्सिटी में शौर्योत्सव खेल प्रतियोगिता में हुए पुरुस्कार वितरण

गौतमबुद्ध यूनिवर्सिटी में शौर्योत्सव खेल प्रतियोगिता में हुए पुरुस्कार वितरण
ग्रेटर नोएडा स्थित गौतम बुद्ध विश्वविद्यालय में 12 फरवरी से दसवें शौर्यउत्सव खेल प्रतियोगिता का आगाज हुआ था। खेल प्रतियोगिता विश्वविधालय के पाठयक्रम का ही एक अंग है। इस कार्यक्रम को विश्वविद्यालय छात्रावास के स्तर पर किया जाता है। इस दौरान छात्रों में काफी उत्साह दिखता है।
गौतम बुद्ध विश्वविद्यालय मे चल रहे दसवें शौर्यत्सव स्पोर्ट्स इवेंट मे आज पुरुस्कार वितरण एवं ट्रैक एण्ड फील्ड समारोह का आगाज हुआ, जिसमे मुख्य अतिथि उ०प्र० वित्त मंत्री राजेश अग्रवाल, विशिष्ट अतिथि विधायक जेवर विधानसभा ठाकुर धीरेंद्र सिंह शामिल हुए। राजेश अग्रवाल ने विधार्थियों को सम्बोधित करते हुए कहा कि खेलकूद से नौजवानो मे ऊर्जा आती है। हमारा देश युवाओं का देश है। प्रदेश और केन्द्र की सरकार हर क्षेत्र मे युवाओं को आगे बढ़ाने के लिए नई-नई योजनाएं आई है। जैसे खेलो इंडिया आदि, इस योजना के तहत सभी खिलाड़ियों को अपना हुनर दिखाने का मौका मिलता है।
विशिष्ट अतिथि ठाकुर धीरेंद्र सिंह ने कहा कि खेलकूद जहां एकता का प्रतीक है वहीं खिलाड़ियों के अन्दर लीडरशिप के गुण को सामने लाता है।
कुलपति प्रो बी पी शर्मा ने कहा कि खेल की परम्परा हमारे यहाँ द्वापर काल से रही है जहाँ शिष्य और गुरु की प्राचीन परम्परा का अनुसरण किया जाता रहा है। एकलव्य क्रीड़ा परिसर हमे उसी समय की याद दिलाता है उन्होंने ने ये भी कहा कि हिन्दुस्तान के युवाओं का आने वाली शताब्दी की प्रगति मे महत्वपूर्ण योगदान संभव है।
 इस दौरान उन्होंने विजेता खिलाड़ियों को सम्मानित किया। वॉलीबॉल महिला वर्ग मे रमा बाई हॉस्टल को प्रथम स्थान महादेवी वर्मा हॉस्टल को द्वितीय स्थान, वॉलीबॉल पुरुष वर्ग मे बिरसा मुंडा हॉस्टल को तृतीय स्थान राम शरणदास हॉस्टल को द्वितीय स्थान सन्त कबीरदास हॉस्टल को प्रथम स्थान, थ्रो बॉल महिला वर्ग मे रानी लक्ष्मी बाई हॉस्टल को द्वितीय स्थान महामाया हॉस्टल को प्रथम स्थान, शतरंज महिला वर्ग मे द्वितीय स्थान रानी लक्ष्मी बाई हॉस्टल प्रथम स्थान महामाया हॉस्टल, शतरंज पुरुष वर्ग मे तृतीय स्थान बिरसा मुंडा हॉस्टल द्वितीय स्थान सन्त रविदास हॉस्टल प्रथम स्थान तुलसीदास को प्राप्त हुआ । इस दौरान कुलसचिव श्री बच्चू सिंह,वित्तधिकारी पी एस चौधरी, और अन्य शिक्षकगण मौजूद रहे।

गौतमबुद्ध यूनिवर्सिटी व मायावती राजकीय स्नातकोत्तर महाविद्यालय के बीच हुआ एमओयू

गौतमबुद्ध यूनिवर्सिटी व मायावती राजकीय स्नातकोत्तर महाविद्यालय के बीच हुआ एमओयू
ग्रेटर नोएडा स्थित गौतम बुद्ध विश्विद्यालय मे आयोजित एक कार्यक्रम में कु0 मायावती राजकीय स्नातकोत्तर महाविद्यालय बादलपुर तथा गौतम बुद्ध विश्विद्यालय के बीच एमओयू पर हस्ताक्षर हुए एवं  एमओयू का आदान प्रदान किया गया।
गौतम बुद्ध विश्विद्यालय के कुलपति प्रो भगवती प्रकाश शर्मा की उपस्थिति में कुल सचिव बच्चू सिंह एवं कुo मायावती राजकीय स्नातकोत्तर महाविद्यालय की प्राचार्या डॉ दिव्या नाथ ने  दोनों शिक्षण संस्थानों के संसाधनों का लाभ एक दूसरे के छात्र-छात्राओं को प्रदान करने के उद्देश्य से सहयोगात्मक भावना से  एमओयू हस्ताक्षर किया l इस कोलेबरेशन के पश्चात दोनों शिक्षण संस्थान पुस्तकालय, खेलकूद सुविधाओं, शिक्षक वर्ग एवं अन्य सुविधाओं को एक दूसरे से सांझा कर सकेगें और इस कारण छात्र-छात्राएँ अनेक प्रकार से उक्त सुविधाओं से लाभान्वित हो सकेगेंl
इस कार्यक्रम में गौतम बुद्ध विश्विद्यालय के कुलपति प्रो भगवती प्रकाश शर्मा, कुलसचिव श्री बच्चू सिंह, डीन अकैडमिक प्रो. श्वेता आनंद, डॉ विनोद कुमार शनवाल, कु0 मायावती राजकीय महिला स्नातकोत्तर महाविद्यालय की प्राचार्या डॉ दिव्या नाथ, डॉ दिनेश चंद शर्मा, डॉ शिवानी वर्मा एवं डॉ दीप्ति वाजपेयी इत्यादि प्राध्यापक सम्मिलित थे।

गौतम बुद्ध विश्वविद्यालय में 3 डी प्रिंटिंग पर दो दिवसीय कार्यशाला का आयोजन

दिनाक 25 फरवरी यानि आज गौतम बुद्ध विश्वविद्याल में दो दिन की कार्यशाला का आयोजन किया गया। कार्यशाला का शुभारंभ कुलपति प्रो भगवती प्रकाश शर्मा की उपस्थिति में किया गया। बाहर से आए मुख्य अतिथि में डॉ एच एस छाबड़ा तथा डॉ विनायक रंजन उपस्थित रहे। कार्यशाला के प्रथम दिवस में कुल 6 विशेषज्ञों ने अपने अधिवेशन में 3 डी प्रिंटिंग के प्रथक पहलुओं पर प्रकाश डाला।
कार्यशाला का आयोजन विद्युत अभिांत्रिकी विभाग, आई ट्रीपल ई तथा गंडित विभाग द्वारा किया गया। डॉ सवनीत कौर , डॉ अमित गुप्ता , डॉ छाबड़ा , डॉ रंजन ने अपने ज्ञान से उपस्थित गण को शिक्षित किया। कार्यशाला में 3 डी प्रिंटिंग का प्रदर्शन करके उसके उपयोग पर भी अधिवेशन आयोजित किया गया। कार्यशाला में कुलपति ने भी 3 डी प्रिंटिंग पे प्रकाश डाला।

जीबीयू में हुई कार्यशाला में आइआइटी दिल्ली के प्रोफेसरों ने दी मशीन लर्निंग तकनीकियों के बारे में जानकारी

जीबीयू में हुई कार्यशाला में आइआइटी दिल्ली के प्रोफेसरों ने दी मशीन लर्निंग तकनीकियों के बारे में जानकारी
ग्रेटर नोएडा स्थित गौतम बुद्ध विश्वधायलय के स्कूल ऑफ़ आई सी टी में मशीन लर्निंग और उसके अनुप्रयोगो के विषय पर डी.आर.डी.ओ. द्वारा प्रायोजित एक सप्ताह तक चलने वाले लघु अवधि के कोर्स का उद्घाटन मुख्य अतिथि जी.बी.यू. के कुलपति प्रोफेसर भगवती प्रकाश शर्मा द्वारा किया गया। जिसमे सम्मानीय अतिथि मिया दींन अनुरागी, प्रोफेसर जी.पी.एस. राघवा, प्रोफेसर तपोव्रता लहरी तथा डीन स्कूल ऑफ़ आई.सी.टी. डॉ इंदु उप्रेती अन्य सम्मिलित हुए।
इस कोर्स को डॉ नीता सिंह, डॉ विदुषी शर्मा एवं आरती गौतम दिनकर ने कोआर्डिनेट किया। इस दौरान प्रोफेसर बी.पी. शर्मा ने अपने विचार रखे और बताया की कैसे मशीन लर्निंग टेक्नोलॉजी का उपयोग आई.सी.टी. में किया जा सकता है। एक सप्ताह तक चलने वाले इस कोर्स के प्रथम दिन आईआईआईटी दिल्ली और आईआईआईटी इलाहाबाद के प्रोफेसर ने व्याख्यान में बायोटेक्नोलॉजी में उपयोग में आने वाली मशीन लर्निंग तकनीकियों के बारे में चर्चा की।
प्रोफेसर राघव ने बताया कि बायोटेक्नोलॉजी में प्रोटीन एवं जीनोम विश्लेषण के लिए मशीन लर्निंग कैसे उपयगी है के बारे में विभिन्न विधियों जैसे कि ए न न, स वी एम आदि को प्रयोग करके कम समय में उचित जानकारी ओपन सोर्स के द्वारा प्रयोग कर्ता को कैसे उपलब्ध कराई जाये।  उन्होंने यह भी बताया कि भारत विश्व स्तर पर बायोमेडिकल डेटाबेस बनाने में चौथे स्थान पर है जबकि भारत में इमटेक चंडीगढ़ वह आईआईआईटी दिल्ली दूसरे स्थान पर प्रोफेसर राघवा व उनकी टीम के मार्गदर्शन में है । आईआईआईटी इलाहाबाद से आये प्रोफेसर लहरी ने अपने व्याख्यान में बताया कि कैसे मशीन लर्निंग बिग डाटा विश्लेषण में लाभदायक है।
उन्होंने डाटासेट का तुलनात्मक अध्यन करने के बारे में चर्चा की। इस कार्यक्रम में डॉ अमित अवस्थी ने रिग्रेशन एनालिसिस विषय पर व्याख्यान दिया और डाटा एनालिसिस में मशीन लर्निंग के महत्व के बारे में चर्चा की। इस कार्यक्रम में डॉ मनीष मेश्राम, डॉ सियाराम, डॉ अनुराग सिंह बघेल, डॉ राजेश मिश्रा, डॉ प्रदीप तोमर, डॉ नावेद ज़फर रिज़वी, डॉ विमलेश कुमार, डॉ संदीप शर्मा अन्य शामिल रहे।

गौतमबुद्ध यूनिवर्सिटी में अंतर्राष्ट्रीय संबंधों के भारतीय दृष्टिकोण विषय पर 2 दिवसीय संगोष्ठी का आयोजन

गौतमबुद्ध यूनिवर्सिटी में अंतर्राष्ट्रीय संबंधों के भारतीय दृष्टिकोण विषय पर 2 दिवसीय संगोष्ठी का आयोजन
Greater Noida (02/02/19) : ग्रेटर नोएडा स्थित गौतमबुद्ध यूनिवर्सिटी में राजनीति विज्ञान और अंतरराष्ट्रीय अध्धयन विभाग स्कूल ऑफ ह्यूमिनुटीज एंड सोशल सांइस स्कूल द्वारा अंतरराष्ट्रीय संबंधों के भारतीय दृष्टिकोण विषय पर दिनांक 1 ओर 2 फरवरी को राष्ट्रीय संगोष्ठी का आयोजन किया गया। इस सेमिनार के मुख्य अतिथि अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद के राष्ट्रीय संगठन मंत्री सुनील आम्बेकर थे।
कार्यक्रम की अध्यक्षता गौतम बुद्ध विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो भगवती प्रकाश शर्मा ने की। मुख्य अतिथि सुनील आम्बेकर जी ने अंतरराष्ट्रीय संबंधों को भारतीय प्राचीन परम्परा के आधार पर समझने व पढ़ने पर बल दिया। आज अंतरराष्ट्रीय अध्धयन पर पश्चिमी देशों का अकादमिक प्रभुत्व है क्योंकि प्रथम विश्व युद्ध के बाद अंतरराष्ट्रीय संबंधों को पढ़ाने के लिये एक विषय के रूप में अमेरिका तथा अन्य पश्चिमी देशों ने अपने पाशचात मूल्यों को पिरोया तथा विश्व पर अपने दृष्टिकोण तथा सभ्यता को लागू किया इस प्रभाव से भारत भी प्रभावित है। अतः अंतरराष्ट्रीय अध्धयन को भारतीय द्रष्टिकोण से समझने की आवश्यकता है।
भारत मे आधुनिक अंतरराष्ट्रीय विचार के शुरुआती प्रभुत्व व्यक्तियों में एक बंगाली राजनीतिक सिद्धांतकार विनय कुमार सरकार ने “अमेरिकन पोलिटिकल साइंस रिव्यु” जनरल में हिन्दू थ्योरी ऑफ़ इंटरनेशनल रिलेशन्स” में कौटिल्य ओर कमेदक के नीतिशार  की शिक्षाओ को मंडल के सिंद्धान्तों के साथ मिश्रित किया गया था।
इसे उन्होंने हिन्दू आइडिया ऑफ बेलेंस ऑफ पावर बताया वैदिक ग्रंथो को पश्चमी अंतरराष्ट्रीय विचारों के संबंध में देखने की आवश्यकता है। राय ने पश्चिमी ज्ञान को एक गंभीर चुनोती दी। लेकिन  विगत 60 वर्षों से अंतरराष्ट्रीय अध्ययन पर कोई भारतीय विद्वान अधिक सकारात्मक योगदान नही दे पाए। अतः आज अंतरराष्ट्रीय अध्धयन को भारतीय दृष्टि कोण से समझने की आवश्यकता है। तभी हम लोग पाशचात दृष्टि कोण से छुटकारा पा सकेंगे। अपने राष्ट्रीय भाषण में कुलपति प्रो भगवती प्रकाश शर्मा ने अंतरराष्ट्रीय संबंधों को प्राचीन भारतीय ज्ञान/पम्परा के माध्यम से नए सिंद्धान्तों का प्रतिपादन करने पर बल दिया।
अधिष्ठाता डॉ नीति राणा ने सेमिनार में आये सभी अथितियों एवं मुख्य अतिथि  का स्वागत किया तथा भारतीय परम्परा को पाठ्यक्रम में ज्यादा से ज्यादा समाहित करने पर बल दिया। जवाहर लाल नेहरु विश्व विद्यालय के प्रो0 अश्विनी महापात्रा ने  की नोट स्पीकर के रूप में अंतरराष्ट्रीय अध्ययन को वैदिक ज्ञान तथा कौटिल्य दुवारा प्रतिपादित-कूटनीति तथा अंतरराष्ट्रीय संबंधों को भारतीय पाठ्यक्रमो में लागू करने पर बल दिया।
सेमिनार के दूसरे दिन का आरम्भ “आर्गनाइजर” थे संपादक प्रफुल्ल केतकर के उदबोधन से हुई। प्रफुल्ल केतकर ने भारतीय सभ्यता को केंद्र में रखते हुए अंतरराष्ट्रीय संबंधों को समझने पर बल दिया।
सेमिनार के अगले सत्र की अध्यक्षता डॉ0 उत्तम कुमार सिन्हा ने शुरुआत की इसमें दक्षिण एशिया तथा भारतीय दृष्टिकोण पर प्रकाश पर प्रकाश डाला दो दिवसीय सेमिनार का समापन डॉ0 सच्चीदानंद जोशी, सदस्य सचिव, इंदिरा गांधी राष्ट्रीय कला केंद्र नई दिल्ली के समापन भाषण के साथ हुई।

जीबीयू में कराया जाएगा प्रो रेसलिंग के चौथे सीजन का आयोजन

जीबीयू में कराया जाएगा प्रो रेसलिंग के चौथे सीजन का आयोजन
गौतमबुद्ध नगर में प्रो रेसलिंग के चौथे संस्करण का आयोजन 24 जनवरी से 31 जनवरी तक होगा। प्रो के सेमीफाइनल व फाइनल मैच भी यहीं खेले जाएंगे। इस आयोजन से एक बार फिर खेल के क्षेत्र में नई पहचान मिलेगी। यहां राष्ट्रीय व अंतरराष्ट्रीय स्तर के रेसलिंग खिलाड़ियों का जमावड़ा देखने को मिलेगा।
ग्रेटर नोएडा स्थित के कासना स्थित गौतमबुद्ध विश्वविद्यालय (जीबीयू) के इंडोर स्टेडियम में एक बार फिर रेसलिंग के खिलाड़ियों का जमावड़ा देखने को मिलेगा। 21 जनवरी को इंडोर स्टेडियम आयोजक को दे दिया जाएगा। इसके बाद यहां कोर्ट बनाने का काम शुरू होगा। जल्द ही दर्शकों व खिलाड़ियों के आने-जाने का ले आउट भी तैयार कर लिया जाएगा।
जीबीयू के स्पो‌र्ट्स आफिसर डॉ. प्रदीप सिंह ने बताया कि प्रो रेसलिंग के पहले सीजन का आयोजन 2015 में जीबीयू में किया गया था। एक बार फिर से यहां चौथे संस्करण का आयोजन किया जाएगा। इससे जिले कुश्ती खिलाड़ियों को खेल की बारीकियां सीखने का मौका मिलेगा।