Greater Noida Latest News

Pink ball to highlight #DuleepTrophy in Noida’s new stadium from August 23

The Duleep Trophy cricket tournament will be played with pink balls this year at Greater Noida’s new stadium.

Yuvraj Singh, Suresh Raina and Gautam Gambhir will lead India ‘Red’, India ‘Green’ and India ‘Blue’ teams, respectively, in the Duleep Trophy tournament which will be played for the first time with pink ball and under lights at the Greater Noida International Cricket Stadium in Uttar Pradesh from August 23 to September 14.

All three teams will play against each other once in four-day-and-night games while the final will be a five-day affair from September 10 to 14.

India Red: Yuvraj Singh (Capt), Abhinav Mukund, KS Bharat, Sudip Chatterjee, Gurkeerat Singh, Ankush Bains (wk), Arun Karthik, Akshay Wakhare, Kuldeep Yadav, Nathu Singh, Anureet Singh, Ishwar Pandey, Nitish Rana, M Ashwin, Abhimanyu Mithun

India Blue: Gautam Gambhir (Capt), Mayank Agarwal, Sheldon Jackson, Baba Aparajith, Siddhesh Lad, Dinesh Karthik (wk), Parvez Rasool, K Monish, Krishna Das, Suryakumar Yadav, Mohit Sharma, Pankaj Singh, Shardul Thakur, Cheteshwar Pujara, Hanuma Vihari

India Green: Suresh Raina (Capt), Robin Uthappa, Jalaj Saxena, Ambati Rayudu, Ian Dev Singh, Rohan Prem, Parthiv Patel (wk), Harbhajan Singh, Shreyas Gopal, Ashoke Dinda, Sandeep Sharma, Ankit Rajpoot, Rajat Paliwal, Jasprit Bumrah, Murali Vijay

Schedule: India ‘Red’ vs India ‘Green’ (Aug 23-26); India ‘Red’ vs India ‘Blue’ (Aug 29-Sept 1), India ‘Blue’ vs India ‘Green’ (Sept 4-7); Final: Sept 10-14

DISCUSSION ON GREATER NOIDA TRAFFIC RULE VIOLATIONS

आप सामाजिक चेतना के लिए सदैव सजग रहते है । क्यूँ ना एक वृहद अभियान ग्रेटर नॉएडा में एक हफ़्ते के लिए चलाया जाय जिसमें ग़लत दिशा में चलने वाले वाहनों का चालान किया जाय और साथ साथ सामाजिक संगठन के लोग उनसे शपथ पत्र पर हस्ताक्षर भी करवाए की भविष्य में ग़लत दिशा में नहीं चलेंगे ।
सबसे ज़्यादा अल्फ़ा , रेयान , डेल्टा , जगत फ़ार्म , पी ३ आदि पर लोग ग़लत दिशा में चलते है ।
ग्रूप के विचार / सुझाव हेतु प्रेषित ।
सधन्यवाद ,
आलोक सिंह

आलोक जी हम आपकी बात से सहमत है। लेकिन जब तक प्रसासन सख़्ती से पेश नहीं आयेंगा तब तक लोग अपनी जान जोखिम में डाल कर रंाग साइड चलते रहेंगे। आपने देखा होगा दिल्ली मे यातायात के नियम सख़्त है इस वजह से वहाँ बिना हेलमेट के कोई नहीं चलता । और सभी यातायात नियमों का पालन करते है।यह एक बड़ी समस्या है ।इस समस्या को दुर करने के लिये सामाजिक संगठन भी लगातार प्रयासरत रहते है।मेरा प्रसासन के उच्चाधिकारीयो से भी निवेदन है कि ग्रेटर नोएडा में गम्भीर हो चुकी रंाग साइड चलने की समस्या से निजात दिलाने में सहयोग करे । सह धन्यवाद SANJAY DELTA 2

थोड़ा तकनीकी सुधार भी हो ।10मीटर के बदले दो किलोमीटर के चक्कर मे 1किलोमीटर रांग चलते है अगर प्राधिकरण के सामने के कट की तरह कट बन जायें तो लोग संभल कर पार कर अपनी साइड पकड लेंगे इससे फ्यूल व समय भी बचेगा वह एक्सीडेंट भी नही होगे यहां इतने हाई मानसिकता बाले लोग तो 1% ही होगे और प्रशासन की सख्ती व समस्या भी कम हो जायेगी RUPA GUPTA

रांग साइड जाएँगे, फुल स्पीड जाएँगे, कहीं रुकेंगे न हम।
आँखे दिखाना, गाली देना, सिटी का कल्चर सनम।।
आजा ग्रेटर नोएडा में घूम जा, आजा ग्रेटर नोएडा में घूम जा।।
इस कल्चर को बदलने की जरूरत है। आलोक जी के साथ। अवधेश

अवधेश जी वास्तव में यातायात नियमो का उल्लंघन शहर के लिए एक गंभीर समस्या है, और इसके लिये यहाँ की आम जनता के साथ साथ यहाँ के अधिकारी भी कही ज्यादा जिम्मेदार है, क्योकि लोग उस बात पर अनुसरण करते है जो बड़ो को करते हुए देखते है, यही हॉल यहाँ की जनता का है , क्योकि हमारे,न्यायपालिका,शासन,पुलिस के उच्च अधिकारी, सामाजिक,व् राजनीतिक लोग रोजाना ग्रेटर नोएडा में wrong स साईड चलते मिलेंगे उदहारण के तोर पर मोज़र बियर गोल चक्कर व् एल. जी गोल चक्कर पर उपरोक्त लोग रॉंग साइड जाते हुए मिलेंगे जब नियमो को बनाने वाले और नियमो को तोड़ने वाले को दण्डित करने वाले नियमो को तोड़ते है तो जनता पर उसका प्रभाव आना सौभाविक् है , इन अधिकारियो के साथ 2 आम जनता से अपील है की प्लीज यातायात नियमो का पालन करे , और अपने शहर की एक सुन्दर छवि लोगो के सामने पेश करे की ग्रेटर नोएडा शिक्षित और कानून पसंद लोगो का शहर है। धन्यवाद दीपक भाटी (Advocate) महासचिव गोल्डन फेडरेशन ऑफ़ R.W.A,s ग्रेटर नॉएडा

अगर इस ग्रुप के सभी सदस्य स्वयं ठान लें कि रांग साइड में नहीं चलेगे तो यह समस्या कुछ हद तक ठीक हो सकती हैं और दूसरे लोगों को भी प्रेरित कर सकती है DIWAKAR SINGH

परिचौक परिवार एक बैठक बुलाये तो हम सब मिलकर कुछ निर्णय लेकर इस दिशा में आगे बढ सकते हैं । AWDESH

GREATER NOIDA PEOPLE DEMAND POWER PLANT BY NPCL

From the facts available on record it appears that the parties, namely NPCL and UPPCL, have been in perpetual conflict over the rate on which NPCL had been getting bulk supply of electricity from UPPCL. NPCL obtained a license from Govt. of Uttar Pradesh for carrying out distribution in the area of Greater Noida as a private sector player in the distribution of electricity on 30th August, 1993. Its entire power requirement was met by UP State Electricity Board (UPSEB or Board for short) and there after by UPPCL, a successor of UPSEB. UPPCL allowed NPCL to draw power load up to 45 MW only in view of power constraints. The two entered into an agreement on 15.11.1993. UPPCL agreed to supply power of 45 MW for a maximum period of 4 1/2 years. Under the terms of the agreement, the stipulated tentative power purchase price was Rs.1.66 per unit. This rate was to remain operative for only six months. The agreement included a term that the rate would be subject to revision as extracted below:
The above rates of Company are tentative which will be studied and revised after six months by an independent authority to be nominated by State Government and mutually acceptable to NPCL and Supplier for this purpose. If during the period of these six months this Body fixes more/less charges on the basis of the above, it will be adjusted accordingly. SANJAY RWA DELTA 1?

NOIDA POWER CORP – POWER PLANT NOT STARTED AS PER AGREEMENT BY SANJAY RWA DELTA 1

मेरा सभी सम्मानित साथियों को नमस्कार , मेरे साथियों ग्रेटर नोएडा मे 1993 से आज तक बिजली कम्पनी Npcl बिजली सप्लाई दे रही है जब Npcl ने uppcl कम्पनी से 23 साल पहले क़रार किया था । तो यह तय हुआ कि हम अपना पावर हाऊस लगायेंगे और ग्रेटर नोएडा के निवासियों को सस्ती बिजली उपलब्ध करायेगे । लेकिन साथियों आज तक Npcl सिर्फ़ uppcl से सस्ती बिजली लेकर और हमें महँगे दामों पर दे रहा है सीधे सीधे दलाली कर रही है और आम जनता से सर चार्ज के नाम पर लूट करने पर लगी हुई है।आप सब बुद्धिजीवी और जागरूक नागरिक है इस विषय पर भी अपना ध्यान दे।

HOME BASED SERVICED SHOULD BE ALLOWED FROM HOMES IN GREATER NOIDA BY RAJIV GOYAL

It’s my personal thinking that to accommodate changing life styles wherein families are not only becoming nuclear in size but also forced that both parents are to be on job leaving their kids for care. Such caring of kids in neighbourhood by women who are homemaking but in financial need to earn, should be allowed to do so & not covered in commercial activities. It’s the way we can be inter-dependent society & keeping kids in better supervision. Similarly tuition services, stitching services, providing tiffin services are also kind of home based services. I don’t think anybody doing these services from home is becoming rich except that running their families smoothly

GREATER NOIDA WATER TABLE DOWN TO 65 FEET

सभी ग्रुप के सदस्यगण /ग्रेटर नोएडा के निवाशियो अभी हमारा शहर नया है इसमें विभिन्न राज्यो और शहरों से लोग आकर रह रहे है क्योकि यहाँ चोड़ी सड़के , सवच्छ वातावरण, और अच्छा ग्राउंड वाटर लेवल है , परंतु कुछ समय से यहाँ पर प्रकिर्तिक साधनो का दोहन प्राधिकरण की मिलीभगत से हो रहा है ,जगहा जगहा डेल्टा ,ओमिक्रोन ,अल्फा आदि में बिल्डर पेड़ो को काटने पर लगे है, दूसरी गंभीर समस्या पानी की है सन 2007 ग्रेटर नोएडा का वाटर लेवल 12 फिट था और आज लगभग 65 फिट है क्योकि जितने भी यहाँ बिल्डर आये उन्होंने बेसमेंट बनाने के लिए शुद्ध पानी को निकल कर नालो में भय जा रहा है NGT रोक के बावजूद भी ये खेल अभी भी चल रहा है जो शहर के लिए गंभीर समस्या बनने जा रहा है , क्योकि कल जब में एक गांव में गया तो वहा पर जब हेड पम्प चलाया तो वह नहीं चला उसकी गहरायी 65 फिट थी जब पड़ोस में पता किया तो पता चला की पिछले सप्ताह से सारे पम्प सूख गए है, जबकि बारिश में वाटर लेवल बढ़ना चाहिये था, और जब मेने बिल्डर का काम चलते हुए देखा तो वहा जाकर पाया की ATS dolce ZETA 1 में बिल्डर दुवारा भूमिगत पाइप डालकर शुद्ध पानी को बहाया जा रहा था, जिसकी फ़ोटो भी में डाल रहा हूँ जो पानी ओवर फ्लो होकर निकल रहा है । लगभग सभी बिल्डर इसी प्रकार से जल को नष्ठ कर रहे है ,क्या प्राधिकरण इससे बेखबर है? या ये सब प्राधिकरण की मिली भगत से हो रहा है? दोस्तों आप सबको इस मुद्दे पर सोचना होगा और इस पर विचार करना होगा । धन्यवाद दीपक भाटी (Advo) महासचिव गोल्डन फेडरेशन ऑफ़ R.W.A,s ग्रेटर नोएडा

GREATER NOIDA MOBILE TOWERS BIG ISSUE

SHYMAL ROY

There is a new danger in the city and it’s not the rising crime. Over past few weeks a lot of telephone towers have been erected in residential areas all over Greater Noida. Allahabad High Court in 2013 banned installation of telephone towers in residential areas. However, today in Greater Noida, we are finding people openly flouting the Law. Greater Noida Authority has turned a blind eye to the menace. It is not even prepared to listen to the grievances of people. On 4th August 2016, the residents staged a protest in Greater Noida Authority against the health threat posed to the people from the radiations of the towers. However, there was no response from the Authority.
If telephone towers keep on getting erected in residential areas at the present rate, then there will be a severe health crisis among the children and families of Greater Noida, which will lead to dangerous consequence for the city.

EK SHAAM SHAHEEDO K NAAM BY NAVRATAN FOUNDATIONS ON 15th August

@राष्ट्र के शहीदों के लिए आवाहन@

इस वर्ष भी स्वाधीनता दिवस की पूर्व संध्या के अवसर पर गौतम्बुधनगर के निवासी माननीय ज़िलाधिकारी श्री एन पी सिंह जी के आह्वान पर दीप प्रज्वलित करेंगे और हर नागरिक इस अवसर पर एक पेड़ भी लगाएगा । इस संदर्भ में आयोजित बैठक में नवरत्न फाउंडेशन की टीम के सदस्यों ने भाग लिया और 15 अगस्त की शाम को ‘एक शाम आजादी के नाम ‘ देश भक्ति पर आधारित सांस्कृतिक कार्यक्रम जिला प्रशासन दवारा इंदिरा गांधी कला केन्द्र , सेक्टर 6 में किया जायेगा । आप सभी आमत्रित हैं।

#BULANDSHAHR – Gang rape blame game has started : ADVOCATE PREETI SIROHI

it’s painful to accept that we r living in a society where a Porn star is not only readily accepted inthe society but also given a celebrity status but when people come to know that the girl or lady living next door is a rape survivor the same societyboycotts her and even blame her for the accident.what to say about our representativesfor them every issue becomes a political issue, they are least concerned about our pain and this is clearlyrevealed from the statement of one of the minister’s of U.P Government. Like always the blame game has started…..

Join in feeding poors people of Greater Noida : Young Professionals from ##eachonefeedone #greaternoida

We are a bunch of young enthusiastic volunteers (from schools/colleges/and early professionals), who meet every Sunday to collect food that is left over from restaurants (fresh/edible/healthy), and then head out to distribute this food to the children in slums in Greater Noida.

We currently feed 800-900 poor people each Sunday, with contributions from willing donators and food partners.

I am writing to you because We are organising an mass event whereby we shall be feeding 10,000 people on the 14th and 15th of August (Pakistan’s and India’s Independence Days), in greater noida, and was wondering whether you would like to spare some space in your publication for us? It would help us get the traction needed for the day in terms of food contributions and volunteer support.

For further details regarding the same, or to join us for a drive to see how we function (every Sunday), please do get in touch.. We would be thrilled to have you join us! #eachonefeedone

Sincerely,
Shashank Shekhar
ATS Greens Paradiso,
Greater Noida
#9654439639
drshashankshekhar3