Greater Noida Latest News

ग्रेटर नोएडा के साईट 4 में श्री रामलीला मंच न में श्री राम को वन के रास्ते में उनके मित्र गुहराज और केवट से मुलाक़ात होती है। केवट श्री राम के चरण धोकर पीते है और उन्हें उस पार उतारत े है

RAMLEELA BY SHRI RAMLEELA COOMMITTEE – KAIKAI DEMANDS KINGDOM FOR BHARAT

कैकई ने मांगा भरत को राज और राम को वनवास , दर्शकों के छलके आंसू , भरत मिलाप देख भावुक हुए दर्शक

ग्रेटर नोएडा : श्री रामलीला कमेटी द्वारा आयोजित रामलीला कार्यक्रम ग्रेटर नोएडा के साइट-4 स्थित पेट्रोल पम्प के पीछे सेन्ट्रल पार्क में विजय महोत्सव 2016 का भव्य आयोजन चल रहा है। रामलीला देखने लोगों की भारी भीड़ उमड़ रही है। पांचवे दिन रामलीला मंचन … द्वीप प्रजवल्लित कर उद्घाटन किया गया । शुक्रवार को राजा दशरथ के द्वारा राम को राज तिलक की घोषणा के बाद आयोध्यावासियों में उत्सव, मंथरा कैकई संवाद, दशरथ कैकई संवाद, राम-केवट संवाद , भरत मिलाप का बड़ा ही सुन्दर मंचन किया गया। भगवान राम का लक्ष्मण सीता सहित वनगमन के दृश्य ने दर्शकों को रूला दिया।

मंचन की शुरुआत राजा दशरथ राजतिलक की घोषणा करते हैं। जिसके बाद अयोध्या में खुशियां मनाई जाती हैं। इससे व्याकुल होकर देवता माँ सरस्वती के पास जाते हैं और उनसे कुछ ऐसा करने के लिए कहते हैं जिससे राम को वनवास हो जाये। अगले दृश्य में कैकयी – मंथरा संवाद का मंचन किया गया। मंथरा कैकयी को उलटी सीधी बातें सीखाती है। मंथरा की कपटपूर्ण बातों में आकर रानी कैकेयी अपने बेटे को राजा बनाने के लिए कोपभवन में चली जाती है। राजा दशरथ रानी को मनाने का प्रयास करते हैं पर कैकेयी युद्ध के वक्त दिये गए सहयोग के बदले मिले तीन वचनों में राम को वनवास और भरत को राजगद्दी देने का हठ पकड़े रहती है। राम के वन में जाने के बाद दशरथ को याद आता है श्रवण कुमार की धोखे से हुए हत्या का दृश्य, दशरथ राम के वियोग में अपने प्राणों को त्याग देते हैं। श्री राम, सीता और लक्ष्मण वन को जाते हैं। श्री राम के वनवास जाने पर दर्शकों के आंसू छलक आये। श्री राम को वन के रास्ते में उनके मित्र गुहराज और केवट से मुलाक़ात होती है। केवट उन्हें गंगा पार उतारता है। रास्ते में ऋषि भारद्वाज आश्रम में जाते हैं। वे चित्रकूट का रास्ता बताते हैं और अयोध्या में भरत -कैकयी संवाद होता है। और भरत श्री राम को बुलाने चित्रकूट जाते है। इसके बाद भरत मिलाप का प्रसंग मंचित किया गया जिसे देख दर्शक भी भावुक हो गए। भरत राम की खड़ाऊ लेकर अयोध्या लौटते हैं। आरती के साथ मंचन का समापन हो जाता है।

मीडिया प्रभारी विनोद कसाना ने बताया शहरवासियों के लिए मेले में मनोरंजन की पूरी व्यवस्था की गयी है। दर्शकों ने अपने परिवार के साथ मेले में लगी दुकानों में खूब
खरीदारी की। इस मौके पर अध्यक्ष सरदार मंजीत सिंह , महासचिव बिजेंद्र सिंह आर्य, कोषाध्यक्ष मनोज गर्ग,
सयुक्त महासचिव सौरभ बंसल, मीडिया प्रभारी , विनोद कसाना, ओमप्रकाश अग्रवाल , अमित गोयल,
हरेन्द्र भाटी, मुकुल गोयल जतन भाटी, श्यामवीर भाटी, अजय रामपुर , चाचा हिंदुस्तानी , सतवीर गुर्जर ,
कपिल गुप्ता , कुलदीप शर्मा , अतुल जिंदल , विजेन्द्र भाटी, अरुण गुप्ता , आदी मौजूद रहे।

जारी कर्ता — विनोद कसाना
मीडिया प्रभारी

9818216677
9718216677