ईशान इंस्टीट्यूट, ग्रेटर नॉएडा में मनी स् वतंत्रता सेनानी विजय सिंह पथिक की 134वी जयंती

महान स्वतंत्रता सेनानी विजय सिंह पथिक की 134वी जयंती नॉलेज पार्क स्थित ईशान इंस्टीट्यूट में मनाई गई। समारोह में शंकर सहाय सक्सेना द्वारा लिखित पथिक जी की जीवनी और डॉ लाल रत्नाकर द्वारा निर्मित चित्र का लोकार्पण किया गया।

इस अवसर पर "सामाजिक न्याय के योद्धा विजय सिंह पथिक" विषय पर विचार गोष्ठी का आयोजन भी किया गया। गोष्ठी को सम्बोधित करते हुए पिछड़ा वर्ग आयोग के पूर्व अध्यक्ष जस्टिस वी ईश्वरैया ने कहा कि लंबे संघर्ष के बाद भी देश के दबे कुचले लोगों को सामाजिक न्याय नहीं मिल पाया है। इन वर्गों के साथ हर स्तर पर भेदभाव किया जाता है। वरिष्ठ पत्रकार उर्मिलेश ने कहा कि देश में राजनीतिक न्याय तो लागू हो गया है किंतु सामाजिक और आर्थिक न्याय अभी लागू होना बाकी है। हालात इतने खराब हैं कि देश के 73 फीसदी संसाधनों पर एक फीसदी लोगों का कब्जा है।

सुप्रीम कोर्ट के एडवोकेट ओमवीर सिंह मंडार ने कहा कि सरकार ने बड़ी चालाकी से पिछड़ा वर्ग के आरक्षण को कमजोर कर दिया है। 54 प्रतिशत पिछड़े वर्गों को 27 प्रतिशत सीटों तक सीमित कर दिया गया है जबकि 15 प्रतिशत सामान्य वर्ग के लिए 51 प्रतिशत सीटें आरक्षित कर दी गई हैं। विजय सिंह पथिक शोध संस्थान के अध्यक्ष राजकुमार भाटी ने अतिथियों का स्वागत किया और पथिक की के जीवन दर्शन पर प्रकाश डाला। कार्यक्रम की अध्यक्षता डॉ सुरेश पाटिल ने और संचालन यशवीर गुर्जर ने किया।

इस अवसर पर वीरेंद्र डाढ़ा, अजित दौला, वीरेन्द्र गुड्डू, दिनेश गुर्जर, प्रमोद भाटी, मनजीत सिंह, मनोज गर्ग, हरेन्द्र भाटी, इलम सिंह नागर, कर्मवीर सिंह, जयकरन भाटी, नरेंद्र नागर, बेगराज गुर्जर, श्याम वीर भाटी, राजू भाटी, इंद्र प्रधान, सुभाष प्रधान, हरपाल चौहान, कुलदीप मलिक, ओम रायजादा, बिजेन्द्र आर्य, जयवीर भाटी, दीपक भाटी, राजेश भाटी, सलमु सैफी और सुनील फौजी आदि शामिल थे।

Leave a Reply