जी.एल. बजाज इंस्टीटयूट में एक द्विवसीय कार ्यशाला का आयोजन

जी.एल. बजाज ग्रेटर नोएडा के व्यवसाय प्रबन्धन विभाग में डाॅ. ए.पी.जे. अब्दूल कलाम विश्वविद्यालय, लखनउ के इन्डक्सन प्रोग्राम के तहत प्रस्तावित एक द्विवसीय कार्सशाला का आयोजन ‘‘ए वर्कशाॅप आॅन इमजिंग हारीजन्स आॅफ केम्पस टू करापोरेट लाईफ’’ विषय पर आयोजित किया गया। कार्यशाला का शुभारम्भ माॅं सरस्वती की वन्दना, दीप प्रज्वलन एवं माल्यार्पण से हुआ। इस अवसर पर प्रबन्धन संस्थान के डीन प्रो. डाॅ. मुकुल गुप्ता ने आमन्त्रित अतिथियों को बुुके प्रदान कर स्वागत किया तथा छात्रों को केम्पस और कारपोरेट के वातावरण में अन्तर और दोनो में समन्वय स्थापित करने की बारिकियों से अवगत कराया। कार्यशाला के मुख्य वक्ता हर्ष राज जैन प्रबंधक इविक्स साॅफ्टवेयर इन्डिया प्रा. लिमिटेड ने छात्रों सेे कहा कि आप में अपार संचित उर्जा है आप जो चाहे वह कर सकते है लेकिन उस असीम क्षमता को पहचानना अति आवश्यक है। व्यवसायिक जीवन तमाम उतार चढाव से होकर गुजरता है इसे तय करना आपके द्रढ इच्छा शक्ति पर निर्भर करता है।

आप में अपार ज्ञान का भण्डार है जिसके प्रयोग और कार्य करने की इच्छा शक्ति आप को अपने लक्ष्य पर विजय दिलाती है। परन्तु किसी भी कार्य की सफलता कुशल नियोजन पर निर्भर करती है। कार्यशाला के अंत में प्रबंध विभाग की प्रमुख प्रो. डा. दीपा गुप्ता ने कारपोरेट वक्ता हर्ष का आभार व्यक्त किया और छात्रों को काॅलेज से कारपोरेट के सफर में आने वाली बाधाओं और उन पर विजय प्राप्त करने की रणनीतियों की चर्चा की। कल छात्रों को डाॅ. दीपा गुप्ता द्वारा कर्ट लेवन सिद्धान्त व जिमसनेक गोल्डन सिद्धान्त द्वारा विभिन वौद्धिक स्तर के छात्रो के अध्धयन व अध्यापन में सामंजास्य व शैक्षणिक गतिविधियो मे नई तकनीकी तथा विभिन्न ऐप आधारित अध्यन माध्यमो के प्रयोग व उनसे मिलने वाले प्रतिफल के बारे में बताया। डाला। सिमपोजियम के प्रमुख वक्ता व प्रखयात विद्वान तथा आई वी एम सेवा प्रदत्त प्रो0 संजीव शंकर दूबे ने अपने 35 वर्षो के अनुभव को छात्रो से साझ्ाा किया तथा कानटेमपरी वेज आफ लर्निंग एण्ड टीचिंग विषय पर छात्रो को संबोधित करते हुये बताया कि द्रण इच्छा शक्ति के द्वारा किसी भी लक्ष्य को प्राप्त किया जा सकता है। साथ ही उच्चशिक्षा में इनोवेशन और डिसरपसन के महत्व तथा विभिन्न एप आधारित शिक्षा तकनीकियो के प्रयोग और उनसे मिलने वाले लाभों की चर्चा की। तकनीकी उच्च शिक्षा के क्षेत्र में चार दशको का अनुभव तथा प्रख्यात शिक्षाविद आई.आई.टी दिल्ली के प्रबन्ध संकाय के फारमर प्रमुख प्रो. डाॅ. सुधीर कुमार जैन ने सिगनीफिकेन्स आॅफ इनटूलेकचूल प्रापर्टी राइट इन स्माल एण्ड मिडियम इन्टरप्राइजेस विषय पर छात्रों को सम्बोधित किया और बताया कि विशिष्ट ज्ञान नये उद्यमियो के सृजन के लिये अति आवश्यक है।

सीमपोजियम के अंत में प्रबन्धन संस्थान के डीन प्रो. डाॅ. मुकुल गुप्ता ने आये हुये वक्ताओं का आभार व्यक्त किया और छात्रों को वक्ताओं से प्रेरणा लेकर जीवन में आगे बढने की सीख दी व छात्रों के उज्जवल भविष्य की कामना की। इस अवसर पर प्रबन्धन संस्थान के समस्त छात्र व शिक्षकगण उपस्थित थे।

Leave a Reply