जिलाधिकारी बी एन सिंह ने बांजरपुर गाँव मे ं लगाई चौपाल, ग्रामीणों में सरकारी योजनाओं क ी जानकारी का दिखा अभाव!

गौतम बुद्ध नगर 23 अक्टूबर 2017

जिलाधिकारी बीएन सिंह आज सुबह 8:00 बजे दनकौर ब्लॉक के गांव बांजरपुर में पहुंचे और वहां पर जूनियर हाई स्कूल में चौपाल लगाकर ग्रामीणों की समस्याओं का अनुश्रवण किया।

उन्होंने विकास कार्यक्रमों का सत्यापन करते हुए तथा व्यक्तिगत परख लाभ योजनाओं के संबंध में ग्रामीणों से रूबरू होते हुए पाया की जिला स्तरीय अधिकारियों के माध्यम से ग्रामीणों ने अपनी विभागीय योजनाओं का व्यापक स्तर पर प्रचार प्रसार नहीं किया जा रहा है।
जिसके माध्यम से उन्हें सरकार द्वारा संचालित योजनाओं का भरपूर लाभ प्राप्त नहीं हो रहा है। इस संबंध में उन्होंने ग्रामीणों से प्रदेश सरकार की महत्वपूर्ण योजना एंबुलेंस 108 एवं 102 के संबंध में जानकारी प्राप्त की तो ग्रामीणों के द्वारा बहुत कम लोगों के द्वारा बताया गया कि उनके द्वारा इस योजना का लाभ उठाया जा रहा है।

इसी प्रकार जनपद में समस्त आंगनवाड़ी केंद्रों पर बच्चों को पुष्ट बनाने के उद्देश्य से सरकार के माध्यम से आगामी 24 एवं 27 अक्टूबर को वजन दिवस का आयोजन किया जाएगा इस संबंध में भी ग्रामीणों के द्वारा जानकारी नहीं होना बताया गया। जिलाधिकारी ने इस संबंध में जिला कार्यक्रम अधिकारी को निर्देश दिए कि उनके द्वारा समस्त आंगनवाड़ी कार्यकत्रियों को नोटिस जारी किया जाए और पूरे जनपद में ऐसी व्यवस्था बनाई जाए कि सभी ग्रामीणों को सरकार द्वारा संचालित कार्यक्रमों का भरपूर लाभ प्राप्त हो सके।

इसी प्रकार उन्होंने जिला पंचायत राज विभाग के माध्यम से बनाए जा रहे शौचालय की भी जांच की जिसमें ग्रामीणों के द्वारा शिकायत की गई कि जिनके पुराने शौचालय बने हैं उनको भी शौचालय का पैसा दिया गया है । इस संबंध में जिलाधिकारी ने जिला पंचायत राज अधिकारी वीरेंद्र सिंह को स्पष्ट निर्देश देते हुए कहा कि उनके द्वारा आज भी मौके पर जांच करते हुए देखा जाए और यदि ऐसा पाया गया तो संबंधित के विरुद्ध प्राथमिकी दर्ज करा कर कार्रवाई की जाए। विद्युत विभाग के कार्यों के संबंध में ग्रामीणों ने डीएम को बताया कि उनके गांव के विद्युत लाइन के सभी तार जर्जर हैं इस संबंध में जिलाधिकारी ने अधिशासी अभियंता विद्युत को तत्काल प्रभाव से कार्यवाही कर तार बदलवाने के निर्देश दिए , वहीं दूसरी ओर ग्रामीणों के विद्युत कनेक्शन करने के उद्देश्य से आगामी 27 अक्टूबर को गांव में कैंप लगाने का निर्देश दिया गया।

सत्यापन के दौरान जिलाधिकारी ने गांव में एक हैंडपंप भी खराब पाया जिसे प्रधान को तत्काल प्रभाव से ठीक कराने के निर्देश दिए गए। डीएम ने पाया कि गांव में 49 लाख रुपए की धनराशि से निर्माण कार्य कराए गए हैं जिसमें इंटरलॉकिंग सड़कें एवं नालियां बनाए गए हैं डीएम के द्वारा सभी कार्यों का ग्रामीणों के माध्यम से सत्यापन किया गया जो संतोषजनक पाए गए। जिलाधिकारी ने ग्राम प्रधान को निर्देश दिए कि गांव के स्कूल में पढ़ने वाले बच्चों के लिए सरकार से मिलने वाले पैसे के माध्यम से फर्नीचर की व्यवस्था सुनिश्चित की जाए ताकि बच्चे जमीन पर ना बैठ सकें। शिक्षा विभाग के कार्यों में बच्चों को ड्रेस एवं किताबें मिलना सही पाया गया ।

जिलाधिकारी ने इस अवसर पर बच्चों से जानकारी प्राप्त करते हुए पठन-पाठन की भी जांच की जिसकी गुणवत्ता सही पाई गई। ग्रामीणों के द्वारा डीएम को बताया गया है कि गांव में 4 सफाई कर्मियों की ड्यूटी लगी है और उनके द्वारा गांव में रोस्टर के अनुसार सफाई नहीं की जाती इस संबंध में जिलाधिकारी ने जिला पंचायत राज अधिकारी को निर्देशित किया कि जांच करते हुए दोषी पाए जाने पर संबंधित सफाई कर्मियों के विरुद्ध कार्रवाई प्रस्तावित की जाए । इससे पूर्व जिलाधिकारी द्वारा गांव में ही क्रॉप कटिंग कार्यक्रम में भाग लिया गया। इस अवसर पर उप जिलाधिकारी सदर अंजनी कुमार सिंह, परियोजना निदेशक डीआरडीए अवधेश कुमार, मुख्य पशु चिकित्सा अधिकारी एस के द्विवेदी, मुख्य चिकित्सा अधिकारी डॉ अनुराग भार्गव, जिला कार्यक्रम अधिकारी डी के सिंह जिला पंचायत राज अधिकारी बीरेंद्र सिंह, अधिशासी अभियंता जल निगम एस बी सिंह, राकेश चौहान अपर जिला सूचना अधिकारी समेत अन्य अधिकारियों के द्वारा भाग लिया गया ।

Leave a Reply