गलगोटिया कॉलिज में माइक्रोवेव रिमोट सेंस िंग टैक्नोलॉजीज (मिसेंतरा) पर दो दिवसीय राष्ट ्रीय संगोष्ठी का आयोजन

गलगोटिया कॉलिज ऑफ इंजिनियरिंग एण्ड टैक्नोलॉजी में इलैक्ट्रोनिक्स क्मयूनिकेशन विभाग द्वारा भारत सरकार के सहयोग से ग्रामीण अनुप्रयोगों के लिए उभरते हुए माइक्रोवेव रिमोट सेंसिंग टैक्नोलॉजीज (मिसेंतरा) 2017 पर दो दिवसीय राष्ट्रीय संगोष्ठी का आयोजन किया गया। संगोष्ठी में दिल्ली एनसीआर के विभिन्न महाविद्यालयों के प्रोफेसरों और छात्रों ने भाग लिया। संगोष्ठी में मुख्य अथिति आलोक प्रसाद मित्तल मेम्बर सेकेट्री आईसीटीई आमंत्रित थे। वक्ता के रूप में पंजाब विश्वविद्यालय के प्रोफेसर मंदीप सिंह ने छात्रों से माइक्रोवेव रिमोट सेसिंग टैक्नोलॉजी पर विस्तृत चर्चा की। आलोक प्रसाद मित्तल ने छात्रों को बताया कि माइक्रोवेव रिमोट सेसिंग टैक्नोलोजी हमे उभरती हुई माइक्रोवेव प्रौदयोगिकियों के बारे में सबसे गहरे तरीके से बताती है। इन प्रौदोगिकियों का मुख्य उपयोग रिमोट सेसिंग के माध्यम से होता है। जिसमें विभिन्न उपग्रहों के साथ अलग-अलग क्षेत्रों के बारें में सूचना प्राप्त करने के लिए पृथ्वी को सैटेलाइट या उच्च उडान एयरक्राफ्ट द्वारा स्कैन किया जाता है। रडार इमेजेटिंग टैक्नोलॉजी का उपयोग विभिन्न कृषि उद्देश्यों, नाइट्रोजन प्रबन्धन, विभिन्न क्षेत्रों में जांच के लिए किया जाता है। संगोष्ठी में अथितियों का स्वागत डॉ0 वी0 के0 द्विवेदी निदेशक गलगोटिया कॉलिज और डॉ0 एस लक्षमणन प्रमुख ईसीई विभाग जीसीईटी ने किया। कार्यक्रम में आदित्य विक्रम, मंयक तिवारी, श्रृष्टी शर्मा आदि उपस्थित रहे।