भारत.पाक रिश्तों में नये दौर के आगाज की जरू रत है :हाई कमिश्नर ऑफ़ पाकिस्तान अब्दुल बासित

भारत और पाकिस्तान को दुनिया दुश्मन देशों के रुप में देखती है लेकिन वक्त आ गया है जब एक नये रिश्ते की नींव डाली जाए जिससे दोनों देश मिलकर विकास की नयी बुलंदियां छू सकें भारत.पाक के रिश्तों में नये दौर का आगाज दोनों देशों के युवा ही कर सकते हैं ये उम्मीद भारत में पाकिस्तान के उच्चायुक्त अब्दुल बाशित ने जाहिर की हैण् ग्रेटर नोएडा के आईआईएमटी कॉलेज में आयोजित एक कार्यक्रम में छात्रों के साथ संवाद के दौरान बाशित ने स्वीकार किया कि पिछली पीढ़ियां दोनों देशों के बीच के रिश्ते सुधारने में विफल रही हैं ऐसे में सारी उम्मीदें अब युवाओं पर ही टिकी हैं।कार्यक्रम शुरु होने के पहले आईआईएमटी समूह के चेयरमैन योगेश मोहनजी गुप्ता और एमडी मयंक अग्रवाल ने श्री बासित और अन्यई अतिथियों का स्वागत किया। पाकिस्तान के उच्चायुक्त अब्दुल बाशित ने बड़े ही खुले दिल से अपनी बात रखी उन्होंने छात्रों से कहा कि वे उनके लिए पहले से कोई तैयारी करके नहीं आए और जो कुछ भी वो कहने जा रहे हैंए वो सीधे उनके दिल से निकलेगा उन्होंने कहा कि दोनों देशों के युवाओं पर बड़ी जिम्मेदारी है क्योंकि दोनों मुल्कों को अगर साथ आना है तो ये काम अब छात्रों के कंधों पर ही होगा इसके लिए दोनों देशों के युवाओं को दृढ़ इच्छाशक्ति दिखानी होगी श्री बाशित ने कहा कि भारत की तरह ही पाकिस्तान की जनता भी विध्वंस नहीं चाहती वो भी खुशहाली के सपने देखती है और ये खुशहाली शांति के रास्ते ही आ सकती है पाकिस्तान के उच्चायुक्त अब्दुल बाशित ने कहा कि एक.दूसरे पर आरोप लगाने से किसी समस्या का कोई समाधान नहीं निकलने वाला नहीं भारत और पाकिस्तान ने जंगें भी लड़ के देख ली है और दोनों देशों को ये पता है कि जंग से किसी मसले का हल नहीं निकला है उन्होंने कहा कि सिर्फ बातचीत से ही माहौल बेहतर बन सकता हैण् शायराना अंदाज में अपनी बात कहते हुए पाक उच्चायुक्त ने कहा कि आप मुझे सुनें और मैं आपको सुनूं तो बड़े से बड़े मसले भी हल हो जाएंगे .श्री अब्दुल बाशित ने छात्रों से कहा कि वो रातों.रात अमीर होने का ख्वाब न देखें मेहनत और संघर्ष से हासिल की गयी सफलता ही लम्बी टिकती है उन्होंने कहा कि शिक्षा का बुनियादी मकसद एक बेहतर इंसान बनना होना चाहिए ऐसा इंसान जो न सिर्फ अपने मुल्क के लिए सोचें बल्कि पूरी इंसानियत की तरक्की में अपनी भूमिका निभाए उन्होंनें छात्रों से अपना उद्देश्य और इच्छाशक्ति बुलंद रखने की अपील की आईआईएमटी के चेयरमैन योगेश मोहनजी गुप्ता की तारीफ करते हुए अब्दुल बाशित कहा कि वो शुक्रगुज़ार है कि उन्हें छात्रों के बीच बात रखने का मौका दिया गया उन्होंने कहा कि जिस नये दौर के आगाज की वो बात कर रहे हैं उसकी शुरुआत ऐसे ही होगी इससे पहले नवंबर 2014 में भी अब्दुल बाशित आईआईएमटी के मेरठ कैंपस में छात्रों के बीच पहुंचे थे उन्होंने उस समय की भी यादें ताजा की

इससे पहले आईआईएमटी में श्री अब्दुल बासित स्वागत करते हुए संस्थान के चेयरमैन श्री योगेश मोहन गुप्ता ने कहा कि हम सिर्फ हाथ ही नहीं मिलाते हम दिल से दिल मिलाते हैं श्री योगेश मोहन गुप्ता ने कहा कि दोनों देशों की जनता खुशनुमा रिश्ते चाहती है उन्होंने कहा कि दोनों देश अगर मिलकर विकास के रास्ते पर आगे बढ़ेंगे तो तरक्की की नयी इबारत लिखी जाएगी कार्यक्रम के दौरान आईआईएमटी के छात्रों ने पाकिस्तान के उच्चायुक्त से कई सवाल भी पूछे छात्रों के सवाल का जवाब देते हुए श्री बाशित ने बताया कि भारत में उनका कार्यकाल उनकी जिन्दगी का सबसे अच्छा दौर रहा है और उनका भारत से रिश्ता आगे भी कायम रहेगा कार्यक्रम के अंत में आईआईएमटी के एमडी श्री मयंक अग्रवाल ने धन्यवाद ज्ञापन किया