रोटरी क्लब ग्रीन ग्रेटर नोएडा ने रक्त दान शिविर लगाया.

रोटरी क्लब ग्रीन ग्रेटर नोएडा व रोट्रेक्ट क्लब द्रोणचार्य के तत्वधान में द्रोणाचार्य ग्रुप ऑफ इस्टीट्यूट ग्रेटर नोएडा में रक्त दान शिविर का आयोजन किया गया रक्त दान शिविर में 82 यूनिट रक्त एकत्रित हुआ । रक्तदान करने के लिए 117 छात्र ,छात्राओं व कॉलिज स्टाप ने रजिस्ट्रेशन कराये जिनमे 35 सदस्य हीमोग्लोबिन कम होने BP व अन्य बीमारी की दवाई खाने की वजह से रक्त दान नही कर पाये ।

क्लब अध्यक्ष विनोद कसाना ने बताया रक्तदान शिविर में रोट्रेक्ट क्लब के अध्यक्ष पारस व कॉलिज के प्रोफेषर S K श्रीवास्तव जी का काफी सहयोग रहा ।

डारेक्टर आशीष सोती जी व रजिस्ट्रार B L पॉल ने छात्रों को रक्त दान करने के लिए प्रेरित किया और क्लब अध्यक्ष ने बताया
रक्तदान महादान- रक्तदान से बड़ा कोई दान नहीं होता है आपके खून की चंद बूंदों से किसी घर का चिराग बुझने से बच सकता है। परोपकार करना वीरों का गहना है।

यह सर्वभौमिक सत्य है कि चिकित्सा विज्ञान के क्षेत्र में तमाम तरक्की के बावजूद रक्त को किसी लैब, फैक्टरी या संस्थान में तैयार नहीं किया जा सकता है और न ही मनुष्य को जानवर का खून दिया जा सकता है इस लिए प्रत्येक स्वस्थ व्यक्ति को हर वर्ष कम से कम तीन बार अवश्य रक्तदान करना चाहिए।
रक्तदान करना एक शुभ कार्य है

रक्तदान करने के लाभ-
‘जर्नल ऑफ द अमेरिकन मेडिकल एसोसिएशन’ ने अपने शोध में पाया कि रक्तदान करते रहने से हार्टअटैक का खतरा 80 प्रतिशत कम हो जाता है। नेशनल कैंसर इंस्टीट्यूट के जर्नल में प्रकाशित एक शोधपत्र में बताया गया है कि शरीर में आयरन का उच्च स्तर कैंसर को जन्म देता है रक्तदान करने से आयरन का लेवल कम हो जाता है और कैंसर का खतरा 95 प्रतिशत कम हो जाता है। ज्योतिष शास्त्र के अनुसार किसी की कुंडली में मंगल दोष है या तरक्की में यह आड़े आ रहा है तो आप रक्तदान कर मंगल दोष से शांति/ मुक्ति पा सकते हैं।

कोई भी स्वस्थ व्यक्ति जिसकी आयु 18 से 60 वर्ष है, 45 किलो से अधिक वजन है और हीमोग्लोबिन 12.5 से ज्यादा है, तो वो व्यक्ति रक्तदान कर सकता है।

इस अवशर पर क्लब अध्यक्ष विनोद कसाना, सौरभ बंसल, मुकुल गोयल ,के के शर्मा , कपिल गुप्ता,अमित राठी, प्रीति अग्रवाल, आशुतोष अग्रवाल,अनिल गुप्ता व रोट्रेक्ट क्लब से आकाश वर्मा,अंशिता गर्ग,राशि सैनी, मोहित सोलंकी, अमन जैसवाल, मनोज पनेरू, रितिक रावत,हिमांशु कार्की आदि का सहयोग रहा

Leave a Reply