गौतम बुद्ध विश्वविद्यालय में बिग डेटा पर कार्यशाला का आयोजन

गौतम बुद्ध विश्वविद्यालय में स्कूल ऑफ आई सी टी द्वारा एक सप्ताह का एक कार्यक्रम बिग डेटा एनालिटिक्स पर आयोजित किया जा रहा है। जिसमे मुख्य अतिथि प्रोफेसर आर० के० मित्तल, कुलपति, चौधरी बंसीलाल विश्वविद्यालय रहे। जिन्होंने तकनीकी शिक्षा के क्षेत्र में हो रहे नए अनुसंधानो के बारे में बताया व विषय की उपयोगिता पर व्याख्यान दिया।
वही, गौतम बुद्ध विश्वविद्यालय के कुलपति प्रोफेसर बी० पी० शर्मा ने बताया कि भारत चौथी वैश्विक औद्योगिक क्रांति में बड़ी भूमिका निभा सकता है। इस समय बिग डेटा जैसी तकनीकियों से भारत विश्व में कैसे अपनी अग्रणी भूमिका निर्धारित कर सकता है।
इस कार्यक्रम की सयोजिक डॉ संध्या तरार ने बताया कि इस समय बिग डेटा जैसी तकनीकियों से भारत सबसे आगे आकर दुनिया के लिए प्रेरणा स्रौत बन सकता है।हाल ही में हुए तकनीकी सर्वे के हिसाब से यह सामने आया है कि 2022 तक बिग डेटा के क्षेत्र में 10 लाख से अधिक नौकरियां आने की प्रबल संभावनाये हैं। एफ डी पी के पंजीकरण के लिए शुरुआत में 40 सीटें थी जिसमेक100 से अधिक पंजीकरण प्राप्त हुए थे। लेकिन प्रतिभागियों के उत्साह देखते हुए 40 सीटों से बढ़ाकर 60 प्रतिभागियों का चयन किया गया। इस कार्यक्रम में लगभग 20 राज्यों जिसमे हरयाणा, उत्तरप्रदेश, मध्यप्रदेश, हिमाचल प्रदेश, दिल्ली, पंजाब, जम्मू कश्मीर, तमिलनाडु आदि तथा 9 विभिन्न देशों जैसे अमेरिका, कनाडा, जर्मनी, दक्षिण अफ्रीका, अफगानिस्तान, यमन, एस्तोनिया, दुबई, व दक्षिण कोरिया के प्रतिभागियों ने भाग लिया। कार्यक्रम के उद्दघाटन के बाद डॉ विमलेश कुमार व डॉ संदीप शर्मा ने सभी को धन्यवाद ज्ञापित किया। कार्यक्रम का अंत 9 फरवरी को मुख्य अतिथि डॉ अविक सरकार, हेड, बिग डेटा एनालिटिक्स सेल, नीति आयोग द्वारा प्रतिभागियों को प्रशस्ति पत्र देकर किया जाएगा।

Leave a Reply