जीबीयू में हुई कार्यशाला में आइआइटी दिल्ली के प्रोफेसरों ने दी मशीन लर्निंग तकनीकियों के बारे में जानकारी

जीबीयू में हुई कार्यशाला में आइआइटी दिल्ली के प्रोफेसरों ने दी मशीन लर्निंग तकनीकियों के बारे में जानकारी
ग्रेटर नोएडा स्थित गौतम बुद्ध विश्वधायलय के स्कूल ऑफ़ आई सी टी में मशीन लर्निंग और उसके अनुप्रयोगो के विषय पर डी.आर.डी.ओ. द्वारा प्रायोजित एक सप्ताह तक चलने वाले लघु अवधि के कोर्स का उद्घाटन मुख्य अतिथि जी.बी.यू. के कुलपति प्रोफेसर भगवती प्रकाश शर्मा द्वारा किया गया। जिसमे सम्मानीय अतिथि मिया दींन अनुरागी, प्रोफेसर जी.पी.एस. राघवा, प्रोफेसर तपोव्रता लहरी तथा डीन स्कूल ऑफ़ आई.सी.टी. डॉ इंदु उप्रेती अन्य सम्मिलित हुए।
इस कोर्स को डॉ नीता सिंह, डॉ विदुषी शर्मा एवं आरती गौतम दिनकर ने कोआर्डिनेट किया। इस दौरान प्रोफेसर बी.पी. शर्मा ने अपने विचार रखे और बताया की कैसे मशीन लर्निंग टेक्नोलॉजी का उपयोग आई.सी.टी. में किया जा सकता है। एक सप्ताह तक चलने वाले इस कोर्स के प्रथम दिन आईआईआईटी दिल्ली और आईआईआईटी इलाहाबाद के प्रोफेसर ने व्याख्यान में बायोटेक्नोलॉजी में उपयोग में आने वाली मशीन लर्निंग तकनीकियों के बारे में चर्चा की।
प्रोफेसर राघव ने बताया कि बायोटेक्नोलॉजी में प्रोटीन एवं जीनोम विश्लेषण के लिए मशीन लर्निंग कैसे उपयगी है के बारे में विभिन्न विधियों जैसे कि ए न न, स वी एम आदि को प्रयोग करके कम समय में उचित जानकारी ओपन सोर्स के द्वारा प्रयोग कर्ता को कैसे उपलब्ध कराई जाये।  उन्होंने यह भी बताया कि भारत विश्व स्तर पर बायोमेडिकल डेटाबेस बनाने में चौथे स्थान पर है जबकि भारत में इमटेक चंडीगढ़ वह आईआईआईटी दिल्ली दूसरे स्थान पर प्रोफेसर राघवा व उनकी टीम के मार्गदर्शन में है । आईआईआईटी इलाहाबाद से आये प्रोफेसर लहरी ने अपने व्याख्यान में बताया कि कैसे मशीन लर्निंग बिग डाटा विश्लेषण में लाभदायक है।
उन्होंने डाटासेट का तुलनात्मक अध्यन करने के बारे में चर्चा की। इस कार्यक्रम में डॉ अमित अवस्थी ने रिग्रेशन एनालिसिस विषय पर व्याख्यान दिया और डाटा एनालिसिस में मशीन लर्निंग के महत्व के बारे में चर्चा की। इस कार्यक्रम में डॉ मनीष मेश्राम, डॉ सियाराम, डॉ अनुराग सिंह बघेल, डॉ राजेश मिश्रा, डॉ प्रदीप तोमर, डॉ नावेद ज़फर रिज़वी, डॉ विमलेश कुमार, डॉ संदीप शर्मा अन्य शामिल रहे।

Leave a Reply