पंचशील बालिका कॉलेज में नहीं कराई जा रही है सफाई, जान जोखिम में डाल बालिका पढ़ने को मजबूर

पंचशील बालिका कॉलेज में नहीं कराई जा रही है सफाई, जान जोखिम में डाल बालिका पढ़ने को मजबूर

ग्रेटर नोएडा के कासना स्थित पंचशील बालिका इंटर कॉलेज में सुरक्षा व्यवस्था चरमराई हुई है। जहा पर बालिकाओं के खेलने के मैदान में झाडिया खड़ी हुई हैं। करीब एक करोड़ की लागत से बने हुए कॉलेज के ऑडिटोरियम की हालत भी बेहद खस्ता हो रही है।

एक्टिव सिटीजन टीम के सदस्य हरेंद्र भाटी ने जानकारी देते हुए बताया कि मैं और मेरे साथी कमल कई बार पहले भी इस बालिका कॉलेज की तस्वीर दिखा चुके हैं और अनगिनत बार मै खुद प्राधिकरण के बड़े अधिकारियों से भी बात करके समस्याओं के बारे में बता चुका हूं।  लेकिन आपने एक कहावत सुनी होगी ‘ढांक के तीन पात’ वो यंहा पर सत्य साबित होती है।
उन्होंने कहा कि एक तरफ हमारी सरकार कहती है बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ लेकिन यंहा पर ये बात बिल्कुल गलत साबित होती है। कासना स्थित सावित्री बाई फुले बालिका स्कूल इतनी बुरी स्थिति में है कि इन तस्वीरों को देख कर आपकी रूह कांप उठेगी इस स्कूल में हमारे देश का भविष्य पढ़ रहा है लेकिन स्कूल के प्रांगण में जो ऑडिटोरियम है वो करोड़ो रुपयों की लागत से बना था लेकिन अब जर्जर हालत में है। लकड़ी की अलमारियां है जिन्हें दीमक ने बुरी तरह से खा लिया है। सीसीटीवी कैमरे भी बंद पड़े हुए है और खेलने के लिए ग्राउंड है लेकिन ग्राउंड में घास इतनी बड़ी बड़ी है कि खेलना तो दूर ये बच्चियां वंहा जाने से भी डरती है।  क्योंकि इस बढ़ी हुई घास और झाड़ियों में सांप,बिच्छू,नेवला जैसे जहरीले कीड़े-मकौड़े छुपे रहते है।
उन्होंने कहा कि अब स्कूल का स्पोर्ट्स डे भी नजदीक आ रहा है। शायद प्राधिकरण किसी बच्ची के साथ किसी  अनहोनी या किसी हादसे का इंतज़ार कर रहा है। उन्होंने कहा कि मेरा और मेरी पूरी टीम का क्षेत्रीय विधायक व प्राधिकरण  के सी.ई.ओ. से हाथ जोड़ कर ये आग्रह है कि स्कूल को इस जर्जर हालत से बचाएं क्योंकि इस स्कूल में पढ़ने वाली 900 बच्चियों की जिंदगी खतरे में है।

Leave a Reply