शैलेन्द्र भाटिया को ‘अंतराष्ट्रीय विशिष्ट सम्मान ‘

शैलेन्द्र भाटिया को ‘अंतराष्ट्रीय विशिष्ट सम्मान’

एटावा : सिद्धार्थ तथागत कला -साहित्य संस्थान ने अपने पाँचवे वार्षिक अधिवेशन में साहित्य के क्षेत्र में अविस्मरणीय अवदान के लिए वर्ष 2018 का "अन्तराष्ट्रीय विशिष्ट सम्मान" यमुना विकास प्राधिकरण के विशेष कार्याधिकारी और जेवर एयरपोर्ट के नोडल अधिकारी शैलेन्द्र भाटिया को प्रदान किया है।जनपद सिद्धार्थनगर के इटवा में आयोजित एक कार्यक्रम में श्री भाटिया को यह सम्मान कॉमनवेल्थ अंतराष्ट्रीय विश्वविद्यालय के डीन डॉ वेगराज सिंह, रुड़की के पूर्व प्राचार्य डॉ योगेंद्रनाथ शर्मा, संस्थान के संरक्षक डॉ राजेन्द्र परदेशी और संस्थान के अध्यक्ष डॉ भास्कर शर्मा द्वारा प्रदान किया गया। इस अवसर पर नेपाल की साहित्यक संस्था की अध्यक्षा श्रीमती मंजुश्री प्रधान, काठमांडू दूतावास के हिंदी अधिकारी डॉ रघुवीर शर्मा, डॉ गोपाल नारसन, टी पी चौबे तथा 28 राज्यों के विभिन्न साहित्यकार उपस्थित थे। श्री भाटिया को इनके प्रथम कविता संग्रह ‘सफ़ेद कागज़’ के लिये शोभना सम्मान , नई दिल्ली में आयोजित अलंकरण सम्मान समारोह में प्रसिद्ध साहित्यकार पद्मश्री डॉ नरेन्द्र कोहली द्वारा इसी वर्ष प्रदान किया गया था।

ज्ञातव्य हो की श्री भाटिया की कविता संग्रह’सफेद कागज़’ का विमोचन गत वर्ष अगस्त महीने में राज्यपाल श्री राम नाईक ने किया था। रोजमर्रा की जिंदगी पर आधारित कविताओ के इस संग्रह पर इसके पूर्व श्री भाटिया को ‘औरैया हिंदी प्रोत्साहन निधि का ‘कीर्ति सम्मान’ प्रदान किया जा चुका है। हाल ही में श्री भाटिया द्वारा कालजयी उपन्यास ‘रागदरबारी’ पर लिखित विश्लेषण "रागदरबारी समाज का पोस्टमार्टम है" और इनके द्वारा लिखित कविता "समुद्र", ‘क्योंकि’ और "मैं अटल हूँ" अच्छी खासी चर्चा में रही है तथा जनसामान्य द्वारा सराही गई है।

Leave a Reply