डीपीएस, ग्रेटर नोएडा में बालिका के साथ कथि त दुष्कर्म की घटना

Greater Noida : डीपीएस, ग्रेटर नोएडा में बालिका के साथ कथित दुष्कर्म की घटना के संदर्भ में आपके संज्ञान में लाना है कि मीडिया में यह प्रसारित हो रहा है कि विद्यालय ने दो दिन से कथित घटना को दबाने का प्रयास किया और स्कूल प्रशासन माता-पिता पर केस को रफ़ा-दफ़ा करने के लिए दबाव बना रहा है, यह तथ्य बेबुनियाद एवं आधारहीन है।

कथित घटना पर मीडिया द्वारा बिना तथ्य की जाँच-पड़ताल किए उसे रेप की तरह दुष्प्रचार करने पर संवेदना व दुख जताते हुए विद्यालय प्रधानाचार्या श्रीमती रेणु चतुर्वेदी जी ने कहा कि “CCTV से प्राप्त जानकारी के अनुसार रेप जैसी किसी वारदात की पुष्टि नही हुई है एवं बच्ची ठीक है और माता पिता के साथ है। इस केस विद्यालय पुलिस का पहले दिन से पूर्ण सहयोग कर रही है। चिंता की बात यह है कि मीडिया की ऐसी रिपोर्टों से स्कूल के सभी मासूम बच्चों की कोमल मानसिकता पर बहुत दुष्प्रभाव पड़ रहा है। ऐसे मामलों में मीडिया को भी संवेदनशीलता बरतने की बहुत आवश्यकता है।"

कथित घटना का सम्पूर्ण ब्यौरा देते हुए श्रीमती चतुर्वेदी ने कहा कि यह घटना कथित रूप से 12.07.18 को हुई जब बच्ची ने अपने माता-पिता को पेट दर्द की सूचना दी । मौखिक शिकायत प्राप्त होने पर, डीपीएस ग्रेटर नोएडा प्रशासन त्वरित कार्यवाही करते हुए आरोपी, जो कि विद्यालय में स्वीमिंग पूल की देखरेख के लिए रखा गया था, उसे पुलिस को सौंप दिया गया।
सीसीटीवी फुटेज का पुलिस द्वारा पूरी तरह से अध्ययन करने के बाद, कोई निर्णायक सबूत नहीं था कि स्वीमिंग पूल की देखभाल के लिए रखे वर्कर ने आरोपी के रूप में कोई भी कुकृत्य किया है। इसके अलावा श्रीमती चतुर्वेदी ने बताया कि बच्चों के साथ हर समय लेडी टीचर्स मौजूद थीं और उनके अनुसार ऐसा किसी कृत्य की जानकारी बच्ची ने उन्हें नही दी।

स्कूल प्रशासन पुलिस और बच्ची के माता-पिता के साथ पूरी तरह से सहयोग कर रहा है और ऐसी घटना में शून्य सहिष्णुता की नीति ( zero tolerance policy) का अनुकरण करता है।

(Message from DPS Greater Noida )

Leave a Reply