Daily Archive: February 17, 2019

GL Bajaj conducted 13th Management Development Program (MDP) on “HR Analytics for Organizational Excellence”

GL Bajaj Institute of Management & Research, Greater Noida, conducted its 13th Management Development Program (MDP), on “HR Analytics for Organizational Excellence” on February 16, 2019 under the guidance of Mr. Pankaj Agarwal, Vice Chairman, GL Bajaj Educational Institutions. Dr. Urvashi Makkar, Director General, GLBIMR shared that the aim of this MDP was to sensitize participants about Human Resource Analytics – its scope, importance, and equip them with the knowledge of the techniques and tools of HR analytics, along with their application.

The event witnessed participation of delegates from various corporate houses, academia, research scholars and student fraternity. The Chief Guest of the event was Ms. Kamalika Deka, Regional Head-HR (North), Domino’s. Ms. Shweta Sharma, Founder, KoSolve Pvt. Ltd. was the Expert Resource Person. Ms Kamalika Deka shared that the objective of the program was to understand the usage of various HR metrics in all functions of HR to bring organizational improvement. Ms Shweta Sharma shared about the HR functions: Talent Hiring, Employee Retention, Performance Management, Productivity Enhancement, Employee Motivation, Organizational Culture and Measuring Progress.

In line with the legacy of MDPs organized by GLBIMR, this event was also highly interactive and involved brainstorming activities among the participants and trainers. All the delegates were conferred with Participation Certificates. The success of the event was synonymous to GLBIMR’s leadership in Industry interface amongst premiere management education institutions.

Supreme Court Judge Arun Mishra inaugurates international competition

“It is the youth and the young minds of the nation who will shape the future of the legal system”.- Justice Arun Mishra

Supreme Court Judge, Justice Arun Mishra inaugurated the third Prof. N.R. Madhava Menon SAARCLAW Mooting Competition and Law Students’ Conference on 16 February at Lloyd Law College, Greater Noida. Law students from all SAARC countries were participants of the gathering which included Supreme Courts’ judges of Sri Lanka, Nepal, and Bangladesh. Justice Priyantha Jayawardena, Judge Supreme Court of Sri Lanka was the Guest of Honor for the event.

Addressing the galaxy of audience which included professors, publishers, senior advocates, and students from across the SAARC countries, Justice Mishra said that we share fears, inhibitions and the art of oratory and these traits make you a better equipped person. . To the young students present for the competition he said the lawyers of the country are equipped with resources to make changes. He quoted that lawyers since the freedom struggle have been instrumental in drafting the constitution, and bringing about changes in the legal system. He not only considered law as a profession but also as a guardian of the constitution. He told that Mooting Competitions like these were also an opportunity for cultural exchanges.

There was a special address by Mr.Muhammad Mohsen Rashid, secretary general,SAARCLAW. He condemned the terror attack of Pulwana that took place on 14 February. He criticized the lack of humanity in people these days while he also talked about how this could be rectified by the power of democracy.

Mr. Priyantha Jayawardena,Judge supreme court of Sri Lanka talked about the system of checks and balances and its importance in the context of a democracy. He enlightened the students about the separation of power and the importance of the constitution as a living document. He stated that the provision of making changes in the constitution was the very life of it. . He pointed out that the recent episode of the judges calling out on the chief justice of India; Mr. Deepak Mishra was a really saddening step as it questions the very foundation of justice

In the parallel event being conducted in the premises itself that was the Judges Colloquium, the introductory speech was given by Ms. Justice Sapna Pradhan Malla, Supreme Court judge of Nepal. She talked about the processing of their constitution that begun in 2008 and came into effect in September, 2015. She asserted about the protection of minority rights and the prohibiting discrimination against them. The conference was further proceeded by the speech of Mr. Syed Refat judge supreme court Bangladesh who explained about the fine difference between judiciary and executive.

युवक की गोली मारकर हत्या से ग्रेटर नोएडा में मची सनसनी

युवक की गोली मारकर हत्या से ग्रेटर नोएडा में मची सनसनी

ग्रेटर नोएडा से बड़ी खबर, युवक की गोली मारकर हत्या से मची सनसनी, खेत में गोली लगा पड़ा मिला युवक का शव, पुलिस ने शव को पोस्टमार्टम के लिए भेजा, ईकोटेक फर्स्ट के अमरपुर गांव में हुई हत्या।

प्राईवेट अस्पतालों की मनमानी पर लगाया जायेगा अंकुश

प्राईवेट अस्पतालों की मनमानी पर लगाया जायेगा अंकुश
जैसा कि विदित ही है कि प्रदेश के आम आदमियों को त्वरित व सस्ती चिकित्सा सुविधा न हो पाने तथा प्राईवेट अस्पतालों द्वारा मनमाफिक रेट तय कर, जनता से अधिक शुल्क वसूली आम बात हो चली है। उसी को देखते हुए उत्तर प्रदेश की विधानसभा 2019 के प्रथम सत्र में जेवर विधायक धीरेन्द्र सिंह ने सरकार के संज्ञान में एक प्रश्न के माध्यम से यह बात उठाते हुए कहा कि ’’क्या सरकार टेलीफोन रेगुलेटरी अथाॅरिटी ऑफ़ इंडिया की तर्ज पर प्राईवेट अस्पतालों की मनमानी रोकने के लिए कोई नियामक आयोग बनायेगी?’’
जिसके जबाव में उत्तर प्रदेश सरकार ने प्रदेश के सभी सरकारी, गैर सरकारी क्लीनिकों, चिकित्सालयों, नर्सिंग होम, प्रयोगशाला, डायग्नोस्टिक सेंटर व अन्य सभी प्रकार के निदान केन्द्रों पर प्रभावी नियंत्रण तथा इनके द्वारा जनता को सुलभ व सुगम चिकित्सा सुविधा उपलब्ध कराने व जनता को शोषण से बचाने के लिए जल्द ही क्लिनिकल एस्टाब्लिश्मेंट एक्ट (Clinical Establishment Act) लागू किये जाने पर सहमति दी है, जिसके अन्तर्गत राज्य व जनपद स्तरीय समितियां एवं प्राधिकरण गठित कर, प्राईवेट अस्पतालों, निदान केन्द्रों व प्रयोशालाओं आदि पर नियंत्रण हो सकेगा व आम जनता के हो रहे शोषण से निजात मिलेगी।

कासना पुलिस ने रियल एस्टेट कंपनी के डायरेक्टर गौरव मावी को किया गिरफ्तार

कासना पुलिस ने रियल एस्टेट कंपनी के डायरेक्टर गौरव मावी को किया गिरफ्तार

कासना पुलिस ने चेक बाउंस के एक मामले में रियल एस्टेट कंपनी के डायरेक्टर गौरव मावी को गिरफ्तार किया है। पुलिस के अनुसार, चेक बाउंस के मामले में कोर्ट से वारंट जारी हुआ था। पुलिस ने जिला अदालत में पेश कर जेल भेज दिया। कासना कोतवाली के एसएचओ रामफल ने बताया कि गौरव मावी के खिलाफ चेक बाउंस का मामला दर्ज था। इसमें वह फरार चल रहा था। मावी ने नोएडा समेत कई शहरों में अपने रियल एस्टेट प्रॉजेक्ट भी लॉन्च किए थे। बेटर ऑप्शन प्रॉपमार्ट (बीओपी) में वह डायरेक्टर है। पुलिस ने उसे जेपी ग्रीन्स स्थित उसके घर से गिरफ्तार किया है। पुलिस को उसकी भाई अमित मावी की भी तलाश है।

Police releases poster of culprit involved in bank fraud, and announces a reward on him

Police had released the posters of a person who allegedly debited 2 lakh 20 thousand by attempting fraud in a branch of SBI Dankaur. The incident is of 8th February when the culprit attempted the incident by misguiding his identity. Now Sub Inspector Pawan Kumar who is investigating the matter has told that police will be rewarding 2 thousand who give information about the culprit.

While the victim in the incident is been identified as Manoj Kumar a resident of Rampur Majra village.

नोएडा पुलिस के दो क्षेत्राधिकारियों का पद स्थानांतरण

नोएडा पुलिस के दो क्षेत्राधिकारियों का पद स्थानांतरण

एसएसपी वैभव कृष्ण ने दो क्षेत्राधिकारी का किया स्थानांतरण, राजीव कुमार सिंह को CO ग्रेटर नोएडा तृतीय भेजा, पीयूष कुमार सिंह को CO नगर द्वितीय भेजा गया, एसएसपी ने कानून व्यवस्था के मद्देनजर किया फेरबदल।

एसएसपी गौतम बुद्ध नगर ने दो क्षेत्राधिकार ी का किया स्थानांतरण

एसएसपी ने दो क्षेत्राधिकारी का किया स्थानांतरण, राजीव कुमार सिंह को सीओ ग्रेटर नोएडा तृतीय भेजा, पीयूष कुमार सिंह को

सीओ नगर द्वितीय भेजा गया, एसएसपी ने कानून व्यवस्था के मद्देनजर किया फेरबदल।

भारत के इंस्पायर अवार्ड में डीपीएस ग्रेटर नोएडा का छात्र आयुष भंसाली चयनित

भारत के इंस्पायर अवार्ड में डीपीएस ग्रेटर नोएडा का छात्र आयुष भंसाली चयनित
भारत सरकार के विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी विभाग के तत्वाधान में इंस्पायर अवार्ड के संदर्भ में सातवीं राष्ट्र स्तरीय प्रदर्शनी एवं प्रोजेक्ट प्रतियोगिता का आयोजन आईआईटी नई दिल्ली में 14 एवं 15 फरवरी को आयोजित किया गया। इस महत्वपूर्ण प्रतियोगिता में देश के लगभग दो लाख  बच्चों के द्वारा प्रतिभाग किया गया था।
जिला विद्यालय निरीक्षक पीके उपाध्याय ने जानकारी देते हुए अवगत कराया है कि इंस्पायर अवार्ड में आयोजित प्रतियोगिता के अंतर्गत उत्तर प्रदेश से मात्र 6 बच्चों का चयन किया गया है। जिसके अंतर्गत 6 बच्चों में से आयुष भंसाली डीपीएस ग्रेटर नोएडा का चयन हुआ है। यह जनपद के लिए बहुत ही गौरव का विषय है।
जिलाधिकारी बीएन सिंह एवं जिला विद्यालय निरीक्षक पीके उपाध्याय के द्वारा आयुष के द्वारा शिक्षा जगत में जनपद का नाम रोशन करने पर उन्हें, उनके परिवार एवं डीपीएस के प्रधानाचार्य को बधाई दी है। जिला विद्यालय निरीक्षक ने बताया कि इंस्पायर अवार्ड में आयुष का चयन होने के उपरांत भारत सरकार के द्वारा उसके प्रोजेक्ट में आगे निरंतर रूप से सहयोग प्रदान किया जाएगा।