Daily Archive: November 18, 2018

जेवर एयरपोर्ट से प्रभावित परिवारों में युवाओं को रोजगार से जोड़ने के लिए जिला प्रशासन द्वारा चलाया जा रहा है विशेष अभियान

जिलाधिकारी बीएन सिंह के प्रयास से जेवर एयरपोर्ट से प्रभावित परिवारों के बच्चों को रोजगार से जोड़ने के लिए विभिन्न संस्थाएं आगे आ रही हैं। इस क्रम में आईसीआईसीआई बैंक के द्वारा युवाओं को रोजगार दिलाने के उद्देश्य से स्किल डेवलपमेंट के संदर्भ में एक कैंप आयोजित किया जा रहा है। जिसका प्रशासन के अधिकारियों द्वारा क्षेत्र में व्यापक प्रचार-प्रसार किया गया है, ताकि विस्थापित परिवारों को सरकार, शासन एवं जिलाधिकारी की मंशा के अनुरूप लाभ प्राप्त हो सके।

ऑटो कोड लिखा होने से नहीं आई शादी में कोई अड़चन, 15 हज़ार रुपये व शादी के कपड़े एक्टिव सिटीज़न टीम की मदद से मिले

ऑटो कोड लिखा होने से नहीं आई शादी में कोई अड़चन, 15 हज़ार रुपये व शादी के कपड़े एक्टिव सिटीज़न टीम की मदद से मिले

आज सुबह ग्रेटर नोएडा गाँव जैतपुर मे पवन शर्मा अपने रिश्तेदार की शादी के लिए ग्रेटर नॉएडा आये थे। उन्होंने तिलपता चौक से जेतपुर गाँव जाने के लिए एक ऑटो किराये पर किया था जब वो ऑटो से उतरे तो उनका बैग जिसमे शादी के लिए नोटों की माला व लगभग पंद्रह हज़ार रुपये रखे हुए थे ऑटो मे छूट गया। जेतपुर गाँव मे उनके घर के बाहर कैमरे में देखने के बाद ऑटो कोड को लेकर उन्होंने एक्टिव सिटीजन टीम के हरेंद्र भाटी से संपर्क साधा। ऑटो कोड की डिटेल में ऑटो चालक राजनारायण से बात की जिसने कहा की बैग उसके ही पास है और वो उस बैग को लेकर बीटा सेक्टर आ गया।  ऑटो कोड की शुरुआत तत्कालीन पुलिस अधीक्षक बृजेश सिंह ने की थी जिसका लाभ आम जनता को काफ़ी मिल रहा है ।अपना सामान वापस पाकर पवन शर्मा ने एक्टिव सिटीजन टीम का हार्दिक धन्यवाद अदा किया।

बिल्डर के खिलाफ कोर्ट जाने की तैयारी में कचैडा के किसान

बिल्डर के खिलाफ कोर्ट जाने की तैयारी में कचैडा के किसान

दादरी के बादलपुर कोतवाली क्षेत्र स्थित कचैड़ा गांव के किसानों ने हाईटेक बिल्डर के खिलाफ अपनी मांगों न्यायालय की शरण में जाने की तैयारी कर ली है। करीब 25 दिन पहले प्रशासन ने पुलिस बल की मौजदूगी में बिल्डर को किसानों की जमीन पर कब्जा दिला दिया था। बिल्डर ने इस बात का विरोध  तो 88 किसानों को प्रशासन ने जेल भेज दिया था।

दिवाली की रात दादरी के विधायक तेजपाल नागर व केंद्रीय मंत्री डॉ. महेश शर्मा के हस्तक्षेप के बाद किसानों को जेल से रिहा कर दिया गया था। उस समय विधायक तेजपाल नागर ने 17 नवंबर तक किसानों की जायज मांगें बिल्डर द्वारा मनवाने का आश्वासन दिया था। विधायक द्वारा दी गई समय सीमा समाप्त होने के बाद अब किसान न्यायालय की शरण में जाने का मन बना रहे हैं।

सिंचाई व्यवस्था को बेहतर बनाने के लिए किसानो को दिया जाएगा सोलर फोटोवोल्टेईक इर्रीगेशन पम्प के लिए अनुदान

सिंचाई व्यवस्था को बेहतर बनाने के लिए किसानो को दिया जाएगा सोलर फोटोवोल्टेईक इर्रीगेशन पम्प के लिए अनुदान
जिलाधिकारी गौतमबुद्धनगर बीएन सिंह ने जनपद के समस्त कृषको का आहवान करते हुये उन्हें जानकारी दी है कि सिंचाई व्यवस्था को बेहतर बनाने के उद्देश्य से कृषि विभाग द्वारा संचालित योजना के तहत कृषकों को सोलर फोटोवोल्टेईक इर्रीगेशन पम्प के लिए अनुदान दिया जायेगा, क्योकि प्रदेश में जहाॅ पर भी भू-गर्भ जल स्तर 10 मीटर से 70 मीटर गहराई तक है, वहाॅ पर सोलर फोटोवोल्टेईक इर्रीगेशन पम्प के सरफेस समरसेबुल पम्प तथा सबमर्सिबल पम्प अच्छी तरह कार्य करते है।
उन्होंने संचालित योजना के सम्बन्ध में विस्तार से जानकारी देते हुए बताया कि उक्त योजना में ऐसे लघु एवं सीमान्त कृषकों को प्राथमिकता दी जायेगी, जिनके पास सिंचाई के लिए साधन न हो।उन्होंने बताया कि ऐसे कृषक संचालित योजना का लाभ उठा सकते है, जिनके पास 2 एचपी सरफेस के लिए 4 इंच की बोरिंग एवं 3 एचपी के लिए 6 इंच की बोरिंग की व्यवस्था हो एवं उनके द्वारा वर्तमान में डीजल पम्प सेट के माध्यम से सिंचाई की जा रही हो तथा सिंचाई के लिए उनके पास कोई स्त्रोत न हो और उनके स्थल विद्युत ग्रिड से 300 मीटर की दूरी पर स्थित हो। संचालित योजना का लाभ उठाने के लिए कृषकों को विभागीय पोर्टल www.upagriculture.com  पर जाकर अपना आॅन लाइन आवेदन करना होगा एवं पंजीकरण सूची में नाम देखकर ड्राफ्ट 15 नवम्बर से 10 दिसम्बर, 2018 तक अपलोड कराना सुनिश्चित करें। योजना में पंजीकृत लाभार्थियों का चयन प्रथम आवत प्रथम पावत के आधार पर किया जायेगा।
जिलाधिकारी ने संचालित योजना के उद्देश्यों के बारे में विस्तार से जानकारी देते हुये बताया कि सोलर पम्प की स्थापना से सिंचाई लागत को कम करके कम से कम लागत पर अधिक उत्पादन किया जा सकता है एवं उर्जा के स्त्रोतो कोयला, पेट्रोल, डीजल एवं विद्युत आदि की समस्या का समाधान किया जा सकता है। उन्होंने बताया कि सोलर पम्प की स्थापना पर्यावरण को स्वच्छ बनाये जाने में काफी मददगार साबित होगा एवं अत्यधिक विश्वसनीय एवं व्यवधान मुक्त सिंचाई संसाधन उपलब्ध हो सकेंगे।