Daily Archive: September 5, 2018

Facilitate Registration of Rent Agreements rather than registering FIRs

Rajiv Goyal

My views in the subject are summarised as follows:

1. In residential sectors, average rent is Rs 15000/- a month i.e. Rs 300/- as stamp duty a month or say Rs 3300 /- for Agreement period of 11 months

2. There must be around 30,000 dwelling units on rent in residential areas in Noida – Greater Noida .So, State must get approx Rs 1 Cr per month of revenue i.e. Rs 12 Cr per year

3. With CM’s active interactions with home buyers and builders probably 15000 nos more flats will be ready for possessions in a year. That means many of dwelling units shall be vacated or rent will further come down by 15-20%. Already many dwelling units are vacant. In terms of Stamp revenue, it will come down to Rs 7-8 Cr

4. While many of people in city are living on rent , even 2% income loss will be hardship to them

5. Before providing one month notice, whether resources are being built up for collection of such money from so many people. May be online payments or through Paytm etc could be thought of.

6. Do we have registration offices equipped with facilities for people coming for registration . Even a flat owner pays Rs 5 Lac in stamp , they must give grand welcome and best of facilities. Even if a pack of Rs 100 food items , tea or coffee is served , it will be a good gesture

7. Are we really intend to convert GB Nagar a Police state? For every small things, filing FIR. Is not the right environment created by the Government. While its prerogative of government to handle its citizen, we really are optimistic that lessons shall be taken from Sh. Narendra Modi, Hon’ble PM who is successful to remove redtapism in Income Tax, GST departments . Constructive and smart environment created by the state has resulted in increasing tax compliance by almost 200% in 4 years. Just like Gandhi, De Diya Tax Hame, Bina Khadak Bina Dhal.

8. I hope, concern officers in tax and revenue administration would look into this aspect, also they can keep Police busy on resolving heinous crimes and not to collect Rs 3300/- from a person. Government can invite Professionals agency like TCS to develope Smart and smooth system for collections of such revenue as well as promoting message through professional advertising agency

9. I hope that coercive system if any will not be imposed upon citizens of GB Nagar and will be implemented across the state.

10. I suggest before targeting people on rent, focus is made on registration of all flats where possession is being providing by builders without registration. For this purpose whatever is required to be done with Noida / GNIDA should’ve been done by office of DM .

11. I would also suggest DM office to call professionals to take ideas on increasing revenue in modern day world rather than depending upon certain clauses of Acts which have never been implemented.

In the interest of larger population, it would be better that such a matter be implemented in consultation with the industry / commercial experts leaving in residential areas.

Janmashtami celebration held at BIMTEC Greater Noida

The festival of birth of lord Krishna was celebrated with much fervour and liveliness in BIMTECH on September 3, 2018. This is a traditional ritual which the college follows every year to add gaiety in the campus. The celebration started with an amusing matki phod inter department competition. A total of 8 teams including both the staff and the students participated with great zeal in the competition. Students from all the branches along with Dr. Anupam varma, K R Chari and other staff dignitaries acted as a wonderful audience and motivated the participants. Both the girls’ and the boys’ team of section ‘C’ 1st year DM emerged as the winner of the competition.
In the evening a hammock was decorated, the statue of lord krishna was established and the program started with the ganesh vandana followed up by the famous enchanting bhajan of “ bhayi nandlala”. Subsequently, the celebration was embarked by the presence of live performance of a well-known and globally acclaimed cultural troupe from Vrindavan, Mathura, under its director Shri Manoj Brijwasi ji. . Mr Brijwasi has been honored with Brij Vibhuti in 2012 and Brij Gaurav Adhikar in 2016. The "Mayur dance" presented by the dance congregation was also the center of attraction, in which the love of Krishna and Radha was depicted. Thereafter, "Dandiya Ras" was organized and hence all the students couldn’t resist themselves from moving their feet on the famous bhajans of lord krishna.
Finally, at 12 o’clock in the middle of the night, Krishna was born, in which all the students and teachers were raising the hand and proclaiming "Hare Ram Hare Krishna", with which the festive day came to an end.
BIMTECH, despite being a leading management institute, has always celebrated all the festivals, with the students coming from different provinces to develop faith towards religion and cultivate the religious values in its family.

12th Foundation Day and “Neev” Teachers’ Day celebrated at GL Bajaj Gr Noida

GL Bajaj Institute of Management & Research (GLBIMR), Greater Noida celebrated its 12th Foundation Day and “Neev”- Teachers’ Day on September 5, 2018 with ebullience. The day was marked by an auspicious “Hawan” Ceremony in the campus in the august presence of Mr. Pankaj Agarwal, Vice Chairman, GL Bajaj Educational Institutions and Dr. Urvashi Makkar, Director General, GLBIMR, along with the students, faculty & staff members. GLBIMR was established in the year 2007 under the leadership of Chairman Shri Ram Kishore Agarwal Ji and has thereupon embarked on a journey of imparting quality education to thousands of students and budding professionals, under the remarkable leadership of Edupreneurist, Vice Chairman, Mr. Pankaj Agarwal.

Highlighting the success of GLBIMR, Dr. Makkar shared the significance of Foundation Day of the Institute coinciding with the nationwide celebration of self-less dedication of the educators & mentors on the occasion of Teacher’s Day. In continuation of the celebrations, the spirit of Teacher’s Day was marked by spectacular activities presented by GLBIMR-ians. To mark the commencement, ceremonial lamp lighting was done by Dr. Urvashi Makkar along with faculty members & students. She acknowledged the students for their efforts in organizing such an amazing celebration and affirmed that teaching is not just a profession, but a responsibility to guide the youth and shape the Nation; she encouraged the faculty members to deliver academic quality and excellence in offering world-class Management Education to their students. The celebrations concluded with a pledge by the students to put in their best efforts throughout their academic pursuit as a mark of honor towards their teachers.

कॉलेज नहीं परिवार बनाएगा सुसंस्‍कारित बह ू

अनिल निगम

‘‘यत्र नार्यस्‍तु पूज्‍यन्‍ते, रमंते तत्र देवता’’ भारतीय संस्‍कृति का यह सूक्ति वाक्‍य भारतीय समाज और संस्‍कृति में महिलाओं की श्रेष्‍ठ स्थिति को दर्शाता है। इसी संदर्भ में एक खबर ने हम सभी का ध्‍यान आकर्षि‍त किया है जिसमें कहा गया है कि बनारस हिंदू विश्‍वविद्यालय (बीएचयू) अब महिलाओं को बहू बनने का प्रशिक्षण देगा। यह खबर हर नागरिक को न केवल चौकाती है, वरन इसका भारतीय जनमानस पर गंभीर असर पड़ता है। इस खबर से हमारे मन-मस्तिष्‍क में सबसे बड़ा सवाल यह पैदा होता है कि आखिर हमें सफल बहू बनने के लिए समाज की मूल इकाई परिवार को छोड़कर कॉलेज में दाखिला लेने की जरूरत क्‍यों महसूस हुई है? क्‍या कॉलेज मात्र तीन महीने के कोर्स में एक लड़की को सफल बहू बनने के सभी गुर सिखा देगा? क्‍या ऐसे पाठ्यक्रमों को शिक्षा जगत में शामिल कर प्रोत्‍साहित किया जाना चाहिए?
बीएचयू ने यह कोर्स डाटर्स प्राइड यानि बेटी मेरा अभिमान नाम से पाठ्यक्रम तैयार किया गया है। तीन महीने के इस पाठ्यक्रम में छात्राओं को आत्‍मविश्‍वास, इंटरपर्सनल कौशल, समस्‍याओं को हल करने की कला, मैरिज एवं स्‍ट्रेस स्किल्‍स और सामाजिकता इत्‍यादि गुण सिखाएं जाएंगे।

प्राचीन आर्य समाज में महिला को ‘जानि’ के नाम से जाना जाता था, जिसका अर्थ जन्म देने वाली होता है। आगे चलकर यही शब्‍द ‘जननी’ शब्द बन गया।
परिवार के पुरुष और नारी दो स्‍तंभ होते हैं। उन्हीं के संयुक्त प्रयास से परिवार बनते और चलते हैं, लेकिन परिवार को सु‍व्‍यवस्‍थित रखने का उत्तरदायित्व नारी के ऊपर होता है। परिवार का संपूर्ण वातावरण उसी के आचार और व्‍यवहार पर निर्भर करता है।
भारतीय संस्‍कृति में नैतिकता सीखने की पहली पाठशाला परिवार को माना जाता है। पूर्व में संयुक्‍त परिवार की परंपरा थी। माता-पिता के अलावा चाचा, चाची, दादा, दादी, नाती, पोते इत्‍यादि के एक छत के नीचे रहते थे। लेकिन अब संयुक्त परिवारों का अस्तित्‍व धीरे-धीरे समाप्त होता जा रहा है। नई पीढ़ी की अकेले और स्वच्छंद रहने की इच्छा और आधुनिक लाइफ स्टाइल की प्रवृत्ति संयुक्त परिवार के टूटने का प्रमुख कारण हैं। आज की युवा पीढ़ी माता-पिता, दादा-दादी के प्रति आदर, सम्मान और सुसभ्य व्यवहार करना भूल सी गई है। संयुक्‍त परिवारों के टूटने से परिवारिक समरसता में कमी आई है। सभी अपनी-अपनी धुन में रमते हुए जीवन शैली को ढालने में मशगूल हैं। हर व्यक्ति इतना व्यस्त हो गया है कि उसके पास सोशल मीडिया-व्‍हाट्सएप, फेसबुक, ट्विटर इत्‍यादि के लिए तो समय है, पर घर के बुज़ुर्गों के पास दो पल बैठकर प्यार से बातें करने और उनका हाल-चाल पूछने का समय नहीं है।

संयुक्‍त परिवारों के बिखराव के साथ ही नैतिकता, सामाजिक नियमों व कानूनों, रहन-सहन में भी बहुत बदलाव आ चुका है। संयुक्त परिवारों के मज़बूत स्तंभों के ढहते ही समाज का सारा ढांचा तहस-नहस हो गया है। अनेक परंपराएं और रीति-रिवाज समाप्‍त हो चुके हैं। ऐसा होने से हमारी संस्कृति को गंभीर आघात पहुंचा है। एकल परिवारों की बढ़ती प्रव़त्ति और संयुक्त परिवारों में बिखराव आने से हमारी संस्‍कृति पर पाश्‍चात्‍य संस्‍कृति हावी होती जा रही है। निस्‍संदेह इसके कारण हमारे समाज में महिलाओं की भूमिका और स्थिति में भी बदलाव आया है।
मुझे यह बात कहने में कोई गुरेज नहीं है कि संयुक्त परिवार के टूटने से यदि किसी का सर्वाधिक लाभ और नुकसान हुआ है तो वह महिला है। संयुक्त परिवार में महिलाएं पुरुष की चौधराहट से खुद को दबा हुआ महसूस करती थीं। उनके अधिकारों का हनन होता था, पर अब वे अपनी मर्जी से स्‍वतंत्रतापूर्वक अपना जीवन यापन कर सकती हैं। उनको पुरुषों के ही समान अधिकार मिल गए ह हैं। लेकिन इसका दूसरा पहलू यह है कि कई मामलों में नारी की स्वतंत्रता स्‍वछंदता में परिवर्तित हो गई है। वह फ़ैशन और ग्लैमर में डूबती चली गई और वह अपनी सभ्यता और संस्कृति से दूर होती चली गई।
स्‍वामी विवेकानंद ने भी कहा था कि परिवार के लिए नारी शक्ति स्वरूपा है। घर-परिवार का पूरा वातावरण उसी के आचरण पर निर्भर करता है। नारी जन्मदात्री है। बच्चों का प्रजनन ही नहीं, पालन-पोषण भी उसके हाथ में है। मां बच्चों को बचपन से ही संस्‍कार देती है। महिला संयुक्‍त परिवार में मां, बहू, बहन, बुआ, मासी, दादी के रूप में अहम भूमिका निभाती रही है। इसी परिवार में लड़की को विभिन्‍न रिश्‍ते एक अच्‍छी और सुसंस्‍कारित बहू बनने का लंबा प्रशिक्षण भी देते हैं। उसे जिस कौशल में उसकी मां और दादी अनेक वर्षों तक पारंगत करती थीं, उसे आज कॉलेज सिर्फ तीन महीने में सिखा कर अच्‍छी बहू बना देगा, इस पर सवाल उठना स्‍वाभाविक है। मैं यह तो नहीं कहता कि बीएचयू जो पाठ्यक्रम शुरू करने जा रहा है, वह नहीं चलाया जाना चाहिए और मैं यह भी नहीं कह रहा कि संयुक्‍त परिवार की परंपरा को समाज पर फिर से थोप दिया जाए। पर मैं समाज के बुद्धिजीवियों और इस पाठ्यक्रम के निर्माताओं एवं संचालकों का इस बात के लिए आह्वान अवश्‍य करना चाहता हूं कि वे प्रशिक्षित की जाने वाली छात्राओं का ऐसा विकास करें ताकि वे एक सभ्‍य एवं सुसंस्‍कृ‍त नारी बन सकें। (लेखक वरिष्‍ठ पत्रकार हैं)

ग्रेटर नोएडा – डीएम ऑफिस पर राशन डीलरों का हल्ला बोल

ग्रेटर नोएडा : डीएम ऑफिस पर राशन डीलरों का हल्ला बोल अपनी मांगों को लेकर प्रदर्शन कर रहे है सैकड़ों कोटेदार राशन डीलरों का आरोप, कालाबजारी के लिए सरकार जिम्मेदार गौतमबुद्धनगर में फर्जी आधार कार्ड लगाकर राशन का गबन करने के मामले में 31 राशन डीलरों के खिलाफ दर्ज है एफआईआर

गौतम बुद्ध विश्वविद्यालय में शिक्षा के न ये आयामो पर प्रदर्शनी का आयोजन किया गया

ग्रेटर नोएडा : गौतम बुद्ध विश्विद्यालय में शिक्षा एवं प्रशिक्षण विभाग में शिक्षा के बदलते स्वरूप एवं विभिन्न विकसित देशों में प्रयोग की जाने वाली एडवांस टेक्नोलॉजी इत्यादि विषयों पर परिचर्चा की गई तदोउपरन्त बीएड के विद्यार्थियों दुआरा विभिन्न नये विषयों से संबंधित टीचिंग एड को विभिन्न मॉडलो के रुप में प्रदर्शनी में प्रस्तुत किया गया। यह बीएड के विद्यार्थियों के लिए एक बहुत ही महत्वपूर्ण कौशल है जैसा कि विदित है है कि सरकार भी कौशल विकास पर विशेष प्रोत्साहन दे रही है। इन प्रशिक्षु विद्याथियों के विभिन्न प्रयासो के दुआरा इनके कौशल विकास में अभूतपूर्व वर्द्धि करने की चेस्टा भी की जा रही है प्रशिक्षु विधार्थियो ने बहुत ही अधभुत कला का परिचय देते हुए विभिन्न नवीन विषयों को पढ़ाने हेतु सहायक सामग्री जैसे जी एस टी, पृथ्वी की गति लाभ या हानि, बैंकिंग सेवा प्रणाली, जल संरक्षक इत्यादि इसके अतिरिक्त एक छात्रा प्रज्ञा चौबे ने एक बड़ा ही इनोमेटिव प्रतिमान मोडल प्रस्तुति किया इस छात्रा ने इसका नाम वर्ब प्ले गार्डन का दिया। इन्होंने बताया कि जैसे शिक्षा कोई बोझ न होकर खेल खेल में सीखी जा सकती है विभिन्न चरित्रों के माध्यम छात्रा ने किर्या के विषय मे ज्ञान वर्धन किया इस प्रदर्शनी में विश्वविद्यालय के अन्य विभागों एवं स्कूलों के छात्रों ने इस प्रयास को अत्यधिक सराहा विभाग के संकाय सदस्यों डॉ रिंकल शर्मा श्री मति अनुराधा पांडे ने समस्त छात्र छात्राओं का उत्साह वर्धन किया। इस अवसर पर विभागध्यक्ष डॉ विनोद शनवाल ने सभी संकाय सदस्यों एवं छात्र/छात्राओं के उत्कृष्ट कार्यो हेतु भूरी-भूरी प्रसंशा की तथा भविष्य में भी इस प्रकार के बेहतर कार्य करने हेतु उत्साहित किया।

इस प्रदर्शनी में सुनील, शेषभान, विनीत , दुष्यंत, सविता पटेल, प्रज्ञा, पिरया, क्रष्णा, मनीषा आदि ने प्रतिभागिता की