सुरजपूर स्थित कलेक्ट्रेट पर भारतीय किसान यूनियन के बैनर तले धरना जारी है। एनसीआर मीडिया प्रभारी नरेश शर्मा ने जानकारी देते हुए बताया कि भीष्ण गर्मी के आगे किसान पस्त नहीं पडे हैं। आज की पंचायत की अध्यक्षता बाबा देवी राम जी की व संचालन पवन खटाना नं किया किसानों की आज भी उतने ही बुलंद हैं जितना 21 मई को थे।

भाकियू ने स्पष्ट कर दिया है कि यदि प्रशासन ने किसानों के जिले में किसी भी मुद्दे पर चल रहे धरने मे यदि प्रशासन व पुलिस ने अडंगा डाला तो भाकियू बडा आंदोलन करने पर मजबूर होगी और इसके लिए प्रशासन ही जिम्मेदार होगा। हर सोमवार की तरह आज भी धरने में महापंचायत का आयोजन किया गया। जिसमें किसानों ने अपनी मांग 64.7 प्रतिशत अतिरिक्त प्रतिकर मयब्याज शासन द्वारा घोषित समय से व 10 प्रतिशत आवासीय भूखंड दिलाना, नोएडा प्राधिकरण द्वारा 1976 से 1997 तक के किसानों के साथ हो रहे सौतेले व्यवहार को खत्म करके उनके किसान कोटे के प्लॉट भी अधिग्रहण रेट के आधार पर दिलाया जाना, यमुना प्राधिकरण के अंतर्गत पड़ने वाले जगनपुर, अफजलपुर, अट्टा फतेहपुर एंव दनकौर गांव के किसानों को 4 वर्ष बीतने के बाद भी एक किसान को अतिरिक्त कर नहीं दिया गया है जबकी उपरोक्त तीनों गांव की पूर्णरूप से जमीन प्राधिकरण अपने कब्जे में ले चुका है उसका भुगतान, तीनों गांवों में बच्चों व परिवार के लिये सुविधा व निजी स्कूलों व अस्पतालों की लूट को बंद किया जाना चाहिए रखी।

जब तक यह मांगे पूरी नहीं हो जाती है किसान धरने से हटने वाला नहीं है। भाकियू आश्वासन से अपना धरना समाप्त नहीं करेगी यह बात प्रशासन को स्पष्ट हो चुकी है। बनी .रोहतास .गौतम सिंह .अशोकनागर इमलिया सिंह बाबा बलराज, राधे प्रधान, अक्के भाटी, नरेश शर्मा, पवन खटाना, सुभाष चौधरी, अनिल चौधरी, गजेन्द्र चौधरी, महेन्द्र मुखिया, बाबा लज्ज राम, रविन्द्र भाटी, सुनील प्रधान, हरेन्द्र बैसोया, सुरेन्द्र नागर आदि मौजूद थे।