Daily Archive: April 25, 2018

गौतम बुद्ध नगर में फिर सक्रीय हुआ एंटी रोम ियो स्क्वॉड, स्कूल- कॉलेज के पास हुई पेट्रोलि ंग!

देश – प्रदेश में महिलाओं के प्रति बढ़ रहे अपराध के बीच गौतम बुद्ध नगर में एक बार फिर एण्टी रोमियो स्क्वाॅयड सक्रीय हो गया है। टीम द्वारा स्कूल/कॉलेज व भीड़ भाड़ वाले इलाकों में पेट्रोलिंग की गई व कन्या इंटर कॉलेज में छात्राओं को सुरक्षा के उपाय बताये गए।

नॉएडा से लेकर ग्रेटर नॉएडा तक एंटी रोमियो स्क्वाड ने विभिन्न स्कूल – कॉलेज का निरिक्षण किया और छात्रों से बातचीत कर जागरूकता भी फैलाई।

लॉयड कॉलेज में ऑलइंडिया जॉब फेस्ट का समाप न एवं औषधि विज्ञान के म्युसियम का उद्घाटन ​.​

लॉयड कॉलेज में ऑलइंडिया जॉब फेस्ट(फार्मा और मैनेजमेंट के विद्यार्थियों के लिए ) का समापन हुआ .समापन कार्यक्रम के मुख्य अतिथि डॉ. ऐस . ईस्वर रेड्डी(ड्रग कंट्रोलर जनरल ऑफ़ इंडिया ) थे .फेस्ट में 33 फार्मा कम्पनी आयी . .पूरे भारत से १३०० विद्यार्थियों ने जॉब फेस्ट में भाग लिया .

कार्यक्रम के मुख्य अतिथि ने लॉयड कॉलेज में एक म्युसियम का उद्घाटन भी किया .यह म्युसियम प्राचीन भारत से लेकर आधुनिक भारत के इतिहास को दर्शाता है .यह अपने आप में अनूठा प्रयोग है .भारत में अन्य किसी प्राइवेट कॉलेज में औषधि विज्ञानं पर आधारित म्युसियम नहीं है.इस म्युसियम में औषधि विज्ञान के विकास को दर्शाया गया है .इसमें औषधिशास्त्र के विद्वान उनकी पद्धतियों उनके प्रयोगों आदि को चित्रित किया गया है .मुख्य अतिथि ने कहा की यह प्रयोग सराहनीय है .औषधि विज्ञान के इतिहास पर भी ध्यान देने की आवश्यकता है .हमारे प्राचीन ग्रन्थ यह बताते हैं की हम प्राचीन काल में भी कितने विकसित थे .औषधि का क्षेत्र काफी उन्नत था .हर तरह के रोग की औषधि उपलब्ध थी .भारत के इतिहास को खंगाला जाए और समुचित शोध किया जाए तो हमे कैंसर का सस्ता और उपयुक्त इलाज भी मिल सकता है .प्राचीन भारत का औषधि विज्ञान आधुनिक समय के विज्ञान से कहीं ज्यादा उन्नत था . भारत के प्राचीन ग्रंथों पर अमेरिका शोध कर के लाभ उठा रहा है और भारतीय उन्हें नज़रअंदाज़ करते रहते हैं .

वर्ल्ड की प्रमुख मल्टीनेशनल कम्पनी जैसे नेस्ले,नुट्रिलीफ़े अरिस्टो फार्मा,सिप्ला ,जी ऐस के ,ऐमिल ,इंटास फार्मा अपोलो ,एच डी ऍफ़ सी ,सैमसंग ,पेटीएम् ,ग्लैक्सोस्मिथक्लाइन, अलेम्बिक, ब्रौन लैब्स, एआईएमआईएल आदि भी आईं .

प्रत्येक भर्ती में दवा निर्माण, बिक्री और विपणन, अनुसंधान और विकास, दवा नियामक विभाग और गुणवत्ता आश्वासन और गुणवत्ता नियंत्रण के क्षेत्र में लगभग 30-40 रिक्तियां थीं।अंततः 350 से अधिक छात्रों का चयन नौकरियों के लिए हुआ।