Daily Archive: July 11, 2017

बच्चे की मौत के बाद धरने पर बैठे लोग, विधाय क धीरेंद्र सिंह ने पुलिस को जांच कर कारवाई के लिए बोला

ग्रेटर नोएडा प्राधिकरण की लापरवाही से खुले हुए नाले में गिरकर बच्चे की मौत हो जाने के बाद शहर के नागरिक आक्रोशित है!
दुर्भाग्यपूर्ण घटना के बाद सेक्टर के लोग ग्रेटर नोएडा अथॉरिटी के नए ऑफिस पर पहुंचे और अधिकारियों के खिलाफ कार्यवाही के लिए धरना दिया.

दूसरी तरफ टेन न्यूज़ द्वारा प्रकाशित की गई खबर का संज्ञान लेते हुए जेवर विधायक ठाकुर धीरेंद्र सिंह ने उत्तर प्रदेश पुलिस को मामले की जांच कर लापरवाही पाए जाने पर मुकदमा दर्ज कर कारवाई करने के लिए निर्देशित किया है .

दिन प्रतिदिन बढ़ती जा रही विभागीय लापरवाही परेशानी के साथ साथ जानलेवा भी साबित होती जा रही है. हजारों करोड़ के बजट वाले प्राधिकरणों का ऐसा रवैया दिन प्रतिदिन लोगों में गुस्सा बढ़ाता जा रहा है .

खुले नाले ने ली मासूम बालक की जान, ग्रेटर नॉ एडा के सेक्टर में डूबा सीआरपीएफ इसंपेक्टर का बेटा

ग्रेटर नोएडा : आधिकारिक लापरवाही अब ग्रेटर नॉएडा के निवासियों के लिए न सिर्फ परेशानी का सबब बन रही है बल्कि जानलेवा भी साबित हो रही है। एक बेहद दुखद घटना में आज ग्रेटर नोएडा के एक सेक्टर म्यू २ में खुला हुआ नाला एक मासूम बालक की मौत का कारण साबित हुआ।

डेढ़ साल का बालक आरव की सेक्टर स्थित घर के पास एक खुले नाले में गिर कर मृत्यु हो गई।

सीआरपीएफ में इंस्पेक्टर नागेंद्र के डेढ़ साल के बेटे आरव की म्यू 2 सेक्टर में डूबने से हुई है मौत। खुले नाले में गिरने के बाद काफी देर ढूंढ़ते रहे लोग।

आर डब्लू ऐ ने बताया की काफी बार की जा चुकी थी खुले नाले की शिकायत। कई प्राथना पत्र के बाद भी किसी ने नहीं लिया संज्ञान। लोगों की लापरवाह अफसरों के ख़िलाफ़ कार्यवाही की मांग।

ग्रेटर नोएडा : कोतवाल की रिश्वत मांगते रिक ॉर्डिंग हुई वायरल, एसएसपी ने किया निलंबित!

(11/07/201) ग्रेटर नोएडा : आज हर व्यक्ति के पास मोबाइल होने और लोगों के जागरूक होने का खामियाजा भ्रष्ट सरकारी कर्मचारियों को भुगतना पद रहा है।

ऐसे ही एक वाकया दनकौर कोतवाली में सामने आया। वहां के एस आई अशोक यादव की श्वत मांगते हुए ऑडियो क्लिप किसी ने रिकॉर्ड कर ली और वह इलाके के वाट्सएप्प ग्रुप्स में फ़ैल गई। चलते चलते ये क्लिप वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक महोदय तक भी पहुंचीऔर उन्होंने इसपे तत्काल कारवाही भी कर दी।

रिश्वत मांगने की ऑडियो वायरल होने के बाद एसएसपी लव कुमार ने दनकौर कोतवाली के एसआई अशोक यादव को तत्काल प्रभाव से सस्पेंड कर उचित कानूनी कारवाही करने का निर्देश दिया है।

ग्रेटर नोएडा : कोतवाल की रिश्वत मांगते रिक ॉर्डिंग हुई वायरल, एसएसपी ने किया बर्खाश्त

(11/07/201) ग्रेटर नोएडा : आज हर व्यक्ति के पास मोबाइल होने और लोगों के जागरूक होने का खामियाजा भ्रष्ट सरकारी कर्मचारियों को भुगतना पद रहा है।

ऐसे ही एक वाकया दनकौर कोतवाली में सामने आया। वहां के एस आई अशोक यादव की श्वत मांगते हुए ऑडियो क्लिप किसी ने रिकॉर्ड कर ली और वह इलाके के वाट्सएप्प ग्रुप्स में फ़ैल गई। चलते चलते ये क्लिप वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक महोदय तक भी पहुंचीऔर उन्होंने इसपे तत्काल कारवाही भी कर दी।

रिश्वत मांगने की ऑडियो वायरल होने के बाद एसएसपी लव कुमार ने दनकौर कोतवाली के एसआई अशोक यादव को तत्काल प्रभाव से सस्पेंड कर उचित कानूनी कारवाही करने का निर्देश दिया है।

Greater Noida police seizes 149 boxes of liquor while being illegaly transported from Haryana to UP

Greater Noida police has seized 149 boxes full of Indian Made Foreign Liquor (IMFL) which was being transported from Haryana to Secunderabad. Excise department has seized the consignment and arrested two convicts on charges of illegal liquor trafficking.

Huge difference of rates between the two states often encourages interstate liquor trafficking in the region. Excise department incurs loss of many crores due to such activities every year.

पैसे ने बिगाड़ा खेल, पुलिस ने भेज दिया जेल

जेवर – पैसे के लेनदेन में बात बिगड़ी और पुलिस ने भेज दिया जेल ,मामला दनकौर कोतवाली के अट्टा फतेहपुर गांव का है। गांव के दो पक्षों में जमीनी विवाद को लेकर पिछले लंबे समय से लड़ाई चल रही है। मामले में तीन दिन पूर्व दोनों पक्षों की महिलाएं भिड़ गई। बाद में मामले में दोनों पक्षों के पुरुष भी कूद पड़े। दोनों पक्षों के बीच तू-तू-मैं-मैं के बाद लड़ाई भी हुई। गांव के दूसरे लोगों ने बीच-बचाव कर मामला शांत करा दिया। दोनों ओर से कोतवाली में एक-दूसरे के खिलाफ शिकायत दी गई। दोनों पक्षों के खिलाफ कार्रवाई की बजाए पुलिस कमाई में लग गई। आरोप है कि एक पक्ष मंसूर, रियासत व दीनू के खिलाफ मामला दर्ज न करने के लिए पचास हजार रुपये मांगे गए। बाद में मामला तीस हजार रुपये तक आकर अटक गया। पीड़ित पक्ष बीस हजार रुपये देने को तैयार हुआ। पैसों की मांग फोन पर हुई और पीड़ित पक्ष ने उसे रिकार्ड कर लिया। आरोप है कि दूसरे पक्ष पर सत्ता से जुड़े एक नेता का हाथ है। जिस कारण उसके खिलाफ कोई कार्रवाई नहीं की गई। बल्कि उसके खिलाफ आई शिकायत को फाड़ कर फेंक दिया गया। दूसरे पक्ष ने साढ़े सत्रह हजार रुपये पुलिस को दे दिए। ढाई हजार रुपये और देने में विलंब हो गए। इस पर बात बिगड़ गई। इसके बाद पुलिस ने दूसरे पक्ष पर कार्रवाई करते हुए एक व्यक्ति मंसूर को जेल भेज दिया।दो दारोगा करते हैं खेल : कोतवाली में तैनात दो दारोगा पैसों के लेन-देन को लेकर बदनाम हैं। वायरल हुई ऑडियो में एक दारोगा का नाम आया है। सूत्रों की माने तो कोतवाली में आने वाले विभिन्न मामलों में इन्हीं दो दारोगाओं के द्वारा पैसे का लेन-देन कर समझौते का खेल किया जाता है। जो व्यक्ति पैसा नहीं देता है उसके खिलाफ मामला दर्ज कर जेल भेज दिया जाता है। सुबूत के तौर पर पीड़ित द्वारा पैसा मांगने का ऑडियो भी पुलिस अधिकारियों को दिया गया है। लेकिन ऐसा लगता है कि आरोपी के खिलाफ कार्रवाई न कर ऐसे लोगों को बढ़ावा देने का काम किया जा रहा है।

रेेलवे स्टेशन के नजदीक डीजे बजाने पर होगी कड़ी करवाई

रेलवे स्टेशन के नजदीक तेज आवाज में डीजे बजाने वालों के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी। डीजे संचालकों को जीआरपी ने हिदायत देते हुए छोड़ दिया है। वहीं नहीं मानने पर कार्रवाई की जाएगी।

दादरी – अब रेलवे स्टेशन नजदीक डीजे बजाना पड़ सकता है महंगा, रेलवे स्टेशन के नजदीक दुकानों में तेज आवाज में डीजे बजाते हैं, जिससे रेल विभाग के कर्मचारियों के अलावा यात्री भी परेशान हो रहे हैं। ट्रेनों के हॉर्न बजने पर भी कम सुनाई देता है। कई बार किसी यात्री के साथ आपराधिक वारदात होने पर पीड़ित के आवाज लगाने पर पता नहीं चल पाता। स्टेशन के नजदीक ऐसी कई वारदात हो चुकी हैं।
रेलवे स्टेशन पर प्लेटफॉर्म और आसपास यात्रियों के नजदीक होने वाले वारदात को रोकने के लिए सोमवार को जीआरपी पुलिस चौकी पर रेलवे स्टेशन के नजदीक बने मार्केट में डीजे संचालकों को बुलाया गया। तेज आवाज में डीजे बजाने से होने वाले नुकसान की जानकारी दी गई।
दादरी आरपीएफ चौकी इंचार्ज राम बाबू ने बताया कि आपराधिक वारदात को रोकने के लिए सतर्कता बरती जा रही है। अगर संचालकों ने तेज आवाज में डीजे बजाया तो उनके खिलाफ कानूनी कार्रवाई की जाएगी।