Daily Archive: May 18, 2017

दबिश देने गयी पुलिस पर हुआ है,हमला

ग्रेटर नोएडा-जनपद में अपराधिओं के हौसले कितने बुलंद है की अब पुलिस का खौफ बिलकुल भी नहीं रहा है उलटा पुलिस ही बेबस हो जाती है अपराधियों के सामने , ऐसा ही एक मामला रबू पूरा में देखने को मिला जहा दबिश देने गयी पुलिस को ही बंधक बना लिया और मारपीट भी की , जेवर रबु पूरा निलौनलीगांव में एक आरोपी युवक को गिरफ्तार करने पहुंची पुलिस पर भारी संख्या में महिलाओं और अन्य ग्रामीणों ने हमला कर दिया। ग्रामीणों ने पुलिस की टीम को बंधक बनाकर मारपीट की और आरोपियों को पुलिस के कब्जे से छुड़ा लिया। इस दौरान भीड़ ने पुलिस के हथियारों सहित चेन, पर्स और अन्य सामान को लूट लिया सूचना पाकर रबूपुरा, दनकौर और जेवर सहित आसपास के थानों की पुलिस भी मौके पर पहुंच गई और आरोपियों के कब्जे से पुलिसकर्मियों को मुक्त कराया। पुलिस ने एक महिला सहित तीन लोगों को हिरासत में ले लिया है। पुलिस की टीमें फरार आरोपियों की तलाश में लगातार दबिश दे रही हैं। वहीं ग्रामीणों का आरोप है कि दबिश देने पहुंची पुलिस ने महिलाओं के साथ अभद्रता की और घरों में घुसकर तोडफ़ोड़ की। मामला रबूपुरा कोतवाली क्षेत्र का है।

मूलरूप से हरियाणा के फरीदाबाद निवासी अमित के खिलाफ ग्रेटर नोएडा के सूरजपुर, बिसरख, कासना और कई कोतवाली क्षेत्रों में आपराधिक मामले दर्ज हैं। कासना पुलिस ने आरोपी अमित को गिरफ्तार कर लिया। आरोपी की निशानदेही पर उसके एक साथी आसिफ पुत्र साबू को गिरफ्तार करने के लिए कसना पुलिस निलौनली गांव में बुधवार को दबिश के लिए पहुंच गई।पुलिस ने सूचना के आधार पर आरोपी को उसके घर से गिरफ्तार कर लिया, तभी आरोपी के साथियों और परिजनों ने पुलिस टीम पर लाठी-डंडों से हमला कर दिया। भीड़ ने पुलिस टीम पर पथराव भी किया जिसके बाद बचाव की मुद्रा में आई पुलिस टीम को लोगों ने बंधक बना लिया। मौका पाकर आरोपी आसिफ और अमित फ रार हो गये। घटना की सूचना पाकर सीओ जेवर भारी पुलिस बल के साथ मौके पर पहुंचे। पुलिस ने आरोपी के परिवार के तीन लोगों को हिरासत में ले लिया है।

जेवर विधायक ने अपना पहला वेतन मुख्यमंत्री पीडित राहत कोष में किया जमा

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ जी को जेवर विधायक धीरेन्द्र सिंह ने अपने पहले वेतन का 72 हजार रूपये का चेक सौंपा। आपको बता दे की योगी सरकार में ये पहला ऐसा विधायक है जिसने एक नई पहल शुरू करी है | उन्होने यह चेक मुख्यमंत्री पीडित राहत कोष में जमा करने हेतु मा0 मुख्यमंत्री जी को आज यहां प्रदान किया। जेवर विधायक धीरेन्द्र सिंह के इस सहयोग की सराहना करते हुए मा0 मुख्यमंत्री जी ने कहा कि ’’पीडितों की मदद का यह प्रयास विधायक जेवर धीरेन्द्र सिंह की संवेदनशीलता को दर्शाता है।’’ मा0 मुख्यमंत्री जी ने आशा व्यक्त की कि अन्य जनप्रतिनिधि भी इससे प्रेरित होकर जरूरतमंदों की सहायता के लिए राज्य सरकार के प्रयासों में सहयोग करेगी |

निवेशकों ने एक बार फिर ग्रेटर नोएडा प्राधि करण से लगाई गुहार

ग्रेटर नोएडा निवेशकों का गुस्सा लगातार और बढ़ता ही जा रहा है चाहे नोएडा प्राधिकरण को य फिर ग्रेटर नोएडा का हो , और समाधान की कोई आशा नजर नहीं आ रही है निवेशक दिन रात बिल्डरों , प्राधिकरणों के चक्कर लगाकर काफी परेशान हो चुके है और प्रदेश सरकार से भी गुहार लगा चुके है, पर अपनी गाडी कमाई डूबती नजर आ रही है। बुधवार को भी एक बार ग्रेटर नोएडा वेस्ट के निवेशकों का गुस्सा फिर फूट पड़ा। मंगलवार को निवेशक प्राधिकरण पहुंचे। उन्होंने फ्लैटों पर शीघ्र कब्जा दिलवाने की मांग पर जमकर हंगामा काटा। बवाल बढ़ता देख प्राधिकरण को मौके पर सूरजपुर कोतवाली की पुलिस बुलानी पड़ी। इससे निवेशक और भड़क गए। बाद में सीईओ अमित मोहन प्रसाद ने निवेशकों के साथ बैठक कर उनकी समस्याओं के समाधान का वादा किया, तब जाकर वह शांत हुए।

नोएडा एक्सटेंशन फ्लैट आनर्स वेलफेयर एसोसिएशन (नेफोवा) के बैनर तले निवेशक प्राधिकरण पहुंचे। बिल्डर योजना देख रहे अधिकारियों और प्रबंधकों पर निवेशक भड़क गए। सीईओ अमित मोहन प्रसाद से निवेशकों ने मिलने का प्रयास किया, लेकिन बैठक के कारण सीईओ से मुलाकात में देरी हो गई। इससे निवेशकों ने सीईओ कार्यालय के बाहर हंगामा काटना शुरू कर दिया। बवाल बढ़ता देख पुलिस बुलानी पड़ी। पुलिस से मामला शांत नहीं हुआ तो सीईओ के साथ निवेशकों की बैठक कराई गई। निवेशकों ने आरोप लगाया कि बिल्डर समय पर फ्लैटों पर कब्जा नहीं दे रहे हैं। मनमाने तरीके से अतिरिक्त पैसा वसूला जा रहा है। पैसा न देने पर पुरानी बु¨कग रद की जा रही है। इस पर प्राधिकरण को रोक लगवानी चाहिए। यूनिटेक के निवेशकों ने कहा कि प्राधिकरण ने बिल्डर का 100 एकड़ का भूखंड रद कर दिया है। प्राधिकरण की कार्रवाई से पहले बिल्डर के यहां 352 निवेशक भूखंड बु¨कग करा चुके थे। प्राधिकरण को निवेशकों के भूखंडों के लिए 25 एकड़ जमीन देनी चाहिए। अमित मोहन प्रसाद सीईओ ने कहा कि इस प्रस्ताव को बोर्ड में ले जाया जाएगा, लेकिन मौजूदा दर पर ही जमीन का आवंटन होगा। सुपरटेक के निवेशकों ने फ्लैट की रजिस्ट्री न होने व आम्रपाली बिल्डर के प्रोजेक्ट के कंप्लीशन की जानकारी मांगी। सीईओ ने कहा कि प्राधिकरण की वेबसाइट पर जानकारी अपलोड कर दी गई है। निवेशक वेबसाइट से जानकारी कर सकते हैं। स्काई वाक बिल्डर के भागने के मामले में निवेशकों ने प्राधिकरण से कड़े कदम उठाकर कार्रवाई करने की मांग की, ताकि निवेशकों का पैसा न डूबे।

कंप्लीशन वाले प्रोजेक्टों में रजिस्ट्री शुरू कराने की मांग

निवेशकों ने कहा कि जिन बिल्डर प्रोजक्टों को प्राधिकरण कंप्लीशन दे चुका है, उनमें अविलंब फ्लैटों की रजिस्ट्री शुरू होनी चाहिए। बिल्डर फ्लैटों की रजिस्ट्री करने में आनाकानी कर रहे हैं। इससे निवेशकों को फ्लैटों पर मालिकाना हक नहीं मिल पा रहा है। सीईओ ने कहा कि बिल्डरों के साथ बैठक कर रजिस्ट्री कराने के निर्देश दिए जाएंगे। प्राधिकरण लगातार बिल्डरों के साथ बैठक कर फ्लैटों पर कब्जा देने के लिए दबाव बना रहा है। निवेशकों की समस्याओं का प्राथमिकता से समाधान होगा। निवेशक परेशान न हो, उनका पैसा डूबने नहीं दिया जाएगा।