parichowk.com

parichowk.com-greater-noida-yamuna-expressway-news

यू पी में 46 पीसीएस अफसरों के हुए ट्रांसफर.

कमलेश कुमार सिंह नगर आयुक्त फिरोजाबाद
अवधेश तिवारी आरएफसी आगरा
श्रीप्रकाश गुप्ता एडीएम प्रशासन लखनऊ
रामऔतार सचिव इलाहाबाद प्राधिकरण
शिव प्रसाद-सीडीओ फतेहपुर
राजकुमार-जीएम पीसीडीएफ का अतिरिक्त चार्ज
ओम प्रकाश राय-कुल सचिव यूपीटीयू
पुनीत शुक्ला-एडीएम सिटी मुरादाबाद
विनय सिंह-सिटी मजिस्ट्रेट मुरादाबाद
विवेक श्रीवास्तव-सिटी मजिस्ट्रेट लखनऊ
हरि प्रताप शाही-विशेष सचिव नगर विकास
उमेश मिश्रा-विशेष सचिव स्वास्थ्य
मनोज कुमार-एडीएम लैंड नोएडा
महेंद्र मिश्रा-संयुक्त सचिव एलडीए
ममता यादव-विशेष सचिव कृषि
देवेंद्र कुशवाहा-सीडीओ रामपुर
राजेश पाण्डे-विशेष सचिव आवास
राजाराम-अपर आयुक्त कानपुर
वंदना त्रिपाठी-सचिव उच्च सेवा आयोग
मनीष नाहर-एडीएम कासगंज
राजेश सिंह-ओएसडी नोएडा प्राधिकरण
देव कृष्ण तिवारी-आरएफसी वाराणसी
ओम प्रकाश वर्मा-एडीएम सिटी बरेली
शीतला प्रसाद-विशेष सचिव खाद्य रसद
एमडी आवश्य वस्तु निगम भी होंगे शीतला प्रसाद
आलोक सिंह-सीडीओ जौनपुर
जगदीश सिंह-एडीएम वित्त फतेहपुर
अजय कांत सैनी-अपर निदेशक उद्यान
बृज किशोर-एडीएम वित्त पीलीभीत
गौरव वर्मा-नगर आयुक्त सहारनपुर
आनंद शुक्ला-एडीएम वित्त मेरठ
राजेश कुमार तृतीय-एडीएम वित्त गाजीपुर
आलोक कुमार-सचिव नेडा लखनऊ
विजय कुमार प्रथम-अपर नगर आयुक्त आगरा
पुष्पराज सिंह-उपनिदेशक मंडी लखनऊ
त्रिलोकी सिंह-अपर नगर आयुक्त इलाहाबाद
रत्नाकर मिश्रा-एडीएम वित्त गोंडा
अशोक सिंह तृतीय-कुल सचिव नोएडा विवि
हरिशंकर-एडीएम प्रशासन झांसी
राजेश राय-कुल सचिव केजीएमयू
मृत्युंजय राम-उपनिदेशक मंडी लखनऊ

ग्रेटर नोएडा : जेवर में हाई-वे पर परिवार को बंधक बनाकर चार महिलाओं के साथ गैंगरेप व मर्डर मामले में करीब दो माह बाद भी खुलासा न होने पर सड़कों पर उतरे लोग, काली पट्टी बांध कर निकाला मौन जुलूस।

ग्रेटर नोएडा : जेवर में हाई-वे पर परिवार को बंधक बनाकर चार महिलाओं के साथ गैंगरेप व मर्डर मामले में करीब दो माह बाद भी खुलासा न होने पर सड़कों पर उतरे लोग, काली पट्टी बांध कर निकाला मौन जुलूस।

खुले गड्ढे और नालों को भर पाने में अथॉरिटी अभी भी नाकाम

कई हादसों और अपीलों के बाद भी ग्रेटर नॉएडा के सेक्टर्स की व्यवस्था अभी भी जर्जर बानी हुई है और कई इलाके दुर्घटना के लिए तैयार नजर आते हैं।

ग्रेटर नॉएडा प्राधिकरण के अधिकारी सेक्टर की समस्याओं पर ध्यान नहीं दे रहें जिस कारण सेक्टर वासियों में भरी रोष है। बार बार शिकायत करने पर भी कुछ समस्या ऐसी हे जो कभी भी दुर्घटना का कारण बन सकती है। बीटा-1 निवासी हरिंदर भाटी ने बताया की सेक्टर बीटा १ मे जगह जगह खुदे पड़े है गड्ढे जिन में बारिश के पानी से मच्छर पनप रहे हे जो जानलेवा बीमारियों को आमंत्रित कर रहे हैं।

अथॉरिटी की लापरवाही का खामियाजा लोगों को भुगतना पड़ रहा है। ओमीक्रान सेक्टर में कुछ दिन पहले नाले में गिरने से 2 साल के मासूम बच्चे की जान चली गई थी। इस प्रकार की दुर्घटना से उस परिवार पर क्या बीतती हे ये वो ही जान सकते हे बाद में अफ़सोस के सिवा कुछ हाथ नही लगता। बरसात की वजह से नाले में पानी भर गया था। शहर के लोगों ने विभिन्न सेक्टरों में गडढे और उन में पानी भरा होने की सूचना अधिकारियों को दे रखी है परन्तु कोई गंभीर कार्यवाही नहीं नजर आ रही है।

बीटा १ सेक्टर में सी—12 मकान के सामने पिछले बीस पच्चीस दिनों से ये गडढा खुदा पड़ा हुआ है अथॉरिटी की तरफ से किया गया था। अभी तक भरा नही गया है। जिसकी वजह से कोई भी अनहोनी कभी भी हो सकती है।

इसके अलावा इसी सेक्टर बीटा—1 सी—272 मकान के पास में नाला भी खुला हुआ है। पहले भी इस नाले में पशु गिर चुके है। कभी भी यहां बड़ा हादसा हो सकता है। नाला खुला होने की वजह से बदबू आती है। बदबू आने की वजह से आस—पास रहने वाले लोगों को जीना मुहाल हो गया है। कई बार अथॉरिटी अफसर और ठेकेदारों से शिकायत की जा चुकी है। उसके बाद भी कोई एक्शन नही लिया जा रहा है।

लोगों को अभी भी प्राधिकरण से उम्मीद बाकी है की देर हे सही पर आवश्यक कदम जरूर उठाए जायेंगे।

प्रदेश सरकार के महत्वपूर्ण कार्यक्रम तहस ील दिवस का सभी तहसीलों में आयोजन, 179 शिकायतें द र्ज 11 का मौके पर निस्तारण।

गौतमबुद्धनगर 18 जुलाई, 2017

जिलाधिकारी बीएन सिंह के निर्देशन में प्रदेश सरकार की महत्वाकांक्षी योजना के तहत जनपद की सभी तहसीलों में तहसील दिवस का आयोजन सम्पन्न हुआ। जनपद की तीनों तहसीलों में 179 शिकायतें दर्ज हुई जिसके सापेक्ष 11 शिकायतों का अधिकारियों के माध्यम से मौके पर निस्तारण करा दिया गया है। जिलाधिकारी किसानों के हितार्थ अपने न्यायालय में व्यस्त होने के कारण उनके स्थान पर दादरी तहसील में अपर जिलाधिकारी प्रशासन कुमार विनीत के द्वारा तहसील दिवस की अध्यक्षता की गयी। इस अवसर पर एडीएम ने जनता की शिकायतों का अनुश्रवण किया और अधिकारियों को निर्देश दिये कि तहसील दिवस में जो शिकायतें जनता की दर्ज हुयी है उनका निस्तारण पूर्ण गुणवत्ता के साथ करते हुये उसकी सूचना शिकायत कर्ता को भी उपलब्ध करायी जाये। उन्होनें यह भी निर्देश दिये कि सभी अधिकारियों के द्वारा निस्तारण तत्परता के साथ इस प्रकार किया जाये कि प्रत्येक शिकायत में ए श्रेणी प्राप्त हो।

सदर तहसील दिवस के अवसर पर उपजिलाधिकारी अंजनी कुमार सिंह के द्वारा जनता की समस्यायें सुनी गयी यहॉ पर 25 शिकायतें दर्ज के सापेक्ष 1 का मौके पर निराकरण कराया गया। जेवर तहसील में भी तहसील दिवस में 63 शिकायतें दर्ज हुयी और 3 का मौक पर निस्तारण अधिकारियों मे द्वारा किया गया-राकेश चौहान सूचनाधिकारी गौतमबुद्धनगर।

अब निजी व सरकारी दफ्तरों में कार्यरत महिला ओं का उत्पीड़न करने वालों की खैर नहीं

ग्रेटर नोएडा – अब निजी व सरकारी दफ्तरों में कार्यरत महिलाओं का उत्पीड़न करने वालों की खैर नहीं। जिला प्रशासन ने हर दफ्तर में वहीं के कर्मचारियों की एक कमेटी बनाने का निर्णय लिया है। यह कमेटी जिला प्रशासन के संपर्क में रहेगी। कमेटी प्रशासन को नियमित रिपोर्ट भी देगी। जनपद में ऐसे तमाम संस्थान हैं, जिनमें महिला कर्मचारी काम करती हैं। ऐसे संस्थानों पर जिला प्रशासन और पुलिस की नजर रहेगी। वहीं संस्थान की हर गतिविधि पर सतर्कता से नजर रखने के लिए एक कमेटी रहेगी।

कमेटी के पदाधिकारियों की सूची जिलाधिकारी के दफ्तर में मौजूद रहेगी। कमेटी लगातार जिला प्रशासन के संपर्क में रहेगी। अपर जिलाधिकारी कुमार विनीत ने बताया कि प्रदेश सरकार ने महिलाओं का उत्पीड़न रोकने के लिए दिशा निर्देश दिए हैं।
धारा-1 के नियम-14 के तहत कार्यस्थल पर महिलाओं के उत्पीड़न के तहत वार्षिक रिपोर्ट जिलाधिकारी के दफ्तर में उपलब्ध कराने के निर्देश दिए गए हैं, जिसके तहत कुछ संस्थानों ने अपनी वार्षिक रिपोर्ट जिलाधिकारी कार्यालय में दी है।
वहीं जिन संस्थानों में महिलाएं कार्य कर रही हैं, उनमें एक कमेटी का गठन भी किया जाना है। कमेटी का गठन करके एक सप्ताह के अंदर जानकारी जिलाधिकारी के दफ्तर में देनी है।

ग्रेनो के 100 गांवों को फ्री वाई-फाई, हर रोज 5 घंटे |

ग्रेनो के 100 से अधिक गांवों को अगले महीने से फ्री इंटरनेट सेवा मिलेगी। ग्राम प्रधानों के प्रस्ताव पर केंद्र सरकार की डिजिटल विलेज योजना के तहत इन गांवों को फ्री वाई-फाई सुविधा से लैस किया जा रहा है।

शारदा यूनिवर्सिटी ने स्कॉलरशिप के आवेदन की समयसीमा 10 दिन और बढ़ाई

स्कॉलरशिप पाने के लिए 10 दिन और मिलेः शारदा यूनिवर्सिटी ने योग्यविद्यार्थियों को फायदा पहुंचाने के लिए समयसीमा को स्थगित किया

शारदा यूनिवर्सिटी में स्कॉलरशिप की इच्छा रखने वालों को 10 दिन और मिले

छात्र अपने आवेदन 29 जुलाई 2017 तक जमा कर सकते हैं

नई दिल्ली, जुलाई 2017: प्रोफेशनल एक्सीलेंस और इनोवेशन को बढ़ावा देने के उद्देश्य से, शारदा यूनिवर्सिटी ने स्कॉलरशिप आवेदनों के लिए समयसीमा 10 दिन बढ़ा दी है। नई समयसीमा के अनुसार, विद्यार्थी 29 जुलाई 2017 तक अपने स्कॉलरशिप आवेदन कर सकेंगे। पहले यह समयसीमा 19 जुलाई 2017 तय की गई थी। इसका उद्देश्य मुख्य रूप से उन छात्रों को एक मौका और देना है जो इस स्कॉलरशिप के लिए योग्य हैं और तय समयसीमा में आवेदन जमा नहीं कर पाए हैं। शारदा यूनिवर्सिटी एक उच्च गुणवत्ता युक्त शैक्षणिक संस्थान है जिसका फोकस मुख्य रूप से विद्यार्थियों का सर्वांगीण विकास, विश्वस्तरीय शिक्षण प्रणाली मुहैया कराना और उनमें प्रतिस्पर्धात्मक गुणों का विकास करना है।

यूनिवर्सिटी में शैक्षणिक सत्र 2017 के लिए विभिन्न अंडर-ग्रेजुएट और पोस्ट-ग्रेजुएट कोर्सेस में प्रवेश प्रक्रिया सतत चल रही है। उम्मीदवारों का चयन शारदा यूनिवर्सिटी एडमिशन टेस्ट (एसयूएटी) 2017 के आधार पर होगा। इस टेस्ट का आयोजन यूनिवर्सिटी ही करती है। यूनिवर्सिटी में दानदाताओं और पूर्व छात्र संगठन की ओर से कई छात्रों को स्कॉलरशिप प्रदान की जाती है। शैक्षणिक योग्यता, खेलकूद और सांस्कृतिक क्षेत्र में उपलब्धि के आधार पर यूनिवर्सिटी की ओर से ट्यूशन फीस के 80 प्रतिशत तक की स्कॉलरशिप दी जाती है। यह एसयूएटी और प्रवेश परीक्षा में प्रदर्शन के आधार पर तय होती है।

समयसीमा बढ़ाने के मामले में, शारदा यूनिवर्सिटी के प्रवक्ता, शारदा यूनिवर्सिटी के डायरेक्टर एडमिशन, राजीव गुप्ता ने कहा, “समयसीमा बढ़ाने के पीछे हमारा उद्देश्य योग्य उम्मीदवारों को एक मौका और देना है। हम चाहते हैं कि इनोवेटिव विचार और योग्यता वाले छात्र यूनिवर्सिटी की ओर से पेश किए जा रहे कोर्सेस का हिस्सा बने। शारदा यूनिवर्सिटी विद्यार्थियों को उनका कौशल विकसित करने और रोजगार पाने की योग्यता को बढ़ावा देती है जिससे वे भविष्य का नेता बन सके। हमें यकीन है कि हमारे इस कदम से शारदा यूनिवर्सिटी के विद्यार्थियों के बुद्धिमान दिमागों की सूची में कुछ नाम और जुड़ जाएंगे।”

2016-17 में, 1,200 से ज्यादा छात्र-छात्राओं को शारदा यूनिवर्सिटी ने विभिन्न अंडर-ग्रेजुएट और पोस्ट-ग्रेजुएट कार्यक्रमों के लिए स्कॉलरशिप प्रदान की। यूनिवर्सिटी का मुख्य उद्देश्य आधुनिक विचारों पर आधारित शिक्षा प्रणाली के जरिए भारतीय छात्र-छात्राओं को वैश्विक स्तर पर लाकर खड़ा करना है। असाधारण फेकल्टी, विश्वस्तरीय शैक्षणिक मानकों और इनोवेटिव एकेडेमिक प्रोग्राम्स की बदौलत शारदा यूनिवर्सिटी ने अपने लिए एक खास जगह बनाई है। यह भारतीय शिक्षा प्रणाली में वैश्विक और भविष्य की लर्निंग लेकर आई है।

शारदा यूनिवर्सिटी के बारे में:

शारदा यूनिवर्सिटी ग्रेटर नोएडा, दिल्ली एनसीआर के बाहर स्थित एक प्रमुख शैक्षणिक संस्थान है। यह प्रतिष्ठित शारदा ग्रुप ऑफ इंस्टिट्यूशंस का हिस्सा है। यूनिवर्सिटी ने खुद को उच्च-गुणवत्ता युक्त शिक्षा प्रदाता के तौर पर स्थापित किया है। यूनिवर्सिटी का मुख्य फोकस संपूर्ण ज्ञान और छात्र-छात्राओं में प्रतिस्पर्धात्मक भावनाओं को जगाना है। यह यूनिवर्सिटी यूजीसी से मान्यता प्राप्त है। इसे एनसीआर के इकलौते बहु-संकाय कैम्पस होने का गौरव भी प्राप्त है। 63 एकड़ से ज्यादा जमीन पर फैली यह यूनिवर्सिटी सभी विश्वस्तरीय सुविधाओं से लैस है।

शारदा यूनिवर्सिटी का लक्ष्य अनुसंधान और शिक्षण में उच्च स्तरीय सफलता हासिल करते हुए भारत की प्रमुख यूनिवर्सिटियों में जगह बनाना है। अपनी असाधारण फेकल्टी, विश्वस्तरीय शैक्षणिक मानकों और इनोवेटिव शैक्षणिक कार्यक्रमों की बदौलत शारदा यूनिवर्सिटी भारतीय शिक्षा प्रणाली में नए मानक स्थापित करना चाहती है.