Author Archive: parichowk.com

About parichowk.com

www.parichowk.com is a live blog of Greater Noida and Yamuna Expressway..It publishes news, events, issues, happenings, developments, grievances - as it happens

राजा से बड़ा राष्ट्र, देश सर्वोपरि – सुनील बंसल सेनाप ति ने राजा के रक्त से किया मातृभूमि का “रक्त अभिषेक” ।

ग्रेटर नॉएडा | भारत नवनिर्माण ट्रस्ट के सौजन्य से देश भक्ति की अनसुनी गाथा पर आधारित, श्री दया प्रकाश सिन्हा (पूर्व IAS) द्वारा लिखित व निर्देशित, ऐतिहासिक नाटक “रक्त-अभिषेक” का लाइट व साउंड के माध्यम से भव्य मंचन शनिवार को सायं 5 बजे से यूनाइटेड कॉलेज ऑफ़ इंजीनियरिंग एंड रिसर्च, नॉलेज पार्क 3, निकट एक्सपो मार्ट, के सभागार में किया गया | कार्यक्रम में प्रवेश केवल निमंत्रण पत्र द्वारा था |

कार्यक्रम में श्रीमान सुनील बंसल जी (प्रदेश संगठन महामंत्री भाजपा ) मुख्य अतिथि के रूप में पधारे थे| श्री बंसल ने बताया कि अहिंसा का आधा-अधूरा ज्ञान हिंसा को जन्म देता है। अहिंसा की वास्तविक अवधारणा की अनभिज्ञता अन्तत: हिंसा और भीषण रक्तपात की कारक होती है। राष्ट्र, राजा से भी बड़ा और सर्वोपरि होता है इसलिए हमें अपने सभी निर्णय राष्ट्रहित को ध्यान में रख कर लेने चाहिए |

कार्यक्रम के विशिष्ट अतिथि श्री विजय शंकर तिवारी, राष्ट्रीय प्रवक्ता-विश्व हिन्दू परिषद् एवं महामंत्री भारतीय धरोहर ने बताया कि हमारा प्राचीन ज्ञान विज्ञान काफी सम्रद्ध रहा है लेकिन हम लोग उसको भूलते जा रहे हैं| आज आवश्यकता है उस ज्ञान विज्ञान को सभी के सामने लाने की | कार्यक्रम में विशिष्ट अतिथि श्री हरीश चन्द भाटी, पूर्व मंत्री, स्वागत अध्यक्ष श्री राजेश गुप्ता, वाईस चेयरमैन GNIOT, संयोजक श्री ओमप्रकाश गुप्ता उपस्थित थे | कार्यक्रम की अध्यक्षता श्री देवी शरण शर्मा ऐडवोकेट, डीजीसी सिविल ने की |

कार्यक्रम के संयोजक श्री ओमप्रकाश गुप्ता ने बताया कि राष्ट्रीय सुरक्षा नीति पर आधारित इस नाटक का मंचन 22 सदी पहले, मौर्य साम्राज्य के अन्तिम सम्राट बृह्द्रथ के समय घटित ऐतिहासिक घटना से समाज को अवगत करने के लिए किया गया था |

कार्यक्रम स्वागत अध्यक्ष श्री राजेश गुप्ता, वाईस चेयरमैन, GNIOT ग्रुप, ने बताया कि राष्ट्रीय सुरक्षा के संबंध में हिंसा की नैतिक दुविधा और अहिंसा के बारे में चर्चा करते हुए, यह घटना नाटकीय रूपांतरण में प्रस्तुत की गई है । नाटक “रक्त-अभिषेक” में वर्तमान को सन्देश देता हुआ इतिहास एकदम जीवित हो उठता है |

नाटककार दयाप्रकाश सिन्हा ने नाटक में दार्शनिक सिद्धांत और कठोर यथार्थ के साथ ही आदर्श और व्यवहारिक सत्य, अकर्म और कर्म, हिंसा और अहिंसा के बीच मानव के द्वन्द को गहन सघनता से पेश किया है। नाटक हमें अहिंसा के अधूरे ज्ञान को पुनर्विचार करने के लिए विवश करता है। यह भारतीय इतिहास की एकमात्र सैनिक तख्ता-पलट की घटना है जो रक्त अभिषेक में रूपायित की गयी है |

सिकंदर के भारत विजय के अधूरे स्वप्न को पूरा करने के उद्देश्य से और सम्राट चन्द्रगुप्त मौर्य द्वारा सेल्यूकस की पराजय का प्रतिशोध लेने हेतु, ग्रीस का राजा मिनेन्डर भारत पर निरंतर आक्रमण कर रहा था | दूसरी और पाटलिपुत्र के सिंहासन पर बैठा अन्तिम मौर्य सम्राट बृह्द्रथ अहिंसा में अपने अधंविश्वास के कारण साम्राज्य की रक्षा करने में अक्षम साबित हो रहा था | सम्राट बृह्द्रथ की सैनिक रणनीति और निर्णय क्षमता, भारतीय सुरक्षा तंत्र को अक्षम कर देती है। यवनों की आक्रमणकरी सेना बड़ते हुए अयोध्या पहुँच चुकी थी | उनका लक्ष्य था पाटलिपुत्र पर विजय | धर्म महामात्य भंते संघरक्षित (यवन टाईटस) और महामात्य अन्टोनिया, सम्राट को प्रभावित कर छल से, सेनापति पुष्यमित्र शुंग के विरोध के बाबजूद भी सेना को भंग करने का निर्णय स्वीकार करवा लेते हैं |

इतिहास के इस निर्णायक मोड़ पर मौर्य सेना का नायक पुष्यमित्र शुंग राष्ट्र की रक्षा करने के लिए आगे आता है और देश को यूनानी दासता से बचाता है | और इस निर्णायक मोड़ पर आचार्य पतंजलि का उपदेश, सेनापति शुंग को यवनों से राष्ट्र की रक्षा करने के लिए एक ऐसा कदम उठाने पर विवश करता है जो भारतीय इतिहास की एकमात्र घटना है |

आचार्य पतंजलि अपरोक्ष रूप से सेनापति को उपदेश देते हैं की राष्ट्र, राजा से ऊपर है और देश की रक्षा करना ही तुम्हारा धर्म है | और राष्ट्र की रक्षा के बीच में जो भी आता है उसे समाप्त करना ही सेनापति का कर्त्तव्य है |

इस ऐतिहासिक नाटक का मंचन “भारत नवनिर्माण ट्रस्ट” के अन्तर्गत आयोजित किया गया | भारतीय धरोहर, श्री वार्ष्णेय समाज ट्रस्ट एवं उ. प्र. उद्योग व्यापर मंडल, कार्यक्रम के सहयोगी संगठन थे |

कार्यक्रम अध्यक्ष श्री देवी शरण शर्मा ने बताया कि इस नाटक से अपने गौरवशाली इतिहास की झलक आगे आने वाली पीढ़ी को मिलती है |

इस दौरान भाजपा जिला अध्यक्ष विजय भाटी, ट्रस्ट के अध्यक्ष कुलदीप शर्मा, सचिव प्रोफ विवेक कुमार, कोषाध्यक्ष ललित शर्मा, नरेश कुमार गुप्ता, सौरभ बंसल, नन्द लाल सैनी, संजीव गुप्ता, तरुण कुमार, अनिल तायल, विवेक अरोरा, अवधेश पांडे, डॉ सुधीर सिंह, प्रवीण तोमर, बीना अरोरा, सरोज तोमर, नेहा अग्रवाल आदि सदस्य उपस्थित थे | कार्यक्रम का सञ्चालन भारतीय धरोहर के संगठन महामंत्री प्रवीण शर्मा एवं प्रोफेसर विवेक कुमार ने किया |

भारत नवनिर्माण ट्रस्ट के सौजन ्य से देश भक्ति की अनसुनी गाथा पर आधारित ऐतिहासिक नाटक “रक्त- अभिषेक” का लाइट व साउं ड के माध्यम से भव्य मंच न शनिवार को यूनाइटेड कॉलेज ऑफ़ इ ंजीनियरिंग एंड रि सर्च, नॉलेज पार्क 3, निकट एक्सप ो मार्ट, के सभागार में किया गया ।

राजा से बड़ा राष्ट्र, देश सर्वोपरि – सुनील बंसल

सेनापति ने राजा के रक्त से किया मातृभूमि का “रक्त अभिषेक”

ग्रेटर नॉएडा | भारत नवनिर्माण ट्रस्ट के सौजन्य से देश भक्ति की अनसुनी गाथा पर आधारित, श्री दया प्रकाश सिन्हा (पूर्व IAS) द्वारा लिखित व निर्देशित, ऐतिहासिक नाटक “रक्त-अभिषेक” का लाइट व साउंड के माध्यम से भव्य मंचन शनिवार को सायं 5 बजे से यूनाइटेड कॉलेज ऑफ़ इंजीनियरिंग एंड रिसर्च, नॉलेज पार्क 3, निकट एक्सपो मार्ट, के सभागार में किया गया | कार्यक्रम में प्रवेश केवल निमंत्रण पत्र द्वारा था |

कार्यक्रम में श्रीमान सुनील बंसल जी (प्रदेश संगठन महामंत्री भाजपा ) मुख्य अतिथि के रूप में पधारे थे| श्री बंसल ने बताया कि अहिंसा का आधा-अधूरा ज्ञान हिंसा को जन्म देता है। अहिंसा की वास्तविक अवधारणा की अनभिज्ञता अन्तत: हिंसा और भीषण रक्तपात की कारक होती है। राष्ट्र, राजा से भी बड़ा और सर्वोपरि होता है इसलिए हमें अपने सभी निर्णय राष्ट्रहित को ध्यान में रख कर लेने चाहिए |

कार्यक्रम के विशिष्ट अतिथि श्री विजय शंकर तिवारी, राष्ट्रीय प्रवक्ता-विश्व हिन्दू परिषद् एवं महामंत्री भारतीय धरोहर ने बताया कि हमारा प्राचीन ज्ञान विज्ञान काफी सम्रद्ध रहा है लेकिन हम लोग उसको भूलते जा रहे हैं| आज आवश्यकता है उस ज्ञान विज्ञान को सभी के सामने लाने की | कार्यक्रम में विशिष्ट अतिथि श्री हरीश चन्द भाटी, पूर्व मंत्री, स्वागत अध्यक्ष श्री राजेश गुप्ता, वाईस चेयरमैन GNIOT, संयोजक श्री ओमप्रकाश गुप्ता उपस्थित थे | कार्यक्रम की अध्यक्षता श्री देवी शरण शर्मा ऐडवोकेट, डीजीसी सिविल ने की |

कार्यक्रम के संयोजक श्री ओमप्रकाश गुप्ता ने बताया कि राष्ट्रीय सुरक्षा नीति पर आधारित इस नाटक का मंचन 22 सदी पहले, मौर्य साम्राज्य के अन्तिम सम्राट बृह्द्रथ के समय घटित ऐतिहासिक घटना से समाज को अवगत करने के लिए किया गया था |

कार्यक्रम स्वागत अध्यक्ष श्री राजेश गुप्ता, वाईस चेयरमैन, GNIOT ग्रुप, ने बताया कि राष्ट्रीय सुरक्षा के संबंध में हिंसा की नैतिक दुविधा और अहिंसा के बारे में चर्चा करते हुए, यह घटना नाटकीय रूपांतरण में प्रस्तुत की गई है । नाटक “रक्त-अभिषेक” में वर्तमान को सन्देश देता हुआ इतिहास एकदम जीवित हो उठता है |

नाटककार दयाप्रकाश सिन्हा ने नाटक में दार्शनिक सिद्धांत और कठोर यथार्थ के साथ ही आदर्श और व्यवहारिक सत्य, अकर्म और कर्म, हिंसा और अहिंसा के बीच मानव के द्वन्द को गहन सघनता से पेश किया है। नाटक हमें अहिंसा के अधूरे ज्ञान को पुनर्विचार करने के लिए विवश करता है। यह भारतीय इतिहास की एकमात्र सैनिक तख्ता-पलट की घटना है जो रक्त अभिषेक में रूपायित की गयी है |

सिकंदर के भारत विजय के अधूरे स्वप्न को पूरा करने के उद्देश्य से और सम्राट चन्द्रगुप्त मौर्य द्वारा सेल्यूकस की पराजय का प्रतिशोध लेने हेतु, ग्रीस का राजा मिनेन्डर भारत पर निरंतर आक्रमण कर रहा था | दूसरी और पाटलिपुत्र के सिंहासन पर बैठा अन्तिम मौर्य सम्राट बृह्द्रथ अहिंसा में अपने अधंविश्वास के कारण साम्राज्य की रक्षा करने में अक्षम साबित हो रहा था | सम्राट बृह्द्रथ की सैनिक रणनीति और निर्णय क्षमता, भारतीय सुरक्षा तंत्र को अक्षम कर देती है। यवनों की आक्रमणकरी सेना बड़ते हुए अयोध्या पहुँच चुकी थी | उनका लक्ष्य था पाटलिपुत्र पर विजय | धर्म महामात्य भंते संघरक्षित (यवन टाईटस) और महामात्य अन्टोनिया, सम्राट को प्रभावित कर छल से, सेनापति पुष्यमित्र शुंग के विरोध के बाबजूद भी सेना को भंग करने का निर्णय स्वीकार करवा लेते हैं |

इतिहास के इस निर्णायक मोड़ पर मौर्य सेना का नायक पुष्यमित्र शुंग राष्ट्र की रक्षा करने के लिए आगे आता है और देश को यूनानी दासता से बचाता है | और इस निर्णायक मोड़ पर आचार्य पतंजलि का उपदेश, सेनापति शुंग को यवनों से राष्ट्र की रक्षा करने के लिए एक ऐसा कदम उठाने पर विवश करता है जो भारतीय इतिहास की एकमात्र घटना है |

आचार्य पतंजलि अपरोक्ष रूप से सेनापति को उपदेश देते हैं की राष्ट्र, राजा से ऊपर है और देश की रक्षा करना ही तुम्हारा धर्म है | और राष्ट्र की रक्षा के बीच में जो भी आता है उसे समाप्त करना ही सेनापति का कर्त्तव्य है |

इस ऐतिहासिक नाटक का मंचन “भारत नवनिर्माण ट्रस्ट” के अन्तर्गत आयोजित किया गया | भारतीय धरोहर, श्री वार्ष्णेय समाज ट्रस्ट एवं उ. प्र. उद्योग व्यापर मंडल, कार्यक्रम के सहयोगी संगठन थे |

कार्यक्रम अध्यक्ष श्री देवी शरण शर्मा ने बताया कि इस नाटक से अपने गौरवशाली इतिहास की झलक आगे आने वाली पीढ़ी को मिलती है |

इस दौरान भाजपा जिला अध्यक्ष विजय भाटी, ट्रस्ट के अध्यक्ष कुलदीप शर्मा, सचिव प्रोफ विवेक कुमार, कोषाध्यक्ष ललित शर्मा, नरेश कुमार गुप्ता, सौरभ बंसल, नन्द लाल सैनी, संजीव गुप्ता, तरुण कुमार, अनिल तायल, विवेक अरोरा, अवधेश पांडे, डॉ सुधीर सिंह, प्रवीण तोमर, बीना अरोरा, सरोज तोमर, नेहा अग्रवाल आदि सदस्य उपस्थित थे | कार्यक्रम का सञ्चालन भारतीय धरोहर के संगठन महामंत्री प्रवीण शर्मा एवं प्रोफेसर विवेक कुमार ने किया |

Greater Noida Police attacks woman at police station

ग्रेटर नोएडा-थानेदार ने पुलिस की मर्यादा की तार तार, उम्रदराज महिला को थाने से घुसा मार कर बाहर निकाला, कैमरे में कैद हुई थानेदार की शर्मनाक हरकत, दनकौर थानाध्यक्ष फरमूद अली भूले डीजीपी की नसीहत, थाने में बंद अपने बेटे से मिलने आई थी पीड़ित महिला, पीड़ित महिला का थानाध्यक्ष पर आरोप, बेटे को थर्ड डिग्री टॉर्चर किया, चोरी के आरोप में 2 दिन से थाने में बैठाया हुआ हैं बेटा, थानाध्यक्ष का बूढ़ी महिला को धक्का देते और घूसा मारते का वीडियो सोशल साइट्स पर वायरल।

A day after #SOGCorruption scandal, DGP OP Singh reaches Greater Noida, takes meeting with officials!

DGP OP Singh has reached Greater Noida on an publicly unannounced visit. He is taking a meeting of senior officials at Gautam Buddha University. The issue of discussions and purpose behind visit is still unclear.

It must be noted that just a day before a whatsapp message with alleged screenshot of bribery distribution and collection has went viral in the district.

व्यापारियों से रुपए वसूलने वाला फर्जी फू ड इंस्पेक्टर हुआ गिरफ्तार

जिला अभिहित अधिकारी खाद्य सुरक्षा एवं औषधि प्रशासन गौतम बुद्ध नगर संजय शर्मा ने जानकारी देते हुए अवगत कराया है कि विभाग को कई दिनों से सूचना मिल रही थी कि कोई व्यक्ति फर्जी फूड इंस्पेक्टर बन कर व्यापारियों से रुपए ले रहा है। जिलाधिकारी के निर्देश पर विभाग द्वारा व्यापार संगठनों के प्रतिनिधियों के माध्यम से व्यापारियों को सचेत किया गया। कल शाम लगभग 4 बजे सेक्टर 10 स्थित शर्मा फूड फैक्ट्री में संदिग्ध व्यक्ति के पहुंचने पर मालिक द्वारा मुख्य खाद्य सुरक्षा अधिकारी सुरेंद्र वर्मा से संपर्क किया गया।

सुरेंद्र वर्मा के निर्देश पर व्यापारियों ने उस व्यक्ति को बातों में उलझाए रखा इसी बीच सुरेंद्र वर्मा ने वहां पहुंचकर उस व्यक्ति की तहकीकात की तथा व्यापारियों के माध्यम से उस व्यक्ति को थाने में ले आएl थाने में आने पर उस व्यक्ति ने अपना नाम अरविंद कुशवाहा पुत्र सुदर्शन कुशवाहा हाल निवासी सेक्टर 22 नोएडा बताया। मुख्य खाद्य सुरक्षा अधिकारी द्वारा विभाग की ओर से इस व्यक्ति के विरुद्ध मौके पर मौजूद व्यापार संगठन के प्रतिनिधि नरेश कुच्छल एवं अन्य व्यापारियों के साथ मिलकर मुक़दमा दर्ज कराया गया l पुलिस विभाग के द्वारा इस व्यक्ति की जांच पड़ताल कर इससे जुड़े नेटवर्क की संभावनाओं की भी जांच की जा रही है

भारत नवनिर्माण ट्रस् ट द्वारा “रक्त अभिषेक” नाटक का मंचन 19 मई क ो यूनाइटेड कॉलेज में।

ग्रेटर नॉएडा | भारत नवनिर्माण ट्रस्ट के सौजन्य से देश भक्ति की अनसुनी गाथा पर आधारित, श्री दया प्रकाश सिन्हा(पूर्व IAS) द्वारा लिखित व निर्देशित, ऐतिहासिक नाटक“रक्त-अभिषेक” का लाइट व साउंड के माध्यम सेभव्य मंचन19 मई दिन शनिवार को सायं 5 बजे से यूनाइटेड कॉलेज ऑफ़ इंजीनियरिंग एंड रिसर्च, 50 नॉलेज पार्क 3, निकट एक्सपो मार्ट, के सभागार में किया जा रहा है | ट्रस्ट के अध्यक्ष कुलदीप शर्मा ने बताया कि कार्यक्रम में श्रीमान सुनील बंसल जी (प्रदेश संगठन महामंत्री भाजपा ) मुख्य अतिथि के रूप में पधार रहें हैं | श्री विजय शंकर तिवारी, राष्ट्रीय प्रवक्ता-विश्व हिन्दू परिषद् एवं महामंत्री भारतीय धरोहर, माननीय तेजपाल नागर, विधायक दादरी, माननीय धीरेन्द्र सिंह, विधायक जेवर एवं श्री हरीश चन्द भाटी, पूर्व मंत्री विशिष्ट अतिथि के रूप में रहेंगे | कार्यक्रम की अध्यक्षता श्री देवी शरण शर्मा ऐडवोकेट, डीजीसी सिविल करेंगे |

कार्यक्रम में प्रवेश निःशुल्क है लेकिन उचित व्यवस्था के लिए प्रवेश केवल निमंत्रण पत्र द्वारा ही होगा | कार्यक्रम की तैयारीयों के लिए ट्रस्ट के आजीवन संरक्षक सदस्यों एवं आजीवन सदस्यों की एक बैठक भारतीयम स्कूल, डेल्टा 1 में आयोजित की गयी | कार्यक्रम के संयोजक श्री ओमप्रकाश गुप्ता ने बताया कि राष्ट्रीय सुरक्षा नीति पर आधारित इस नाटक का मंचन 22 सदी पहले, मौर्य साम्राज्य के अन्तिम सम्राट बृह्द्रथ के समयघटित ऐतिहासिक घटना से समाज को अवगत करना है | कार्यक्रम में श्री राजेश गुप्ता, वाईस चेयरमैन, GNIOT ग्रुप, स्वागत अध्यक्ष रहेंगे |

गलगोटिया कॉलेज, ग्रेटर नॉएडा ने सी शार्प क ार्नर के साथ किआ करार

गलगोटिया कॉलेज ऑफ़ इंजीनियरिंग एंड टेक्नोलॉजी, ग्रेटर नॉएडा ने सी शार्प कार्नर के साथ करार किआ है जो की एक ऑनलाइन बढ़ती हुई डेवलपमेंट कम्युनिटी है माइक्रोसॉफ्ट के डेवेलपर्स के लिए| सी शार्प ऑनलाइन कम्युनिटी को तक़रीबन ५ मिलियन से ज़ादा लोग विजिट करते है, इसके करीब ३ मिलियन से ज़ादा यूजर है|

इस करार के अंतर्गत छात्रों को नई तकनीक की जानकारी एवं प्रशिछड़ दिया जाएगा| इन बातो का ध्यान रखते हुए कॉलेज परिसर में एक उत्कृष्टता केंद्र भी खोला गया है| गलगोटिया कॉलेज ऑफ इंजीनियरिंग एंड टेक्नोलॉजी, ग्रेटर नोएडा, में जहां एक ओर बी-टेक और एमसीए के छात्रों को उद्योग विशेषज्ञों द्वारा विभिन्न अत्याधुनिक प्रौद्योगिकियों पर प्रशिक्षण प्रदान किया जाएगा वही दूसरी ओर उनके कैरियर का मार्गदर्शन तथा नियुक्ति में सहायता के लिए नियुक्ति कक्ष भी स्थापित किया जाएगा।

कॉलेज के सीईओ श्री ध्रुव गलगोटिया और डायरेक्टर श्री वी. के. दिवेदी जी ने उत्कृष्टता केंद्र का उद्घाटन सी.एस.ई. और आई.टी. के हेड ऑफ़ डिपार्टमेंट, डॉक्टर विष्णु शर्मा, ऍम.सी.ए. के हेड ऑफ़ डिपार्टमेंट डॉक्टर गगन तिवारी और सी शार्प कॉर्नर के प्रतिनिधियों की एक टीम जिसमें श्री दिनेश बेनिवाल, सी शार्प कार्नर में कंटेंट एंड मार्केटिंग के उपाध्यक्ष की उपस्थिति में उद्घाटन किया|

सी शार्प कॉर्नर के विशेषज्ञों की टीम कॉलेज के प्रोफेसरों के साथ मिलकर काम करेगी और पाठ्यक्रम जल्द ही अनुभवी प्रशिक्षकों द्वारा डिजाइन किया जाएगा ताकि छात्र पूरी तरह से लाभान्वित हो सकें और अपने भविष्य में सफलता प्राप्त कर सकें।

मौत को दावत देता पी 3 के पास नाले पर बना पुल

*मौत को दावत देता पी 3 के पास नाले पर बना पुल*

सरकारी तंत्र तब जागता है जब कोई हादसा हो जाता है । इसका ताज़ा उदाहरण है फेज 2 में यूनीपोल से दब कर महिला की मौत । मौत के बाद सरकारी तंत्र ने रातों रात जिले के सारे अवैध पोल हटवा दिए ।

ऐसा ही कोई हादसा, पी 3 के पास नाले पर बने पुल पर, जब किसी को अपना ग्रास बनाएगा तब आंखें खुलेंगी सरकारी तंत्र की । तब कुछ जूनियर अधिकारी दिखावे के लिए ससपेंड होंगे और फिर कुछ दिन के बाद कोई दूसरा हादसा ।

इस पुराने, लो हाइट और नैरो पुल में कोई अच्छाई नहीं है । बस खामियां ही खामियां हैं ।

संभवतः ये पुल ग्रेटर नोएडा की स्थापना के समय बना होगा । उस समय इस सड़क पर इतना यातायात नहीं होगा । अब ये सड़क दिल्ली और नोएडा से जोड़ने वाली व्यस्ततम सड़कों में से एक है । ग्रेटर नोएडा के पूर्वोत्तर के सभी सेक्टर, इसी पुल के माध्यम से, एक्सप्रेस वे होते हुए, सीधे दिल्ली, नोएडा और आगरा से जुड़े हुए हैं । इस पुल की कुछ खामियां –

√ ये पुल बहुत ही सकरा है ।
√ इस पुल पर पैदल यात्रियों के लिए कोई भी पथ नहीं है ।
√ पुल से ही सटी, हुई ऐन आर आई को जाती, एक सर्विस लेन है जो सदैव ही उल्टी दिशा में चलने वाले दुःसाहसी लोगों को आकर्षित करती है ।
√ पुल की रेलिंग बहुत ही कमज़ोर व नीची है ।
√ इस पुल पर गाड़ी धीमी चलाने, उल्टी दिशा में न चलने, पैदल/सायकल यात्रियों को वरीयता व सम्मान देने जैसी कोई भी सलाह-पट्टियां नहीं लगी हुई हैं ।

गौतम बुद्ध नगर के अधिकारियो, निवेदन है कि मेरे द्वारा लिखे उपरोक्त विन्दुओं पर विचार करें और इस पुल का नव-निर्माण करा कर कोई बड़ा हादसा होने से पहले ही रोक लें । पहले भी इस स्थान पर कई हादसे हो चुके हैं । लोगों की जान अब आपके ही हाथ में है ।

निवेदक
हरेन्द्र भाटी
एक्टिव सिटीजन टीम

गौतम बुद्ध नगर के एसएसपी डॉ अजय पाल शर्मा न े एसओजी टीम को किया लाइन हाजिर …

गौतम बुद्ध नगर के एसएसपी डॉ अजय पाल शर्मा ने एसओजी टीम को किया लाइन हाजिर …

एसओजी टीम में पैसे के बटवारे को लेकर हुआ जमकर हंगामा …

दो पुलिसकर्मियो में जमकर चले लात-घूसे –

एसओजी के कॉस्टेबल ने डीजीपी ऑफिस भेजा सारा चिट्ठा पुलिस महकमे में मची खलबली अधिकारियों ने की जांच शुरू ……
नोएडा से लेकर ग्रेटर नोएडा तक सरिया और सीमेंट और होटलों से आता था मोटा पैसा ……
उसके बाद होता था खेल कितना पैसा किस चीज में हुआ खर्च और किस अधिकारी को गया कितना पैसा…..
कितने पैसे में हुए टिकट कितने पैसे में हुआ घूमने का खर्चा….